शुक्रवार, मई 20, 2022
शुक्रवार, मई 20, 2022

होमFact Checkमनी लॉन्ड्रिंग केस में गिरफ्तार हुईं IAS पूजा सिंघल की पुरानी तस्वीर...

मनी लॉन्ड्रिंग केस में गिरफ्तार हुईं IAS पूजा सिंघल की पुरानी तस्वीर को हालिया दिनों का बताया गया

मनी लॉन्ड्रिंग केस में गिरफ्तार हुई IAS पूजा सिंघल की एक तस्वीर तेजी से शेयर की जा रही है। वायरल तस्वीर में वह केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह के साथ दिख रही हैं। दावा किया गया है कि उनकी यह तस्वीर हालिया दिनों की है।

फिल्म मेकर अविनाथ दास ने तस्वीर को शेयर करते हुए इसे पूजा सिंघल के घर पर हुई छापेमारी से कुछ दिन पहले का बताया है। 

ट्वीट का आर्काइव यहां देखा जा सकता है।)

एनएसयूआई के राष्ट्रीय महासचिव नागेश करियप्पा ने भी इस तस्वीर को हालिया दिनों का बताया है।

इसके अलावा, फेसबुक यूजर Brahmdev Paswan ने भी इस तस्वीर को शेयर करते हुए दावा किया है कि अमित शाह और पूजा सिंघल की तस्वीर हालिया दिनों की है। 

पूजा सिंघल के घर हुई छापेमारी के कुछ दिनों
Screenshot of Facebook Post/ iBrahmdeoPaswan

दरअसल, बीते दिनों झारखंड की खनन सचिव पूजा सिंघल के घर और उनसे जुड़े लोगों के यहां ईडी की छापेमारी में 17 करोड़ की नकदी बरामद हुई थी। वहीं, बीते सोमवार को झारखंड यूथ एसोसिशन ने रांची में राजभवन के सामने पूजा सिंघल की गिरफ्तारी की मांग को लेकर धरना दिया। पूजा सिंघल पर आरोपों को लेकर ईडी ने बीते मंगलवार को उनसे 9 घंटे तक पूछताछ की। ईडी ने पूजा और उनके पति अभिषेक सिंघल को रांची स्थित मुख्यालय नहीं छोड़ कर जाने की सलाह दी थी। बीबीसी की एक रिपोर्ट के मुताबिक, झारखंड के कई जिलों की उपायुक्त (डीसी) रह चुकी पूजा सिंघल पिछले दो दशकों में कई महत्वपूर्ण पदों को संभाल चुकी हैं। बतौर रिपोर्ट, इस दौरान सभी मुख्यमंत्रियों के साथ पूजा के अच्छे संबंध रहे हैं। हिंदुस्तान टाइम्स की एक रिपोर्ट के मुताबिक़, ईडी ने मनी लॉन्ड्रिंग केस में आज पूजा सिंघल को गिरफ्तार कर लिया है।

इसी बीच सोशल मीडिया पर अमित शाह के साथ पूजा सिंघल की एक तस्वीर शेयर कर दावा किया जा रहा है कि पूजा सिंघल, केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह की काफी करीबी हैं और ये तस्वीर हाल के दिनों की है। 

Fact Check/Verification

वायरल तस्वीर की सत्यता जांचने के लिए हमने फिल्म मेकर अविनाश दास द्वारा किए गए ट्वीट के रिप्लाई को ध्यान से देखना शुरू किया। अविनाश दास के ट्वीट के जवाब में विशाल सिंह नामक यूजर ने वायरल तस्वीर को रांची में साल 2017 में हुए ‘गरीब कल्याण मेले’ का बताया है।

गूगल पर ‘Amit shah ranchi garib kalyan’ कीवर्ड सर्च करने पर हमें BJP के यूट्यूब चैनल पर 16 सितंबर 2017 को अपलोड किया गया एक वीडियो प्राप्त हुआ। वीडियो में लिखे कैप्शन के अनुसार, गृह मंत्री अमित शाह ने झारखंड में ‘गरीब कल्याण मेले’ को संबोधित किया। वीडियो को ध्यान से देखने पर 30 मिनट 15 सेकेंड पर IAS पूजा सिंघल और गृह मंत्री अमित शाह को एक साथ मंच पर देखा जा सकता है। 

वायरल तस्वीर और बीजेपी द्वारा अपलोड किए गए वीडियो के एक फ्रेम का तुलनात्मक विश्लेषण करने पर पता चलता है कि वायरल तस्वीर में अमित शाह और IAS पूजा सिंघल ने जो कपड़े पहन रखे हैं, वही कपड़े दोनों ने बीजेपी द्वारा अपलोड किए गए पांच साल पुराने वीडियो में पहना हुआ है।

