रविवार, अक्टूबर 2, 2022
रविवार, अक्टूबर 2, 2022

होमFact Checkक्या वाकई शरीर पर Tattoo बनवाने के बाद नहीं कर सकते रक्तदान? 

क्या वाकई शरीर पर Tattoo बनवाने के बाद नहीं कर सकते रक्तदान? 

Common Myth

फैशन के इस दौर में टैटू लोगों को आजकल बहुत भा रहा है। बच्चों से लेकर बड़े भी अपने शरीर पर टैटू करा रहे हैं। लेकिन युवाओं में टैटू करवाने का क्रैज ज़्यादा देखा जा रहा है। बहुत से लोगों को लगता है कि शरीर पर टैटू करवाने के बाद रक्तदान नहीं किया जा सकता। क्या यह वाकई यच है कि टैटू करवाने के बाद रक्तदान नहीं कर सकते? 

Fact

टैटू का क्रेज़ इन दिनों बहुत ज़्यादा बढ़ रहा है। आजकल ज़्यादातर लोग अपने शरीर पर कहीं न कहीं टैटू बनवा रहें हैं। टैटू बनाने के लिए मशीन का उपयोग किया जाता है और जिसमें सूई का इस्तेमाल होता है। जो एक बार इस्तेमाल करने से संक्रमित हो जाती है। दोबारा इस्तेमाल करने से सूई पर लगा संक्रमण दूसरे व्यक्ति के खून में पहुंचकर कई तरह की बीमारियों को जन्म दे सकता है। इसकी वज़ह से आपके खून में इंफेक्शन का खतरा भी हो सकता है। अब बात करते हैं कि क्या शरीर पर टैटू करवाने वाला शख्स ब्लड डोनेट कर पाएगा या नहीं?

आपको बता दे कि इस पर डॉक्टरों का कहना है कि इस ख़तरे का विंडो पीरियड लगभग 6 महीने से 12 महीने का होता है। युवाओं में टैटू करवाने का क्रैज बहुत ज़्यादा है जिसके चलते इस बारे में युवाओं को जागरूक किया जा रहा है। टैटू बनाने वाले लोग कम से कम 12 महीने तक ब्लड डोनेट नहीं कर सकते हैं। इसके साथ ही टैटू बनाने के लिए 2 चीज़ों का यूज़ किया जाता है पहला नीडल जो सिरिंज की तरह होती है। लेकिन टैटू में जो नीडल यूज होती है वह बार-बार चेंज नहीं की जाती है और एक नीडल कई लोगों में यूज़ होती है। जिसके चलते HIV और हेपेटाइटिस बी के इन्फेक्शन का खतरा सबसे अधिक होता है। क्योंकि इन दोनों बीमारियों की पहचान तुरंत संभव भी नहीं है। 

किन बीमारियों में नहीं कर सकते हैं ब्लड डोनेट:

  • हाई बीपी
  • कैंसर
  • दिल की बीमारी
  • अस्थमा
  • लीवर
  • किडनी
  • डायबिटीज
  • टीबी
  • थायरायड
  • पीलिया
  • मलेरिया
  • एचआईवी
  • चर्मरोग
  • हेपेटाइटिस

डॉक्टरों का कहना कि आजकल कॉलेजों और वर्क पलेस में रक्तदान करने का चलन बढ़ा है। साथ ही डॉक्टरों का कहना है कि अगर आपने हाल ही में टैटू बनवाया है तो कम से कम एक साल तक न नहीं करें क्योंकि इससे खून लेने वाले मरीज़ को खतरा हो सकता है। 

Sources


(किसी संदिग्ध ख़बर की पड़ताल, संशोधन या अन्य सुझावों के लिए हमें WhatsApp करें: 9999499044  या ई-मेल करें: [email protected])

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें

Most Popular