सोमवार, जून 27, 2022
सोमवार, जून 27, 2022

होमहिंदीअमेरिकी एयरपोर्ट पर ड्रग्स के साथ पकड़े गए थे राहुल गांधी, मुस्लिम...

अमेरिकी एयरपोर्ट पर ड्रग्स के साथ पकड़े गए थे राहुल गांधी, मुस्लिम शरणार्थी ने बच्चे पर किया हमला जैसी अन्य फ़ेक ख़बरें

किन भ्रामक खबरों ने इन दिनों सोशल मीडिया पर सुर्खियाँ बटोरी, यहाँ पढ़ें एक सभी साप्ताहिक खबरों का संक्षिप्त वर्णन। 

2017 में नोएडा यमुना एक्सप्रेस वे पर हुई गाड़ियों की टक्कर के वीडियो को मुंबई-पुणे के एक्सप्रेस की घटना बताया गया

सोशल मीडिया पर एक वीडियो शेयर कर दावा किया जा रहा है कि मुंबई-पुणे एक्सप्रेस-वे पर टोल नाका के बाद लोनावला सेक्टर पार करते समय सभी वाहन सावधान रहें।

 

लेकिन  Hindustan Times और India Today पर प्रकाशित लेख से पता चला कि वीडियो 7 नवंबर 2017 को नोएडा यमुना एक्सप्रेस-वे पर शूट किया गया था जहां घने कोहरे के चलते एक साथ 18 गाड़ियों की आपस में टक्कर हो गई थी। 

यूपी पुलिस की लाठी से घायल हुए मुज़फ्फरनगर के मौलाना की तस्वीर को शेयर कर सोशल मीडिया पर बताया कानपुर का दंगाई मौलाना

सोशल मीडिया के एक पोस्ट में मौलाना की दो तस्वीरें वायरल हो रही हैं। एक तस्वीर में उसे पत्थर फेंकने वाली मुद्रा में देखा जा सकता है वहीं दूसरी तस्वीर में उसे घायल होकर अपने बिस्तर पर बैठे हुए देखा जा सकता है। पोस्ट में दावा किया गया है कि एक मौलाना को पहले NRC और CAA के विरोध में लोगों पर पत्थर फेंकते देखा गया बाद में उसी मौलाना ने अपनी जख्मों की तस्वीर सोशल मीडिया पर शेयर कर बताया पुलिस की बर्बरता।

  

जबकि Press Reader नामक वेबसाइट पर प्रकाशित लेख और ट्विटर पर महाराष्ट्र विधायक ‘वारिस पठान’ के ट्वीट के मुताबिक यह दोनों तस्वीरें दो अलग-अलग मौलाना की है।

जहाँ एक तरफ पत्थर फेंकने वाला मौलाना कानपुर से है, वहीं दूसरी तरफ घायल मौलाना की तस्वीर मुज़फ़्फ़रनगर के एक मदरसे के मौलवी ‘Moulana Syed raza hussaini’ की है  

मुस्लिम शरणार्थी द्वारा बच्चे पर नहीं किया गया हमला, सोशल मीडिया पर भ्रामक दावे के साथ वायरल हुई घायल बच्चे की तस्वीर

ट्विटर पर एक घायल बच्चे की तस्वीर शेयर कर बताया नीली आँखों वाले स्वीडिश बच्चे पर एक मुस्लिम शरणार्थी द्वारा हमला किया गया 

वहीं  dailymail.co.uk नामक वेबसाइट पर प्रकाशित लेख से पता चला कि साल 2008 में ‘यूके’ के शहर ‘कार्डिफ़’ में एक पिता अपने घर में ‘रॉटविलर’ नस्ल नामक एक कुत्ता लेकर आये थे जिसने उनकी बेटी ‘सोफ़िया विल्स‘ पर घातक हमला कर दिया था।

2016 का वीडियो सोशल मीडिया पर कांग्रेस नेता ने किया वायरल

राजस्थान के जहाज़पुर से कांग्रेस पार्टी के पूर्व विधायक ‘धीरज गुर्जर’ ने सोशल मीडिया पर एक वीडियो शेयर किया जहां पुलिस जवानों तथा सादे कपड़ों में कुछ युवकों को प्रदर्शन कर रहे युवक-युवतियों की बर्बरता से पिटाई करते देखा जा सकता है। वीडियो में सवाल पूछा जा रहा है कि पुलिस जवानों के साथ जो युवक नजर आ रहे है वो कौन हैं।

