शनिवार, नवम्बर 26, 2022
शनिवार, नवम्बर 26, 2022

होमहिंदीहैदराबाद के वीडियो को असम NRC विरोध प्रदर्शन का बताकर किया जा...

हैदराबाद के वीडियो को असम NRC विरोध प्रदर्शन का बताकर किया जा रहा शेयर

Claim:

असम में NRC में नाम नहीं होने पर घर से ऐसे उठाया जाता है। वीडियो में नज़र आ रहे लोगों का नाम NRC में नहीं है इसलिए इनको घर से उठाया जा रहा है। अगर आज आपका विरोध बंद हो जाए तो कल आपकी हाल ऐसा ही होगा। 

Verification:

नागरिकता संशोधन कानून (सीएए) और राष्ट्रीय नागरिकता रजिस्टर (एनआरसी) के खिलाफ देशभर में कई जगहों पर विरोध प्रदर्शन चल रहा है। उत्तर प्रदेश में भी (CAA) और (NRC) के खिलाफ कई लोग सड़क पर उतर आए हैं और उग्र प्रदर्शन कर रहे हैं। राजधानी दिल्ली, बंगाल, असम उत्तर प्रदेश जैसे कई राज्यों में इस कानून को लेकर विरोध प्रदर्शन हुआ।

इसी खबर से संबंधित फेसबुक पर 3 वीडियो और एक तस्वीर शेयर हो रही है। वायरल वीडियो में पुलिसवाले कुछ लोगों को हिरासत में लेते हुए नज़र आ रहे हैं। फेसबुक पर दावा किया जा रहा है कि यह असम का वीडियो है और असम में NRC में नाम नहीं होने पर घर से ऐसे उठाया जाता है। वीडियो में नज़र आ रहे लोगों का नाम NRC में नहीं है इसलिए इनको घर से उठाया जा रहा है। 

कुछ टूल्स की मदद से हमने फेसबुक पर वायरल हो रही वीडियो को खंगाला। वहीं वीडियो को ध्यान से देखने पर लोगों को हिरासत में ले रही पुलिसकर्मी की वर्दी पर लगी एक लोगो नज़र आया। टूल्स की मदद से लोगो को खंगालने पर हमने जाना कि वीडियो में नज़र आ रहे पुलिसकर्मी तेलंगाना पुलिस के जवान हैं। 

हांलाकि अगर आप वीडियो को ध्यान से सुनेंगे तो आपको तेलगु में बात करने की भी आवाज़ भी आएगी। 

You Tube खंगालने पर हमें Siasat Daily का एक वीडियो मिला जो कि 19 दिसंबर, 2019 को अपलोड हुआ था। सियासत डेली के वीडियो में देखा जा सकता है कि फेसबुक पर वायरल हो रहे वीडियो का इस्तेमाल यहां किया गया है। दरअसल हैदराबाद में पुलिस ने (CAA) और (NRC) के खिलाफ प्रदर्शन कर लोगों को हिरासत में लिया।

अब बात करते हैं वायरल तस्वीर की जिसके साथ दावा किया जा रहा है कि इस तरह के हालात में रहना आप को मंजूर है तो फिर आपका चुप रहना लाज़मी है। यह असम के डिटेंशन सेंटर की एक तस्वीर। 

Google Reverse Image की मदद से पड़ताल के दौरान हमें CNBC का एक लेख मिला। लेख से हमने जाना कि फेसबुक पर वायरल हो रही तस्वीर जून 2019 की है। लेकिन वायरल हो रही तस्वीर असम के डिटेंशन सेंटर की नहीं बल्कि U.S. के Texas की है। लेकिन लोगों को भ्रमित करने के लिए Texas की तस्वीर को असम का बताकर शेयर किया जा रहा है।   

The US won’t provide flu vaccines to migrant families at border detention camps

The U.S. won’t be vaccinating migrant families in holding centers ahead of this year’s flu season, despite calls from doctors to boost efforts to fight the infection that’s killed at least three children at detention facilities in the past year.

हमारी पड़ताल में हमने फेसबुक पर वायरल हो रही वीडियो को हैदराबाद का पाया है। जबकि  लोगों को भ्रमित करने के लिए सोशल मीडिया पर वायरल हो रही वीडियो को असम का बताकर शेयर किया जा रहा है। 

Tools Used:

Google Keywords Search

Google Reverse Image Search 

You Tube Search 

Result: Misleading 

(किसी संदिग्ध ख़बर की पड़ताल, संशोधन या अन्य सुझावों के लिए हमें ई-मेल करें: [email protected])

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें

Most Popular