मंगलवार, अगस्त 9, 2022
मंगलवार, अगस्त 9, 2022

होमहिंदीहोली पर चीनी सामानों को ना खरीदने की अपील करता फ़र्ज़ी पत्र...

होली पर चीनी सामानों को ना खरीदने की अपील करता फ़र्ज़ी पत्र सोशल मीडिया में वायरल

Claim:

भारत में होली का त्यौहार आने वाला है और चीन इन दिनों कोरोना वायरस से प्रभावित है। होली पर जितने भी रंग-गुलाल और मास्क आदि चीज़े चीन से आती हैं यह सभी चीन के Hunei से बनकर आती है जहां कोरोना वायरस का कहर छाया हुआ है। आप सभी से अपील है कि चीन से आने वाले सामान नहीं खरीदें।

Verification:

चीन के वुहान से फैला कोरोना वायरस अब तक दुनिया के कई देशों में फैल चुका है। वहीं चीन में इस वायरस के कहर से मरने वालों की संख्या 3000 को पार कर गई है। अब तक 40 देशों में इसके संदिग्ध मामले सामने आ चुके हैं। आप सभी को पता है कि कुछ दिनों में भारत में होली का त्यौहार आने वाला है। ऐसे में शेयरचैट, फेसबुक और ट्विटर पर World Health Organization द्वारा जारी की गई एक एडवाइजरी का स्क्रीनशॉट वायरल हो रहा है।

दावा किया जा रहा है कि होली पर जितने भी रंग-गुलाल और मास्क आदि चीज़े चीन से आती हैं वे Hunei से बनकर आती हैं, जहां कोरोना वायरस का कहर छाया हुआ है। ऐसे में आप सभी से अपील है कि चीन से आने वाले सामान नहीं खरीदें। 

नीचे देखा जा सकता है कि वायरल दावे को फेसबुक  और ट्विटर पर कई यूजर्स द्वारा शेयर किया जा रहा है।  

क्या है वायरल मैसेज का सच?

कुछ कीवर्ड्स की मदद से हमने सोशल मीडिया पर वायरल हो रहे मैसेज को खंगाला। पड़ताल के दौरान सबसे पहले हमने विश्व स्वास्थ्य संगठन (World Health Organization) और भारत के स्वास्थ्य मंत्रालय (Ministry of Health & Welfare) की आधिकारिक वेबसाइट को बारीकी से खोजा। इस दौरान हमें विश्व स्वास्थ्य संगठन और स्वास्थ्य मंत्रालय की वेबसाइट पर वायरल हो रहे संदेश के बारे में कोई ठोस जानकारी नहीं मिली।

वायरल दावे की तह तक जाने के लिए हमने अलग-अलग कीवर्ड्स की मदद से मीडिया रिपोर्ट्स को भी खंगाला। खोज के दौरान हमें वायरल संदेशों से संबंधित कोई मीडिया रिपोर्ट नहीं मिली। हमने यह भी जानने की कोशिश कि कैसे इस भयानक वायरस से बच सकते हैं और यह कैसे फैलता है।

डॉक्टरों की मानें तो कोरोना वायरस संक्रमित शख्स के संपर्क में आने से ही यह वायरस फैलता है। खोज के दौरान हमें Centers for Disease Control and Prevention (CDC) की एक रिपोर्ट मिली। रिपोर्ट के मुताबिक़ (COVID-19) का अभी कोई इलाज नहीं आया है। वैज्ञानिक और डॉक्टर्स इस खतरनाक वायरस से निपटने की तैयारी में जुटे हैं।

हमारी जांच यह साबित करती है कि सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा संदेश फर्जी है। Newschecker टीम ने पहले भी कोरोना वायरस के बारे में कई दावों की जांच की है जिसको आप हमारी वेवसाइट पर अलग-अलग भाषाओं में देख सकते हैं। 

Tools Used:

Google Keywords Search  

Result: False

(किसी संदिग्ध ख़बर की पड़ताल, संशोधन या अन्य सुझावों के लिए हमें WhatsApp करें: 9999499044  या ई-मेल करें: [email protected])

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें

Most Popular