न्यूज़चेकर द्वारा तस्वीरों का किया गया तुलनात्मक विश्लेषण

‘अमित शाह गरीब कल्याण मेला 2017’ कीवर्ड को गूगल करने पर हमें ‘गेटी इमेजेज’ वेबसाइट द्वारा 16 सितंबर 2017 को अपलोड की गई एक तस्वीर प्राप्त हुई, जो कि वायरल तस्वीर से काफी मिलती-जुलती है। गेटी इमेज द्वारा अपलोड की गई तस्वीर में झारखंड के तत्कालीन मुख्यमंत्री रघुबर दास, तत्कालीन बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह और IAS पूजा सिंघल एक साथ मंच पर नज़र आ रहे हैं। ‘गेटी इमेजज’ द्वारा दी गई जानकारी के मुताबिक, ये तस्वीर ‘हिंदुस्तान टाइम्स’ के फोटो पत्रकार दिवाकर प्रसाद ने खींची थी। 

पुष्टि के लिए Newschecker ने दिवाकर प्रसाद से संपर्क किया। उन्होंने हमें बताया, “यह तस्वीर हमने हिंदुस्तान टाइम्स के लिए 2017 में खींची थी। उस समय तत्कालीन भाजपा अध्यक्ष अमित शाह ‘गरीब कल्याण मेले’ के कार्यक्रम में रांची पहुंचे थे। उस वक्त अमित शाह के साथ झारखंड के तत्कालीन मुख्यमंत्री रहुबर दास भी मौजूद थे।”

इसके अलावा हमने फेसबुक पर ‘अमित शाह पूजा सिंघल’ कीवर्ड को खोजा। हमें Shree Ram नामक फेसबुक यूजर द्वारा 16 सितंबर 2017 को शेयर किया गया एक पोस्ट प्राप्त हुआ। पोस्ट में एक तस्वीर संलग्न है, जिसमें अमित शाह मंच पर नज़र आ रहे हैं। पोस्ट में लिखे कैप्शन के अनुसार, “आज गरीब कल्याण मेला में भारतीय जनता पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष श्री अमित शाह जी के द्वारा झारखंड गौ सेवा आयोग के माध्यम से निर्गत धनराशि श्री गंगा गौशाला कतरास- करकेंद को प्राप्त हुई। इसके लिए झारखंड़ सरकार के मुख्यमंत्री श्री रघुवर दास, पशुपालन मंत्री श्री रणधीर सिंह, पशुपालन सचिव श्रीमती पूजा सिंघल और गो सेवा आयोग के सचिव श्री ओमप्रकाश पांडे सभी का श्री गंगा गौशाला आभारी है।”

इस तरह स्पष्ट है कि रांची में सितंबर 2017 में हुए ‘गरीब कल्याण मेला’ कार्यक्रम में अमित शाह और पूजा सिंघल दोनों मंच पर मौजूद थे। 

हालांकि, हमारी पड़ताल में हमें वायरल तस्वीर के असली स्रोत का पता नहीं चल पाया, लेकिन यह स्पष्ट है कि वायरल तस्वीर पांच साल पुरानी है

Conclusion

इस तरह हमारी पड़ताल में स्पष्ट है कि गृह मंत्री अमित शाह और आईएएस पूजा सिंघल की वायरल तस्वीर सितंबर 2017 की है। जब अमित शाह एक कार्यक्रम में झारखंड की राजधानी पहुंचे थे।

Result: False Context/False

Our Sources
Tweet by Vishal A Singh on 8 May 2022
YouTube Video uploaded by Bhartiya Janata Party on 16 September 2022
Facebook Post by User Shree Ram on 16 September 2017
Picture uploaded by Getty Images on 16 September 2017
Telephonic conversation with Hindustan Times Photojournalist Diwakar Prasad On 11 May 2022

किसी संदिग्ध ख़बर की पड़ताल, संशोधन या अन्य सुझावों के लिए हमें WhatsApp करें: 9999499044 या ई-मेल करें: [email protected]

Shubham Singh
Shubham Singh
An enthusiastic journalist, researcher and fact-checker, Shubham believes in maintaining the sanctity of facts and wants to create awareness about misinformation and its perils. Shubham has studied Mathematics at the Banaras Hindu University and holds a diploma in Hindi Journalism from the Indian Institute of Mass Communication. He has worked in The Print, UNI and Inshorts before joining Newschecker.
Shubham Singh
Shubham Singh
An enthusiastic journalist, researcher and fact-checker, Shubham believes in maintaining the sanctity of facts and wants to create awareness about misinformation and its perils. Shubham has studied Mathematics at the Banaras Hindu University and holds a diploma in Hindi Journalism from the Indian Institute of Mass Communication. He has worked in The Print, UNI and Inshorts before joining Newschecker.

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें

Most Popular