बुधवार, दिसम्बर 7, 2022
बुधवार, दिसम्बर 7, 2022

होमFact Checkभगवान कृष्ण की पुरानी और विवादित पेंटिंग को हालिया घटना से जोड़कर...

भगवान कृष्ण की पुरानी और विवादित पेंटिंग को हालिया घटना से जोड़कर सोशल मीडिया में फैलाया गया भ्रम

कई सोशल मीडिया यूजर्स ने दावा किया कि असम के एक पेंटर ने हिन्दू भगवान श्री कृष्ण की आपत्तिजनक पेंटिंग बनाकर हिन्दुओं की भावनाओं को ठेस पहुंचाया.

Fact Check/Verification

सोशल मीडिया पर कोई ऐसी चीज जिसमें किसी तरह की धार्मिक, सामाजिक या भावनात्मक अपील हो वह कितनी तेजी से वायरल होती है यह तो आप आये दिन देखते ही होंगे लेकिन किसी वायरल तस्वीर, वीडियो या टेक्स्ट पोस्ट के फलस्वरूप किसी व्यक्ति के जीवन में कैसे गंभीर परिवर्तन हो सकते हैं इसका अंदाजा शायद हर किसी को नहीं होगा. सोशल मीडिया पर आये दिन ऐसी तमाम तस्वीरें वायरल होती रहती हैं जहाँ किसी गुमशुदा की तलाश का दावा किया जाता है और कई बार ऐसे पोस्ट्स के साथ कुछ मोबाइल नंबर भी शेयर किये जाते हैं. ऐसे ही एक वायरल पोस्ट की पड़ताल के दौरान हमने जब एक मोबाइल नंबर पर संपर्क साधा तो हमें बताया गया कि जिस बच्ची के लापता होने का दावा सोशल मीडिया में किया जा रहा है वह दरअसल कई सालों पहले ही अपने परिजनों के पास सुरक्षित रूप से पहुंचाई जा चुकी है. लेकिन चूंकि उस बच्ची के गुमशुदगी की खबर अभी भी सोशल मीडिया में वायरल है इस वजह से मुझे अनेकों फ़ोन कॉल्स आते हैं जिनमे से कुछ कॉल्स अन्य देशो से भी आते हैं और मेरा निवास स्थान या मेरा नाम जानकर मुझसे अभद्रता की जाती है जिस वजह से मुझे काफी दिक्कतों का सामना करना पड़ता है. उक्त व्यक्ति ने हमें यह भी बताया कि वह यही नंबर कई वर्षों से इस्तेमाल कर रहें हैं जिससे यह नंबर उनके रिश्तेदारों और दोस्तों के पास मौजूद है और इस वजह से वह यह नंबर चेंज नहीं करना चाहते लेकिन आये दिन सैकड़ों फ़ोन कॉल्स से परेशान होकर उन्हें अब अपना नंबर चेंज करना ही पड़ेगा और हुआ भी यही, हमसे बात करने के बाद जब अन्य फैक्ट चेकर्स ने वायरल दावे की सत्यता जानने के लिए उनसे संपर्क साधना चाहा तो उनका नंबर बंद आने लगा. ऐसे ही मार्मिक अपील करते कई दावे सोशल मीडिया में वायरल होते हैं लेकिन उनकी सच्चाई कुछ और ही होती है.

वायरल दावे की बात करें तो इसमें हिन्दू देवता श्री कृष्ण की एक आपत्तिजनक पेंटिंग दिखती है। दावा किया जाता है कि इस पेंटिंग को गुवाहाटी की आर्ट गैलरी में रखा गया है. इस दावे को लेकर किये गए सोशल मीडिया पोस्ट्स को अगर ध्यान से देखा जाये तो लगभग सारे ही पोस्ट्स इस बात की तरफ इशारा करते हैं कि घटना हाल फिलहाल की है. तमाम यूजर्स ने असम पुलिस को टैग करते हुए उनसे इस मामले में कार्रवाई की भी मांग की. उक्त दावे को लेकर सोशल मीडिया में वायरल कुछ पोस्ट्स नीचे देखे जा सकते हैं.

ऐसे ही तमाम अन्य दावे और दावे को लेकर किये गए ट्वीट्स यहां देखे जा सकते हैं. 

वायरल दावे की पड़ताल के लिए हमने सबसे पहले तस्वीर को गूगल पर तलाशा. गूगल सर्च के दौरान प्राप्त परिणामों से हमें यह पता चला कि वायरल तस्वीर या पेंटिंग हाल फिलहाल की नहीं है बल्कि यह 2015 से ही इंटरनेट पर मौजूद है. 



सर्च परिणामों में प्राप्त मीडिया रिपोर्ट्स को पढ़ने के बाद यह पता चलता है कि असम के अकरम हुसैन नामक एक पेंटर ने साल 2015 में भगवान श्री कृष्ण की आपत्तिजनक पेंटिंग बनाई थी जिसके बाद उसके ऊपर पुलिसिया कार्रवाई की गई थी. ऐसी ही कुछ मीडिया रिपोर्ट्स नीचे देखी जा सकती है.


https://www.scoopwhoop.com/news/artist-in-trouble-over-krishna-painting/

https://www.india.com/news/india/painting-of-lord-krishna-with-bikini-clad-gopis-offends-far-right-hindu-groups-352959/


Scoop Whoop  में प्रकाशित लेख में वर्णित एक ट्वीट के अनुसार साल 2015 में ही ‘Legal Eagle’ नामक एक ट्विटर यूजर ने इस मामले में पुलिस से शिकायत की थी. उक्त ट्वीट नीचे देखा जा सकता है.

https://twitter.com/TetraLegal/status/586521708862906369

अब यह तो साफ़ हो चुका था कि वायरल तस्वीर पुरानी है और सोशल मीडिया यूजर्स द्वारा इसे हाल फिलहाल का बताए जाने  का दावा भ्रामक है. इस मामले पर गुवाहाटी पुलिस का पक्ष जानने के लिए हमने उनका ट्विटर हैंडल खंगाला जहां हमें गुवाहाटी पुलिस द्वारा किया गया एक ट्वीट मिला जिसमे यह जानकारी दी गई है कि यह घटना 2015 की है और आपत्तिजनक पेंटिंग बनाने वाले अकरम हुसैन को उसी वक्त पेंटिंग वायरल होने के बाद गिरफ्तार कर लिया गया था.  उक्त ट्वीट में यह भी जानकारी दी गई है कि तस्वीर को सीज कर दिया गया था. बता दें कि जिन यूजर्स ने गुवाहाटी पुलिस को टैग कर उनसे कार्रवाई की मांग की थी उनमे से कई यूजर्स को गुवाहाटी पुलिस ने जवाब भी दिया है. जिसे यहां देखा जा सकता है.


गुवाहाटी पुलिस के ट्वीट और गूगल सर्च से प्राप्त मीडिया रिपोर्ट्स के आधार पर यह बात साफ़ हो जाती है कि आपत्तिजनक पेंटिंग साल 2015 में बनाई गई थी और पेंटर अकरम हुसैन के ऊपर आवश्यक कार्यवाही भी तभी कर दी गई थी. इस प्रकार सोशल मीडिया यूजर्स द्वारा घटना को हाल फिलहाल का बताने का दावा भ्रामक है.

Result: Misleading

Sources

Guwahati Police: https://twitter.com/GuwahatiPol/status/1295284401211707398 

Media Report: https://www.scoopwhoop.com/news/artist-in-trouble-over-krishna-painting/

Twitter User: https://twitter.com/TetraLegal/status/586521708862906369 

JP Tripathi
JP Tripathi
Since 2011, JP has been a media professional working as a reporter, editor, researcher and mass presenter. His mission to save society from the ill effects of disinformation led him to become a fact-checker. He has an MA in Political Science and Mass Communication.
JP Tripathi
JP Tripathi
Since 2011, JP has been a media professional working as a reporter, editor, researcher and mass presenter. His mission to save society from the ill effects of disinformation led him to become a fact-checker. He has an MA in Political Science and Mass Communication.

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें

Most Popular