रविवार, अक्टूबर 2, 2022
रविवार, अक्टूबर 2, 2022

होमहिंदीक्या PM मोदी ने कहा डॉक्टरों को फार्मा कंपनियां लड़कियां सप्लाई करती...

क्या PM मोदी ने कहा डॉक्टरों को फार्मा कंपनियां लड़कियां सप्लाई करती हैं?

Claim

डॉक्टर्स को खुश करने के लिए फार्मा कम्पनी लड़कियां सप्लाई करती है। पीएम मोदी क्या आप भरोसा कर सकते हैं कि ये प्रधानमंत्री की भाषा है।

Verification

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा एक ‘कथित’ टिप्पणी ने भारत में डॉक्टरों के बीच नाराजगी पैदा कर दी है। एक दावा सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा है जिसमें यह आरोप लगाया गया है कि डॉक्टर्स को खुश करने के लिए फार्मा कम्पनी लड़कियां सप्लाई करती है। पीएम मोदी क्या आप भरोसा कर सकते हैं कि ये प्रधानमंत्री की भाषा है। ट्विटर पर शाहरूख सिद्दीकी नाम के एक यूज़र ने प्रधानमंत्री पीएम मोदी को लेकर एक ट्वीट शेयर किया है। शाहरुख सिद्दीकी जो खुद को एक हिंदी कवि के रूप में संबोधित करते हैं। सोशल मीडिया पर वायरल हो रहे दावे को बॉलीवुड निर्देशक, निर्माता, लेखक, संपादक और अभिनेता अनुराग कश्यप द्वारा भी रिट्वीट किया गया है।

कुछ कीवर्ड्स और टूल्स की मदद से हमने सोशल मीडिया पर वायरल हो रहे दावे को खंगाला। Google Search की मदद से हमने सबसे पहले वायरल दावे से संबंधित मीडिया रिपोर्ट को खंगाला। पड़ताल के दौरान हमने वायरल दावे से संबंधित कई मीडिया रिपोर्ट को पाया। वायरल दावे पर हमें BBC का एक लेख मिला। लेख से हमने जाना कि वास्तव में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने इस साल जनवरी के पहले सप्ताह में शीर्ष भारतीय फार्मास्यूटिकल्स कंपनियों के साथ एक बैठक में कठित टिप्पणी की है। पीएम द्वारा कथित टिप्पणी करने के बाद इंडियन मेडिकल एसोसिएशन ने एक पत्र जारी किया है। जिसमें इस मुद्दे पर प्रधानमंत्री से स्पष्टीकरण या माफी की मांग की गई है। 

पीएम मोदी के ‘बयान’ पर IMA ने जताई आपत्ति, कहा- साबित करें या माफ़ी मांगें

इंडियन मेडिकल एसोसिएशन (आईएमए) ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के एक कथित बयान पर कड़ी आपत्ति जताई है और मांग की है कि प्रधानमंत्री या तो आरोपों से इनकार करें, साबित करें या माफ़ी मांगें.

हमें BBC की रिपोर्ट का समर्थन करने वाली कुछ और मीडिया रिपोर्टें मिलीं।

“Prove, deny or apologise” IMA asks PM Modi on statement that doctors are bribed by pharma companies

Taking strong exception to the alleged statement by the prime minister the IMA has asked the PMO to clarify if such a meeting took place or if such a statement was made by the prime minister.

“Prove, deny or apologise” IMA asks PM Modi on statement that doctors are bribed by pharma companies

Taking strong exception to the alleged statement by the prime minister the IMA has asked the PMO to clarify if such a meeting took place or if such a statement was made by the prime minister.

PM must prove his charge or apologise: IMA

The Indian Medical Association (IMA) on Tuesday asked Prime Minister Narendra Modi to deny or prove his alleged statement that top pharmaceutical companies bribed doctors with women escorts. The country’s largest doctors body demanded that the PM should apologise if he fails to do so.

PM, ‘prove or apologise’

The Indian Medical Association, the country’s largest body of doctors, on Tuesday urged Prime Minister Narendra Modi to “prove, deny, or apologise (for)” a purported statement attributed to him asking pharmaceutical companies not to bribe doctors with foreign trips, gadgets and women.

PM मोदी के लड़कियां उपलब्ध वाले बयान पर IMA ने जताई आपत्ति, कहा- माफी मांगे प्रधानमंत्री

इंडियन मेडिकल एसोसिएशन (आईएमए) ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के एक कथित बयान पर आपत्ति जताई है। साथ ही उनसे कहा है कि या तो वह अपने आरोप से इनकार करें, या साबित करें या माफी मांगें। आईएमए ने विज्ञप्ति जारी कर कहा है कि मीडिया रिपोट्र्स…

IMA seeks PM apology for bribe remark

Indian Medical Association (IMA), highest non-political platform of registered doctors across the country, slammed the Prime Minister (PM) Narendra Modi demanding apology for allegedly making statements that top pharmaceutical companies bribe doctors with women, gadgets and foreign trips. IMA has also demanded the PM to prove the charges he levelled against the medical fraternity.

‘Prove Or Apologize’: IMA Writes To PM Modi On His Comment Of Pharma Firms Bribing Doctors With Women

The national organization for the doctors in the country, Indian Medical Association (IMA), in a letter, has sought clarification from Prime Minister Narendra Modi on his statement that pharmaceutical companies are engaging in unethical marketing practices and allegedly bribing doctors with women, gadgets or foreign tours.

