शनिवार, नवम्बर 26, 2022
शनिवार, नवम्बर 26, 2022

होमFact Checkपुलिस एनकाउंटर में ढेर गैंगेस्टर अमर दुबे की पत्नी की गिरफ्तारी पर...

पुलिस एनकाउंटर में ढेर गैंगेस्टर अमर दुबे की पत्नी की गिरफ्तारी पर अखिलेश यादव ने नहीं उठाए सवाल, भ्रामक दावा वायरल

Claim:

अखिलेश यादव ने सीएम योगी पर ब्राह्मणों के साथ अपराधियों जैसा सुलूक करने का आरोप लगाया है। 

अखिलेश यादव ने सीएम योगी पर ब्राह्मणों के साथ अपराधियों जैसा सुलूक करने का आरोप लगाया है।

जानिए क्या है वायरल दावा:

ट्विटर पर उत्तर प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव का एक ट्वीट बहुत वायरल हो रहा है। वायरल ट्वीट में अखिलेश, यूपी के सीएम योगी आदित्यनाथ सरकार पर आरोप लगा रहे हैं। ट्वीट में लिखा है, “ नौ दिन पहले शादी होकर आई अमर दुबे की पत्नी को जेल किस आधार पर भेजा गया? सरकार और पुलिस से सवाल करने की इजाजत अभी उत्तर प्रदेश में है या नहीं? शर्म आनी चाहिए इस अमानवीय कृत्य पर पुलिस की नजर में क्या दुबे टाइटल के लोग अपराधी हैं। अपराधी को पकड़ो UPP शर्म करो।”

अखिलेश यादव द्वारा किए गए ट्वीट का आर्काइव्ड वर्जन यहां देखा जा सकता है। 

वायरल फेसबुक पोस्ट के आर्काइव वर्जन को यहां देखा जा सकता है। 

Verification:

देश के बहुचर्चित कानपुर के विकरू कांड में शहीद हुए पुलिसकर्मियों का बदला लेने के लिए पुलिस ने ताबड़तोड़ कार्रवाई शुरू की। लगातार हो रहे एनकाउंटर में अमर दुबे भी मारा गया था। अमर दुबे की नवविवाहिता पर हुई पुलिसिया कार्रवाई सवालों के घेरे में आ गई है। ऐसे में ट्विटर पर कई दावे वायरल हो रहे हैं। कुछ कीवर्ड्स की मदद से हमने वायरल दावे को खंगालना शुरू किया। 

देखा जा सकता है कि वायरल दावे को ट्विटर पर कई यूज़र्स द्वारा शेयर किया गया है। 


वायरल ट्वीट की सत्यता जानने के लिए सबसे पहले हमने ट्विटर खंगालना आरंभ किया। पड़ताल के दौरान हमें सपा नेता अखिलेश यादव का आधिकारिक ट्विटर हैंडल मिला। 

वायरल ट्वीट की सत्यता जानने के लिए सबसे पहले हमने ट्विटर खंगालना आरंभ किया। पड़ताल के दौरान हमें सपा नेता अखिलेश यादव का आधिकारिक ट्विटर हैंडल मिला।

पड़ताल के दौरान हमने अखिलेश का आधिकारिक ट्विटर हैंडल खंगाला कि क्या वाकई अमर दुबे के एनकाउंटर या उसकी पत्नी की गिरफ़्तारी पर उन्होंने ट्वीट किया है। खोज में हमें अमर दुबे से जुड़ा कोई ट्वीट नहीं मिला। जबकि विकास दुबे के एनकाउंटर के बाद अखिलेश द्वारा किया एक ट्वीट जरूर मिला। ट्वीट के माध्यम से उन्होंने सरकार पर निशाना साधा है।

वायरल दावे की तह तक जाने के लिए हमने उस हैंडल को खंगाला जिससे ट्वीट किया गया था। जहां हमने पाया कि यह एक पैरोडी हैंडल है। इसके बायो में यह बात स्पष्ट है कि यह उत्तर प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव का पैरोडी अकाउंट है।

वायरल दावे की तह तक जाने के लिए हमने उस हैंडल को खंगाला जिससे ट्वीट किया गया था। जहां हमने पाया कि यह एक पैरोडी हैंडल है। इसके बायो में यह बात स्पष्ट है कि यह उत्तर प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव का पैरोडी अकाउंट है।

नीचे तस्वीर में दोनों ट्विटर हैंडल में फर्क को साफ देखा जा सकता है। दोनों ही अकाउंट्स में एक ही प्रोफाइल पिक्चर लगी हुई है। साथ ही ट्विटर हैंडल के नाम भी मिलते-जुलते हैं। अखिलेश यादव का आधिकारिक ट्विटर हैंडल @yadavakhilesh है और पेरौडी अकाउंट का हैंडल है @yadavakhilesh143

नीचे तस्वीर में दोनों ट्विटर हैंडल में फर्क को साफ देखा जा सकता है। दोनों ही अकाउंट्स में एक ही प्रोफाइल पिक्चर लगी हुई है। साथ ही ट्विटर हैंडल के नाम भी मिलते-जुलते हैं। अखिलेश यादव का आधिकारिक ट्विटर हैंडल @yadavakhilesh है और पेरौडी अकाउंट का हैंडल है @yadavakhilesh143.

कुछ कीवर्ड्स की मदद से गूगल खंगालने पर हमें दैनिक भास्कर द्वारा प्रकाशित की गई मीडिया रिपोर्ट मिली। इसके मुताबिक अमर दुबे, विकास का भतीजा था जिसे पुलिस ने हमीरपुर में मार गिराया था।

अधिक खोजने पर हमें नवभारत टाइम्स और जनसत्ता  द्वारा प्रकाशित की गई मीडिया रिपोर्ट्स मिली। इसके मुताबिक अमर दुबे ने 29 जून, 2020 को बंदूक की नोक पर जबरन शादी की थी। लड़की के परिवार वाले इस शादी के लिए राज़ी नहीं थे। विकास दुबे की कोठी में ही अमर दुबे की शादी हुई थी। 

अधिक खोजने पर हमें नवभारत टाइम्स और जनसत्ता  द्वारा प्रकाशित की गई मीडिया रिपोर्ट्स मिली। इसके मुताबिक अमर दुबे ने 29 जून, 2020 को बंदूक की नोक पर जबरन शादी की थी। लड़की के परिवार वाले इस शादी के लिए राज़ी नहीं थे। विकास दुबे की कोठी में ही अमर दुबे की शादी हुई थी।

सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म पर वायरल हो रहे दावे का बारीकी से अध्ययन करने पर हमने पाया कि ट्वीट अखिलेश यादव के पैरोडी अकाउंट से किया गया था। पड़ताल में हमने पाया कि अमर दुबे की पत्नी की गिरफ्तारी पर पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने कोई सवाल नहीं उठाया है। लोगों को भ्रमित करने के लिए भ्रामक दावा किया जा रहा है। 

Tools Used

  • Google Keywords Search 
  • Media Reports
  • Twitter Search 

Result: Partly False

(किसी संदिग्ध ख़बर की पड़ताल, संशोधन या अन्य सुझावों के लिए हमें WhatsApp करें: 9999499044  या ई-मेल करें: [email protected])

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें

Most Popular