सोमवार, दिसम्बर 6, 2021
सोमवार, दिसम्बर 6, 2021
होमFact Checkकाशी विश्वनाथ मंदिर का नहीं है सोशल मीडिया पर शेयर हो रहा...

काशी विश्वनाथ मंदिर का नहीं है सोशल मीडिया पर शेयर हो रहा यह वीडियो

सोशल मीडिया पर 30 सेकंड की एक वीडियो क्लिप को शेयर करते हुए दावा किया गया है कि यह क्लिप काशी विश्वनाथ मंदिर के सौंदर्यीकरण की है। इस वीडियो क्लिप में एक मंदिर लेज़र लाइट की रोशनी में जगमगाता हुआ दिख रहा है। 

Viral tweet
Viral tweet

वीडियो को शेयर करते हुए एक ट्विटर यूजर ने दावा किया, ‘भव्य काशी विश्वनाथ मंदिर के सौंदर्यीकरण के बाद पहली झलकी। मोदी जी, योगी जी का धन्यवाद.’ उपरोक्त ट्वीट को भाजपा नेता गौरव गोयल ने अपने ट्विटर अकाउंट से रिट्वीट किया है। 

Twitter Screenshot

उपरोक्त ट्वीट के आर्काइव को यहां देखा जा सकता है। 

उपरोक्त दावे को फेसबुक पर भी शेयर किया गया है।

FB screenshot

उपरोक्त फेसबुक पोस्ट को यहां देखा जा सकता है।

FB screenshot

उपरोक्त फेसबुक पोस्ट को यहां देखा जा सकता है।

यह वीडियो क्लिप काशी विश्वनाथ मंदिर के सौंदर्यीकरण का नहीं है।
FB screenshot

उपरोक्त फेसबुक पोस्ट को यहां देखा जा सकता है।

Crowdtangle टूल की सहायता से किये गए विश्लेषण के अनुसार, इस वीडियो को पिछले कुछ दिनों में फेसबुक पर कुल 30 लोगों द्वारा पोस्ट किया गया है। जिनपर कुल 1,081 इंटरैक्शन (रिएक्शन, कमेंट, शेयर) हैं।

यह वीडियो क्लिप काशी विश्वनाथ मंदिर के सौंदर्यीकरण का नहीं है।
Crowdtangle screenshot

अमर उजाला की एक रिपोर्ट के मुताबिक, ‘काशी विश्वनाथ मंदिर का विस्तारीकरण चल रहा है। इस विस्तारीकरण का काम लगभग पूरा हो चुका है। संभव है कि अगले माह दिसंबर में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी इसका उद्घाटन करेंगे। इस विस्तारीकरण के अंतर्गत काशी विश्वनाथ धाम को कॉरिडोर की मदद से सीधा गंगाधार से जोड़ा जाएगा। मंदिर के चारों तरफ परिक्रमा पथ का भी निर्माण किया गया है।’ 

Fact Check/Verification 

वायरल वीडियो का सच जानने के लिए हमने इसे invid टूल की मदद से कुछ की-फ्रेम्स में बदला। इसके बाद एक की-फ्रेम के साथ गूगल रिवर्स सर्च किया। इस दौरान हमें संस्कृत उदय नाम का एक फेसबुक पेज मिला, जिसने इस वीडियो को बीते 30 मार्च, 2021 को शेयर कर इसे सोमनाथ मंदिर का बताया है।

यह वीडियो क्लिप काशी विश्वनाथ मंदिर के सौंदर्यीकरण का नहीं है।
FB screenshot

फेसबुक पोस्ट को देखने के बाद पता चला कि मुमकिन है कि वायरल हुआ वीडियो काशी विश्वनाथ मंदिर का ना हो कर सोमनाथ मंदिर का हो। जब हम सोमनाथ मंदिर से संपर्क करने के लिए मंदिर की वेबसाइट को खंगाल रहे थे तो हमें एक तस्वीर मिली। जब हमने वायरल वीडियो में मौजूद दृश्य से इस तस्वीर की तुलना की तो पता चला की दोनों तस्वीरें एक जैसी हैं। 

नीचे दोनों तस्वीरों को देखा जा सकता है।

यह वीडियो क्लिप काशी विश्वनाथ मंदिर के सौंदर्यीकरण का नहीं है।
Screenshot comparison

इसके बाद हमने सोमनाथ मंदिर के आईटी अधिकारी ध्रुव जोशी से वीडियो के संदर्भ में बात की। जब हमने उनके साथ वायरल वीडियो क्लिप को शेयर किया तो उन्होंने बताया कि यह वीडियो सोमनाथ मंदिर का ही है।

Conclusion

 

इस तरह हमारी पड़ताल में यह साफ़ हो गया कि वायरल वीडियो सोमनाथ मंदिर का है। वीडियो क्लिप को भ्रामक दावे के साथ काशी विश्वनाथ मंदिर का बताकर शेयर किया जा रहा है।

Result: Misplaced Context

Our Sources

SELF ANALYSIS

Direct Contact

किसी संदिग्ध ख़बर की पड़ताल, संशोधन या अन्य सुझावों के लिए हमें WhatsApp करें: 9999499044 या ई-मेल करें: checkthis@newschecker.in

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular