शुक्रवार, दिसम्बर 9, 2022
शुक्रवार, दिसम्बर 9, 2022

होमहिंदीमहाराष्ट्र में शिव प्रतिमा को लेकर किया जा रहा है झूठा दावा

महाराष्ट्र में शिव प्रतिमा को लेकर किया जा रहा है झूठा दावा

Claim

समुदाय विशेष ने तोड़ी महाराष्ट्र के गोंदिया में स्थित 400 साल पुरानी शिव मूर्ति

Verification

दरअसल सोशल मीडिया पर एक खबर लगातार तूल पकड़ रही है जिसमें दावा किया जा रहा है कि महाराष्ट्र के गोंदिया में मौजूद शिव प्रतिमा को समुदाय विशेष के लोगों ने तोड़ दिया है।

एक यूजर ने लिखा है कि “आज ही स्थानीय मीडिया में यह बात सामने आई है कि शिव की यह विशाल मूर्ति कुछ ‘शांतिदूतों’ ने तोड़ दी है। शांति दूतों ने असल में भगवान की प्रतिमा नहीं, बल्कि सौहार्द को तोड़ा है और यह सन्देश दिया है कि ‘गंगा-जमुनी तहजीब’ कुछ नहीं होती है।” इस खबर को ट्विटर और फेसबूक पर अलग-अलग दावों के साथ लगातार शेयर किया जा रहा है।

दरअसल महाराष्ट्र के गोंदिया में एक पहाड़ी पर 20 फीट ऊंची भगवान शिव की मूर्ति है जिसके टूटने की खबर लगातार सोशल मीडिया पर वायरल हो रही है। लेकिन प्रशासन की तरफ से बताया गया है कि मूर्ति कई जगह से जली हुई है जिसे देख कर लगता है कि आकाशीय बिजली गिरने की वजह से यह मूर्ति टूटी होगी क्योंकि पिछले कई दिनों से इलाके में भारी बारिश हो रही है। ये मूर्ति 20 फीट ऊंची थी, जिस वजह से किसी व्यक्ति द्वारा इसे तोड़ा जाना संभव नहीं लगता है। इसके साथ ही अधिकारियों ने जल्द ही नई मूर्ति स्थापित करने की बात कही है। यहां तक की राज्य के पूर्व मंत्री राजकुमार बदौले मौके पर पहुंचे और घटना के बारे में अधिकारियों से जानकारी ली। हमारी पड़ताल में पता लगा इस खबर को गलत दावों के साथ शेयर किया जा रहा है। क्योंकि महाराष्ट्र के गोंदिया में शिव जी की मूर्ति तो टूटी है लेकिन इसको शांतिदूतों द्वारा नहीं तोड़ी गई है। बल्कि शिव जी की मूर्ति आकाशीय बिजली गिरने की वजह से टूटी होगी। इसकी जांच अधिकारियों द्वारा कि जा रही है।

Tools Used

  • Google Reverse Image
  • Twitter Advanced Search

Result: Misleading

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें

Most Popular