बुधवार, मई 12, 2021
बुधवार, मई 12, 2021
होमFact Checkवेनेजुएला में सामूहिक नरसंहार की फोटो कश्मीर में मुसलमानों पर सेना द्वारा...

वेनेजुएला में सामूहिक नरसंहार की फोटो कश्मीर में मुसलमानों पर सेना द्वारा जुल्म बताकर वायरल

Los Llanos Penitentiary CentreHow the Indian Army is killing our Muslims. Our Muslim brothers and sisters are being tortured in Kashmir. Pray for our Muslim umma

देखो भारतीय सेना हमारे मुस्लिम भाइयों को कैसे मार रही है। हमारे कश्मीरी मुस्लिम भाई-बहनों को प्रताड़ित किया जा रहा है। इनके लिए दुआ करें। 

सोशल मीडिया में एक तस्वीर वायरल हो रही है। तस्वीर में देखा जा सकता है कि कुछ लोग जमीन पर नग्नावस्था में पड़े हुए हैं। उनके आसपास कुछ बंदूकधारी लोग नज़र आ रहे हैं। दावा किया गया है कि ये कश्मीरी मुसलमान हैं जिनको भारतीय सेना प्रताड़ित कर रही है। दावा किया गया है कि किस तरह से भारतीय सेना कश्मीरी मुसलमानों पर जुल्म करती है। इमेज के सहारे लोगों से दुआ करने की अपील भी की गई है।

 फैक्ट चेक:

कश्मीर में आये दिन सेना और आतंकियों के बीच मुठभेड़ की ख़बरें आती रहती हैं। इसी बीच कुछ लोगों को जमीन पर लेटा हुआ दिखाकर सेना द्वारा कश्मीरी मुसलमानों पर जुल्म की बात कही गई है। वायरल दावे की पड़ताल के लिए गूगल रिवर्स इमेज की सहायता से खोजने पर कुछ बांग्ला भाषा के लिंक मिले जहाँ इस चित्र को अपलोड किया गया था। 

कुछ कीवर्ड्स की मदद से खोजने पर Mundo oriental नामक वेबसाइट पर यह तस्वीर दिखाई दी। यह स्पैनिश भाषा में थी लिहाजा भाषा की जानकारी के लिए गूगल ट्रांसलेशन की मदद लिया। पता चला कि वायरल तस्वीर कश्मीर की ना होकर वेनेजुएला की है। असल में लेख ने अपने शीर्षक ‘पुर्तगाली जेल में नरसंहार में मृतकों की संख्या 46’ के हवाले से खबर छापी है। लेख के मुताबिक वेनेजुएला की एक जेल में सामूहिक नरसंहार हुआ है। 

खोज दौरान ही AMNESTI INTERNATIONAL का एक लेख प्राप्त हुआ। इस लेख में भी बताया गया है कि यह तस्वीर वेनेजुएला की है। 

न्यूज़ एजेंसी रायटर्स ने भी इस घटना पर स्टोरी की थी। असल में यह पूरा मामला जेल कैदियों नरसंहार का है जो वेनेजुएला देश के राज्य Portuguesa स्थित Los Llanos Penitentiary Centre में घटित हुआ था।

पड़ताल के दौरान यह साफ हो गया कि वायरल तस्वीर कश्मीर की नहीं है। यह तस्वीर वेनेजुएला की है जहां एक संघर्ष के दौरान 46 लोगों की मौत हो गई थी। हमारी पड़ताल में वायरल दावा झूठा साबित हुआ। 

Tools used

Google reverse Image

Twitter Advanced Search

Snipping

Facebook

Result- False

(किसी संदिग्ध ख़बर की पड़ताल, संशोधन या अन्य सुझावों के लिए हमें WhatsApp करें: 9999499044  या ई-मेल करें: checkthis@newschecker.in)

Avatar
JP Tripathi
Since 2011, JP has been a media professional working as a reporter, editor, researcher and mass presenter. His mission to save society from the ill effects of disinformation led him to become a fact-checker. He has an MA in Political Science and Mass Communication.

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular