सोमवार, मई 16, 2022
सोमवार, मई 16, 2022

होमFact Checkबाबा रामदेव की लगभग 4 साल पुरानी वीडियो को अभी का बताकर...

बाबा रामदेव की लगभग 4 साल पुरानी वीडियो को अभी का बताकर किया जा रहा है शेयर

ट्विटर पर बाबा रामदेव का 45 सेकेंड का एक वीडियो वायरल हो रहा है। यह वीडियो किसी एयरपोर्ट का लग रहा है। वीडियो में एयरपोर्ट के बाहर कुछ लोगों को बाबा रामदेव के खिलाफ विरोध प्रदर्शन करते हुए देखा जा सकता है। वीडियो को शेयर करते हुए दावा किया जा रहा है कि जोधपुर में बाबा रामदेव के खिलाफ नारेबाजी हुई, जिसकी वज़ह से उन्हें वापस लौटना पड़ा।

आर्टिकल लिखे जाने तक ट्वीट किए गए वायरल वीडियो को 810 से ज्यादा लोग रीट्वीट और 2 हजार 75 से ज्यादा लोग लाइक कर चुके हैं। 

बाबा रामदेव की वायरल वीडियो को फेसबुक और ट्विटर पर कई अन्य यूज़र्स द्वारा भी शेयर किया गया है।

ट्विटर पर वायरल हो रहे वीडियो के आर्काइव वर्ज़न को यहां और यहां देखा जा सकता है। 

Fact Check/Verification

क्या जोधपुर में बाबा रामदेव के खिलाफ हुई नारेबाज़ी के चलते उन्हें वापस लौटना पड़ा? इस दावे का सच जानने के लिए सबसे पहले हमने InVID टूल की मदद से बनाए कीफ्रेम को Google Reverse Image Search किया। इस दौरान हमें Lokvarta और Bharat Adda India नामक YouTube चैनल पर 28 सितंबर 2017 और 1 अक्टूबर 2017 को अपलोड किए गए वीडियो मिले। वीडियो के शीर्षक (Title) में लिखा है, जोधपुर में बाबा रामदेव का जमकर हुआ विरोध प्रदर्शन और लोगों ने काले धन को वापस लाने की मांग की। वीडियो में लोगों को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और भारतीय जनता पार्टी के खिलाफ जमकर नारेबाज़ी करते हुए देखा जा सकता है।

पड़ताल के अगले चरण में अलग-अलग कीवर्ड्स की मदद से गूगल सर्च करने पर हमें 28 सितंबर 2017 और 29 सितंबर 2017 को जनसत्ता और अमर उजाला द्वारा प्रकाशित रिपोर्ट मिली। प्राप्त रिपोर्ट से मिली जानकारी के मुताबिक, पतंजलि कंपनी के संस्थापक बाबा रामदेव के खिलाफ जोधपुर एयरपोर्ट पर भीड़ द्वारा जमकर विरोध किया गया था। दरअसल बाबा जोधपुर में पतंजलि ग्रामाद्योग का उद्घाटन करने पहुंचे थे। लेकिन वहां पहुंचकर उन्हें कांग्रेस कार्यकर्ताओं के विरोध का सामना करना पड़ा था।

जोधपुर में बाबा रामदेव के खिलाफ हुई जमकर नारेबाजी
जोधपुर में बाबा रामदेव के खिलाफ हुई जमकर नारेबाजी

Read More: राजस्थान के करौली की एक साल पुरानी घटना को अभी का बताकर किया गया शेयर

Conclusion

हमारी पड़ताल में साफ होता है कि सोशल मीडिया पर बाबा रामदेव के चार साल पुराने वीडियो को अभी का बताकर शेयर किया जा रहा है। यह वीडियो हाल फिलहाल का नहीं बल्कि सितंबर 2017 का है। 

Result: Misleading 


Our Sources

Lokvarta 

Bharat Adda India

जनसत्ता 

अमर उजाला


किसी संदिग्ध ख़बर की पड़ताल, संशोधन या अन्य सुझावों के लिए हमें WhatsApp करें: 9999499044  या ई-मेल करें: [email protected]

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें

Most Popular