शुक्रवार, अक्टूबर 7, 2022
शुक्रवार, अक्टूबर 7, 2022

होमCoronavirusक्या गोमूत्र और कबूतर की झिल्ली से बनी दवा मिटा सकती है...

क्या गोमूत्र और कबूतर की झिल्ली से बनी दवा मिटा सकती है कोरोना का कहर? पढ़िए वायरल दावे का पूरा सच

Claim:

गौमूत्र और कबूतर की झिल्ली से आपके पास भी नहीं आएगा कोरोना वायरस। 

जानिए क्या है वायरल दावा:

भारत में लगातार कोरोना वायरस संक्रमित लोगों की संख्या बढ़ रही है। इन दिनों सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म पर (COVID-19) से बचने के लिए तरह-तरह के उपाय बताए जा रहे हैं। ट्विटर पर एक वीडियो वायरल हो रही है, जिसमें एक शख्स दावा कर रहा है कि घातक कोरोना वायरस से डरने की कोई जरूरत नहीं है। इसका उपाय हमने ढूंढ लिया है वो है गौमूत्र, इसका इस्तेमाल करने से कोसों दूर रहेगा यह वायरस। वीडियो में नज़र आ रहा शख्स दावा कर रहा है कि यह वायरस पाकिस्तान से आया है, क्योंकि उनके सैनिकों में यह बीमारी थी। 

Verification: 

वैश्विक महामारी घोषित कोरोना वायरस (COVID-19) से संक्रमित मरीज़ों की संख्या लगातार बढ़ती जा रही है। देश में कोरोना के मरीज़ों की संख्या में लगातार इज़ाफ़ा हो रहा है। कोरोना के खतरे को देखते हुए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने आज के लिए सभी देशवासियों से जनता कर्फ्यू का पालन करने को कहा है। ऐसे में ट्विटर पर एक वीडियो में दावा किया जा रहा है कि गौमूत्र पीने से आपके पास भी नहीं आएगा कोरोना वायरस।  

देखा जा सकता है कि वायरल दावे को कई यूजर्स द्वारा फेसबुक, ट्विटर और शेयरचैट पर भी शेयर किया जा रहा है। 

कुछ कीवर्ड्स की मदद से हमने ट्विटर पर वायरल हो रहे दावे को खोजा। पड़ताल के दौरान सबसे पहले हमने World Health Organization की वेबसाइट पर Myth Buster पर क्लिक कर वायरल दावे को खंगाला। जहां हमें वायरल दावे से संबंधित कोई जानकारी नहीं मिली। नीचे देखा जा सकता है कि विश्व स्वास्थ्य संगठन द्वारा कई दावों को गलत बताया गया है।

वैसे भारत में कई बीमारियों के इलाज के लिए गोमूत्र को पारंपरिक नुस्खे के तौर पर बढ़ावा दिया जाता है। वहीं कोरोना वायरस के खिलाफ गोमूत्र के इस्तेमाल को बढ़ावा देने के  लिए एक हिंदू राष्ट्रवादी समूह ने दिल्ली में गोमूत्र पार्टी भी रखी थी। 

धिक जानकारी के लिए हमने आयुर्वेदिक डॉक्टर प्रिया सिंह से वायरल दावे से संबंधित जानकारी ली और जाना कि क्या वाकई गौमूत्र कोरोना वायरस को मात दे सकता है? उन्होंने  बातचीत में बताया, इस बात में कोई सच्चाई नहीं है कि गौमूत्र पीने से कोरोना वायरस नहीं होगा। इस पर अभी तक कोई मेडिकल सबूत भी नहीं है जिससे यह साबित हो कि गोमूत्र में एक एंटी-वायरल गुण होते हैं। यह केवल एक अफवाह है। 

बातचीत में उन्होंने हमें बताया कि गौमूत्र अपने आप में एक दवा की तरह है और आयुर्वेद में इसका प्रयोग कई बीमारियों के इलाज के लिए किया जाता है। साथ ही डॉक्टर ने हमें बताया कि किन-किन बीमारियों में इसका लाभ होता है।

  • कब्ज
  • गैस
  • पेट की तकलीफ
  • हार्ट डिजीज
  • किडनी प्रॉब्लम
  • लिवर प्रॉब्लम
  • दांत की तकलीफ 
  • कान में दर्द
  • स्किन प्रॉब्लम 
  • सर्दी-जुकाम 

हमें कहीं भी यह जानकारी नहीं मिली की घातक कोरोना वायरस को पास नहीं आने देगा गौमूत्र।

गौमूत्र वाले दावे के साथ-साथ ट्विटर पर एक मौलाना द्वारा दावा किया जा रहा है कि कबूतर की झिल्ली से ठीक हो जाएगा घातक कोरोना वायरस।

कुछ कीवर्ड्स की मदद से हमने ट्विटर पर वायरल हो रहे दावे को खोजा। पड़ताल के दौरान हमें Mohaddis Forum नामक वेबसाइट का एक लेख मिला। रिपोर्ट से हमने जाना कि Hepatitis का इलाज जंगली कबूतर से किया जाता है जो इस्लाम में सही नहीं है। लेकिन हमें कहीं भी यह जानकारी नहीं मिली कि वैश्विक महामारी का इलाज कबूतर की झिल्ली से हो सकता है। 

पड़ताल के दौरान तथ्यों का बारीकी से अध्ययन करने पर हमने पाया कि ट्विटर और शेयरचैट पर वायरल हो रहे दावे में कोई सच्चाई नहीं है। इस दौरान हमने पाया कि कोरोना वायरस (COVID-19) का अभी तक कोई इलाज या टीका नहीं बना है। इससे स्पष्ट होता है कि लोगों को भ्रमित करने के लिए ऐसा दावा किया जा रहा है।

Tools Used:

Google Keywords Search

Direct Contact

Result: False

(किसी संदिग्ध ख़बर की पड़ताल, संशोधन या अन्य सुझावों के लिए हमें WhatsApp करें: 9999499044 या ई-मेल करें: [email protected])

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें

Most Popular