शुक्रवार, अक्टूबर 7, 2022
शुक्रवार, अक्टूबर 7, 2022

होमFact Checkअमित शाह के बंगाल दौरे से पहले नहीं तोड़ा गया था शांति...

अमित शाह के बंगाल दौरे से पहले नहीं तोड़ा गया था शांति निकेतन का ‘घंटा टोला’, जानिए वायरल दावे का सच

सोशल मीडिया पर एक टूटे हुए स्मारक की तस्वीर वायरल हो रही है। यह तस्वीर Agnivo Niyogi के आधिकारिक हैंडल से ट्वीट की गई है। इस तस्वीर को शेयर करते हुए दावा किया जा रहा है कि यह फोटो कोलकाता के शांति निकेतन के क्षतिग्रस्त ‘घंटा टोला’ की है। साथ ही यह भी कहा जा रहा है कि यह स्मारक गृहमंत्री अमित शाह के दौरे से ठीक पहले तोड़ा गया था। धीरे-धीरे रविंद्र नाथ टैगोर की निशानियों को खत्म किया जा रहा है।

वायरल पोस्ट के आर्काइव वर्ज़न को यहां और यहां देखा जा सकता है।

इस दावे के फेसबुक पर भी कई यूज़र्स द्वारा शेयर किया जा रहा है।

https://www.facebook.com/109633997413633/photos/a.109652737411759/211805617196470/
https://www.facebook.com/pratick.sharma.92/posts/3469036743213136
गृहमंत्री अमित शाह के बंगाल दौरे से पहले नहीं तोड़ा गया था ‘घंटा टोला’

Google Reverse Image Search की मदद से खंगालने पर हमें 26 अगस्त 2020 को News18 द्वारा प्रकाशित की गई मीडिया रिपोर्ट मिली। इसके मुताबिक शांति निकेतन के प्राचीन घंटे पर बरगद का पेड़ गिरने से घंटा टोला क्षतिग्रस्त हो गया था। लगातार हो रही तेज़ बारिश और हल्के भूकंप के कारण क्लॉक टावर बुरी तरह क्षतिग्रस्त हो गया था।

गृहमंत्री अमित शाह के बंगाल दौरे से पहले नहीं तोड़ा गया था ‘घंटा टोला’

अधिक खोजने पर हमें Bartamanpatrika और Anandabazar Patrika.com नामक वेबसाइट्स पर बांग्ला रिपोर्ट्स मिली। इन रिपोर्ट्स के मुताबिक शांति निकेतन के प्राचीन घंटे पर बरगद का पेड़ गिरने से यह टूट गया था।  

गृहमंत्री अमित शाह के बंगाल दौरे से पहले नहीं तोड़ा गया था ‘घंटा टोला’

YouTube खंगालने पर हमें EH JHALAK News Bolpur नामक चैनल पर 26 अगस्त 2020 को अपलोड की गई वीडियो मिली। इस वीडियो में बताया गया है कि शांति निकेतन में भारी बारिश होने के कारण बरगद का पेड़ गिर गया था जिसके चलते प्राचीन घंटा टोला टूट गया।

News18 द्वारा प्रकाशित मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक शांति निकेतन में क्षतिग्रस्त हुए घंटे की अभी तक मरम्मत नहीं हुई है। यह घंटा तीन महीने पहले बरगद के पेड़ के गिरने से टूट गया था।

नीचे दोनों तस्वीरों में शांति निकेतन में क्षतिग्रसत हुए घंटा टोला की पहले की और अभी की तस्वीर को देखा जा सकता है। शांति निकेतन छात्रों के लिए सबसे लोकप्रिय स्थान है।

अमित शाह बंगाल दौरा

Conclusion

सोशल मीडिया पर वायरल हो रहे दावे का बारीकी से अध्ययन करने पर हमने पाया कि कोलकाता के घंटा टोला की तस्वीर को भ्रामक दावे के साथ शेयर किया जा रहा है। हमारी पड़ताल में हमने पाया कि तीन महीने पहले शांति निकेतन में तेज़ बारिश के कारण बरगद का पेड़ गिर गया था जिसके चलते घंटा टोला क्षतिग्रस्त हो गया। इस घटना का अमित शाह के बंगाल दौरे से कोई लेना-देना नहीं है।

Result: False


Our Sources

Bartamanpatrika https://bartamanpatrika.com/detailNews.php?cID=17&nID=262686&P=1&nPID=20201202&fbclid=IwAR31ZDhy8X39KbmE5gzgGhH2abCmEAVkdZyN_CNSqCVEC2uU4LHQ3tr3P1I

News18 https://bengali.news18.com/news/south-bengal/tree-breaks-down-on-famous-gantatala-in-shantiniketan-dd-493186.html?ref=inbound_article

YouTube https://www.youtube.com/watch?v=opK0iM_9biQ


किसी संदिग्ध ख़बर की पड़ताल, संशोधन या अन्य सुझावों के लिए हमें WhatsApp करें: 9999499044  या ई-मेल करें: [email protected]

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें

Most Popular