हालांकि, हमें Livemint द्वारा प्रकाशित एक रिपोर्ट मिली, जो बताती है कि प्रधानमंत्री द्वारा कथित टिप्पणी पहली बार द प्रिंट द्वारा रिपोर्ट की गई थी।

IMA seeks clarification over PM Modi’s alleged statement on pharma companies

“IMA takes strong exception to the statement if it has been really made by the Prime Minister. IMA seeks clarification from the office of the Prime Minister if such a meeting ever happened and if so the statement is authentic.

फिर हमने द प्रिंट द्वारा प्रकाशित रिपोर्ट की खोज की। द प्रिंट द्वारा प्रकाशित रिपोर्ट में कहा गया है कि इंडियन मेडिकल एसोसिएशन ने प्रधानमंत्री को पत्र लिखकर स्पष्टीकरण मांगा है कि क्या सरकार दवा कंपनियों के खिलाफ कार्रवाई करने की योजना बना रही है जो कथित रूप से डॉक्टरों को रिश्वत दे रही है और नैतिक विपणन प्रथाओं का उल्लंघन कर रही हैं।”

‘Prove or apologise’ – IMA writes to PM Modi on pharma firms bribing doctors with women

New Delhi: The Indian Medical Association, the apex lobby of 3.5 lakh doctors in the country, has written to Prime Minister Narendra Modi seeking clarification if the government is planning to take action against pharmaceutical companies that are allegedly bribing doctors and breaching ethical marketing practices.

 

हमने उस रिपोर्ट में से एक हाइपरलिंक पर क्लिक करके उसी मुद्दे पर एक और रिपोर्ट पाई। हाइपरलिंक की गई रिपोर्ट बताती है कि प्रधानमंत्री ने दवा कंपनियों को महिलाओं, विदेशी यात्राओं और गैजेट्स के साथ डॉक्टरों को रिश्वत न देने की चेतावनी दी है। रिपोर्ट में सरकार के एक अधिकारी के बयान का उल्लेख किया गया है, जिसमें कहा गया है, “विपणन रणनीति के अनैतिक उपयोग के मुद्दे को प्रधानमंत्री कार्यालय (पीएमओ) तक पहुंचा दिया गया है, जो कुछ शीर्ष दवा निर्माताओं को कॉल करता है और फिक्स्ड होता है सरकार के अधिकारी ने द प्रिंट को सूचित किया कि पीएम ने दवा निर्माताओं को बताया था कि विपणन प्रथाओं के साथ उनका गैर-अनुपालन सरकार को सख्त कानून बनाने के लिए प्रेरित कर रहा है। उन्होंने एक वैधानिक प्रावधान लाने के बारे में चेतावनी दी थी और संकेत दिया था कि मंत्रालय से उस पर काम शुरू करने के लिए कहा गया था।

हालांकि, प्रिंट ने इस आक्रोश के पीछे के कारण का उल्लेख किया है। प्रिंट ने एक रिपोर्ट हाइपरलिंक की है जो इस मुद्दे को विस्तार से बताती है।

द प्रिंट का लेख पढ़ने के बाद हमने पाया कि प्रिंट ने एक एनजीओ (NGO) द्वारा प्रधानमंत्री कार्यालय को सौंपी गई रिपोर्ट का उल्लेख किया है जिसका नाम Support for Advocacy and Training to Health Initiatives (SATHI) है। रिपोर्ट की एक कॉपी को यहां देखा जा सकता है। 

SATHI की वेबसाइट के (About) को पढ़कर यह पता लगता है कि यह लोग आनंद ट्रस्ट (Anand Trust) के एक क्रिया केंद्र हैं। 

एनजीओ द्वारा प्रस्तुत 72 पन्नों की रिपोर्ट स्वास्थ्य सेवा उद्योग में अनियमितताओं के बारे में बात करती है। 12 पन्ने पर रिपोर्ट में कहा गया है कि डॉक्टरों को उपहार, मनोरंजन, विदेश यात्रा और लड़कियां रिश्वत के तौर पर दी जा रही हैं।

हमारी पड़ताल में हमने जाना कि प्रधानमंत्री द्वारा कथित टिप्पणीनहीं की गई थी, लेकिन एनजीओ ने पीएमओ को रिपोर्ट सौंपी थी।

पड़ताल के दौरान हमें ANI द्वारा किया गया एक ट्वीट मिला जिसमें 1 जनवरी 2020 को हुई बैठक में Indian Pharmaceuticals Association ने ऐसी किसी भी चर्चा से इनकार कर दिया था। ANI द्वारा किए गए ट्वीट को यहां देखा जा सकता है। 

हमें Bloomberg Quint की एक रिपोर्ट भी मिली, जो ANI की रिपोर्ट को आगे बढ़ाती है और विभिन्न मीडिया आउटलेट्स और व्यक्तियों द्वारा किए गए दावों को विफल करती है।

No Discussion On Uniform Code For Pharmaceutical Marketing Yet: IPA

Industry body Indian Pharmaceutical Alliance on Wednesday said there was no discussion on uniform code for pharmaceutical marketing practice in the meeting convened by Prime Minister Narendra Modi with the healthcare industry on Jan. 1. The meeting was called to discuss future roadmap for growth of the healthcare industry, the IPA said in a statement.

हमारी पड़ताल में हमने अनुराग कश्यप, बीबीसी, द प्रिंट, नेशनल हैराल्ड, द टेलीग्राफ और द स्टेट्समैन द्वारा किए गए दावे को गलत पाया है।

Tools Used

  • Google Keywords Search 
  • Twitter Search
  • Media Reports 

Result: Misleading

(किसी संदिग्ध ख़बर की पड़ताल, संशोधन या अन्य सुझावों के लिए हमें WhatsApp करें: 9999499044  या ई-मेल करें: [email protected])

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें

Most Popular