नई-दुनिया की वेबसाइट पर प्रकाशित हुए लेख और NDTV पर प्रसारित हुए वीडियो से पता चला कि वीडियो साल 2016 का है, दरअसल वीडियो की यह घटना 30 जनवरी 2016 को उस दौरान की है जब ‘रोहित वेमुला’ की आत्‍महत्‍या के बाद दिल्‍ली में मानव संसाधन मंत्री स्‍म‍ृति ईरानी और आरएसएस के खिलाफ JNU के छात्र प्रदर्शन करते-करते सड़कों पर उतरे थे। 

सपा नेता ‘माविया अली’ द्वारा दिया गया कुछ साल पुराना बयान सोशल मीडिया पर हुआ वायरल

ट्विटर पर एक पोस्ट में किसी न्यूज़ चैनल का वीडियो अपलोड हुआ है जहां वीडियो में एक शख्स को यह कहते हुए सुना जा सकता है कि सबसे पहले हम मुसलमान हैं और बाद में हिंदुस्तानी। अगर किसी कानून से इस्लाम का टकराव होता है तो हम इस्लाम के साथ हैं। हम उस संविधान/कानून को मानने को तैयार नहीं है।

वहीं  दैनिक जागरण और नवभारत टाइम्स  की वेबसाइट पर प्रकाशित लेख से पता चला कि वीडियो में बयान देने वाला व्यक्ति सहारनपुर के देवबंद से विधायक रह चुके समाजवादी पार्टी के नेता ‘माविया अली’ हैं जिन्होंने विधानसभा चुनाव हारने के बाद यह विवादित बयान दिया था। दरअसल उत्तर प्रदेश सरकार ने मदरसों में स्वतंत्रता दिवस के मौके पर वंदे मातरम गाने और वीडियो रिकॉर्डिंग करने को अनिवार्य कर दिया था। जिसके विरोध में SP नेता ने विवादित बयान दिया था। इस मामले में माविया ने टीवी चैनल पर बहस के दौरान कहा कि पहले हम मुसलमान हैं फिर हिंदुस्तानी। दुनिया में कहीं भी मुसलमान हो, वो पहले मुसलमान है फिर किसी देश का नागरिक। 

US डॉलर और ड्रग्स के साथ बोस्टन के एयरपोर्ट पर पकड़े गए राहुल गाँधी!

ट्विटर पर मधु पूर्णिमा किश्वर नाम की एक सामाजिक कार्यकर्ता ने अख़बार की एक कटिंग शेयर की है जहां यह बताया जा रहा है कि भारत के पूर्व प्रधानमंत्री के बेटे राहुल गांधी को बोस्टन एयरपोर्ट में यूएस डॉलर और ड्रग्स के साथ गिरफ्तार किया गया था जिसे बाद में भारतीय दूत से बात करने के बाद छोड़ा गया।

जबकि Alt news ने मामले की जाँच करते हुए अपने एक लेख में इसे गलत ठहराया है साथ ही एक वीडियो के माध्यम से यह भी जानकारी दी है की कैसे फेक न्यूज़ पेपर कटिंग  www.fordey.com नामक वेबसाइट के माध्यम से बनाई जा सकती है।  

फेक ख़बरों और तस्वीरों को पहचानना बेहद आसान है, जरूरत है तो बस थोड़ा-सा जागरुक रहने की। फेक न्यूज से लड़ने के लिए हमारा साथ दें। Newschecker सोशल मीडिया पर भी मौजूद हैं, फेक न्यूज़ से संबंधित किसी भी जानकारी के लिए हमें टैग करें।

फेसबुक के लिए: Newschecker @Facebook

ट्विटर के लिए: Newschecker @Twitter

(किसी संदिग्ध ख़बर की पड़ताल, संशोधन या अन्य सुझावों के लिए हमें WhatsApp करें: 9999499044)
Nupendra Singh
Nupendra Singh
A rapid increase in the rate of fake news and its ill effect on society encouraged Nupendra to work as a fact-checker. He believes one should always check the facts before sharing any information with others. He did his Masters in Journalism & Mass Communication from Lucknow University.
Nupendra Singh
Nupendra Singh
A rapid increase in the rate of fake news and its ill effect on society encouraged Nupendra to work as a fact-checker. He believes one should always check the facts before sharing any information with others. He did his Masters in Journalism & Mass Communication from Lucknow University.

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें

Most Popular