शुक्रवार, जुलाई 23, 2021
शुक्रवार, जुलाई 23, 2021
होमFact Checkदिल्ली में पानी की किल्लत से जुड़ी 12 साल पुरानी तस्वीर गलत...

दिल्ली में पानी की किल्लत से जुड़ी 12 साल पुरानी तस्वीर गलत दावे के साथ हुई वायरल

दिल्ली में गर्मी अपनी चरम सीमा पर है। इसी बीच दिल्ली वासियों के सामने पानी की समस्या भी सामने आ खड़ी हुई है। दरअसल युमना नदी में अमोनिया और शैवाल की मात्रा बढ़ने के कारण प्रदूषण भी बढ़ गया है। जिसकी वजह से दिल्ली के कई इलाकों में रहने वाले लोगों को पानी की किल्लत का सामना करना पड़ रहा है। नदी में प्रदूषण बढ़ने के कारण दिल्ली के दो वॉटर ट्रीटमेंट प्लांट में पानी का उत्पादन तकरीबन 25 फीसदी तक कम हो गया है। जिसकी वजह से एनसीआर के कई इलाकों में पानी की सप्लाई बाधित हो गई है। इसी कारण दिल्ली के लोगों को पानी के लिए जद्दोजदह करना पड़ रहा है। दिल्ली जल बोर्ड ने कुछ इलाकों के नाम की एक लिस्ट जारी करते हुए कहा था कि इन इलाकों में खासतौर पर 20 जून को पानी की किल्लत देखने को मिलेगी।

इसी बीच पानी के टैंकर की एक तस्वीर सोशल मीडिया पर जमकर वायरल हो रही है। तस्वीर में कुछ लोग पानी के टैंकर के ऊपर चढ़े हुए हैं, तो वहीं कुछ औरतें नीचे से ही टैंकर के पाइप को खींचती हुई नजर आ रही हैं। इस तस्वीर को शेयर करते हुए दावा किया जा रहा है कि, ये तस्वीर दिल्ली के हालिया हालातों की है। जहां पर लोग पानी की बूंंद-बूंद को तरस रहे हैं। तस्वीर को शेयर कर कटाक्ष करते हुए दिल्ली के सीएम अरविन्द केजरीवाल को हालातों को सुधारने की सलाह दी जा रही है।

पोस्ट से जुड़े आर्काइव लिंक को यहां पर देखा जा सकता है।

Fact Check/Verification

वायरल तस्वीर की सच्चाई जानने के लिए जब हमने फोटो को गौर से देखा, तो हमने पाया कि तस्वीर में किसी ने भी मास्क नहीं लगाया हुआ है। जिसके बाद हमें इस बात का अंदाजा हुआ कि शायद ये तस्वीर पुरानी है। इसके बाद हमने वायरल तस्वीर को गूगल रिवर्स इमेज के जरिए सर्च किया। इस दौरान हमें वायरल तस्वीर से जुड़ी एक मीडिया रिपोर्ट Aaj Tak की वेबसाइट पर मिली। जिसे 25  मार्च 2018 को प्रकाशित किया गया था। रिपोर्ट में वायरल तस्वीर को प्रकाशित करते हुए दिल्ली में पानी की समस्या पर हाईकोर्ट के रूख के बारे में बताया गया है। 

प्राप्त जानकारी के आधार पर हमने गूगल पर कुछ कीवर्ड्स के जरिए सर्च किया। इस दौरान हमें वायरल तस्वीर इमेज स्टॉक रखने वाली वेबसाइट Alamy.com की वेबसाइट पर मिली। डिस्क्रिप्शन में दी गई जानकारी के मुताबिक, वायरल तस्वीर हालिया दिनों की नहीं, बल्कि साल 2009 की है। दिल्ली के संजय कॉलोनी इलाके में पानी की किल्लत दूर करने के लिए पानी का टैंकर भेजा गया था। तभी आस-पड़ोस के इलाके के लोग भी पानी भरने के लिए पहुंचने लगे और भीड़ लग गई। उस दौरान राज्य में आम आदमी पार्टी की नहीं, बल्कि कांग्रेस की सरकार थी और शीला दीक्षित दिल्ली की सीएम थीं। सर्च के दौरान हमें वायरल तस्वीर से जुड़ी कई अन्य तस्वीरें Getty Image की वेबसाइट पर भी मिली।

पड़ताल के दौरान हमें वायरल तस्वीर से जुड़ा एक ट्वीट आम आदमी पार्टी के आधिकारिक ट्विटर अकाउंट पर मिला। ट्वीट में आम आदमी पार्टी ने सारे आरोपों को खारिज करते हुए तस्वीर को साल 2009 का बताया है।

Conclusion

हमारी पड़ताल में मिले तथ्यों के मुताबिक वायरल तस्वीर हाल-फिलहाल की नहीं, बल्कि साल 2009 की है। जिसे अब गलत दावों के साथ शेयर किया जा रहा है। वायरल तस्वीर का दिल्ली की हालिया पानी की समस्या से कोई लेना-देना नहीं है। 

Read More : ड्राइवर द्वारा गाय पर ट्रैक्टर चढ़ाने का वीडियो साम्प्रदायिक दावे के साथ सोशल मीडिया पर हुआ वायरल

Result: False

Claim Review: दिल्ली में पानी की समस्या की हालिया तस्वीर।
Claimed By: Vijay Goel
Fact Check: False

Our Sources

Aajtak –https://www.aajtak.in/india/delhi/story/delhi-highcourt-water-free-aap-government-548798-2018-05-25

Twitter –https://twitter.com/AAPDelhi/status/1406306113193086976

Alamy – https://www.alamy.com/residents-of-sanjay-colony-a-residential-neighbourhood-crowd-around-a-water-tanker-provided-by-the-state-run-delhi-jal-water-board-to-fill-their-containers-in-new-delhi-june-30-2009-delhi-chief-minister-sheila-dikshit-has-given-directives-to-tackle-the-burgeoning-water-crisis-caused-by-uneven-distribution-of-water-in-the-city-according-to-local-media-the-board-is-responsible-for-supplying-water-in-the-capital-reutersadnan-abidi-india-society-image379915570.html


किसी संदिग्ध ख़बर की पड़ताल, संशोधन या अन्य सुझावों के लिए हमें WhatsApp करें: 9999499044  या ई-मेल करें: checkthis@newschecker.in

Pragya Shukla
Pragya has completed her Masters in Mass Communication, and has been doing content writing for the last four years. Due to bias and incomplete facts in mainstream media, she decided to become a fact-checker.

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular