सोमवार, अगस्त 8, 2022
सोमवार, अगस्त 8, 2022

होमFact Checkक्या पाकिस्तान में शुरु किया गया मंदिर बनाओ अभियान? जाने क्या है...

क्या पाकिस्तान में शुरु किया गया मंदिर बनाओ अभियान? जाने क्या है वायरल दावे की सच्चाई

पाकिस्तान में भीड़ द्वारा एक मंदिर तोड़ा गया था। ऐसे में सोशल मीडिया पर एक तस्वीर शेयर करते हुए दावा किया जा रहा है कि पाकिस्तान में मुस्लिमों ने ‘मंदिर बनाओ’ का अभियान शुरु कर दिया है। वायरल तस्वीर में कुछ लोगों को हाथ में पोस्टर और बैनर लिए हुए देखा जा सकता है जिस पर मंदिर बनाओ लिखा हुआ है। बैनर के बायी और दायी ओर पाकिस्तान के झंडों को भी देखा जा सकता है।

इस दावे को ट्विटर पर अलग-अलग यूज़र्स द्वारा शेयर किया जा रहा है।

फेसबुक पर भी कई यूज़र्स द्वारा ये दावा शेयर किया जा रहा है।

https://www.facebook.com/aabid.shekh.140/posts/1353945241634831
https://www.facebook.com/aabid.shekh.140/posts/1353945241634831
https://www.facebook.com/mayank.k.12382/posts/740200220237485

वायरल पोस्ट के आर्काइव वर्ज़न को यहां और यहां देखा जा सकता है।

Fact Checking/Verification

‘मंदिर बनाओ’ अभियान को लेकर किए जा रहे दावे की सत्यता जानने के लिए हमने पड़ताल शुरु की। Google Keywords Search की मदद से खोजने पर हमें वायरल दावे से संबंधित कोई मीडिया रिपोर्ट नहीं मिली।

अभियान

पड़ताल जारी रखते हुए हमने वायरल तस्वीर को Google Reverse Image Search की मदद से खंगाला। इस दौरान हमें वायरल तस्वीर से संबंधित कई परिणाम मिले।

अभियान

पड़ताल के दौरान हमें 11 जुलाई, 2020 को Deccan Herald और Times of India द्वारा प्रकाशित की गई मीडिया रिपोर्ट्स मिली। इन रिपोर्ट्स के मुताबिक यह तस्वीर उस दौरान की है जब इस्लामाबाद में कुछ लोगों ने हिंदू मंदिर बनाने के लिए एक रैली की थी। वायरल तस्वीर हाल फिलहाल की नहीं बल्कि जुलाई, 2020 की है।

 अभियान

अधिक खोजने पर हमने पाया कि Getty Images पर 8 जुलाई, 2020 को वायरल तस्वीर को अपलोड किया गया था। यह तस्वीर इस्लामाबाद में मंदिर बनाने को लेकर निकाली गई रैली की है।

अभियान

YouTube खंगालने पर हमें NewsX के आधिकारिक चैनल पर 9 जुलाई, 2020 को अपलोड की गई एक वीडियो मिली। इस वीडियो में बताया गया है कि इस्लामाबाद में मंदिर बनवाने को लेकर रैली निकाली गई थी।

Conclusion

सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म पर वायरल हो रही तस्वीर का बारीकी से अध्ययन करने पर हमने पाया कि 6 महीने पुरानी तस्वीर को भ्रामक दावे के साथ शेयर किया जा रहा है। वायरल तस्वीर का पाकिस्तान के खबैर पख्तूनख्ता प्रांत के कोहाट के करक जिले में हुई घटना से कोई लेना-देना नहीं है।

Result: Misplaced Context


Our Sources

Deccan Herald https://www.deccanherald.com/international/world-news-politics/pakistan-ulema-council-supports-construction-of-first-hindu-temple-in-islamabad-859953.html

Times of India https://timesofindia.indiatimes.com/india/pak-civil-society-rejects-hardliners-temple-call/articleshow/76906517.cms

Getty Images https://www.gettyimages.in/detail/news-photo/demonstrators-hold-placards-during-a-protest-in-islamabad-news-photo/1225683564?irgwc=1&esource=AFF_GI_IR_TinEye_77643&asid=TinEye&cid=GI&utm_medium=affiliate&utm_source=TinEye&utm_content=77643


किसी संदिग्ध ख़बर की पड़ताल, संशोधन या अन्य सुझावों के लिए हमें WhatsApp करें: 9999499044  या ई-मेल करें: [email protected]

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें

Most Popular