गुरूवार, दिसम्बर 1, 2022
गुरूवार, दिसम्बर 1, 2022

होमहिंदीवायरल तस्वीर में सीएम योगी के साथ खड़ा व्यक्ति नहीं है 8...

वायरल तस्वीर में सीएम योगी के साथ खड़ा व्यक्ति नहीं है 8 पुलिसकर्मियों की हत्या का आरोपी

Claim:

कानपुर में हिस्ट्रीशीटर का नाम है विकास दुबे, जो कि BJP युवा मोर्चा का अध्यक्ष रह चुका है। इसलिए 8 जवान शहीद हो या 80 सरकार को कोई फर्क नहीं पड़ने वाला है। अगर विकास की जगह सलीम होता तो अब तक यह एक आतंकवादी घटना बन चुकी होती। दलाल मीडिया की निकल पड़ती। 

कानपुर में हिस्ट्रीशीटर का नाम है विकास दुबे, जो कि BJP युवा मोर्चा का अध्यक्ष रह चुका है। इसलिए 8 जवान शहीद हो या 80 सरकार को कोई फर्क नहीं पड़ने वाला है। अगर विकास की जगह सलीम होता तो अब तक यह एक आतंकवादी घटना बन चुकी होती। दलाल मीडिया की निकल पड़ती।

जानिए क्या है वायरल दावा:

उत्तर प्रदेश के कानपुर में पुलिस की एक टीम पर बदमाशों ने अंधाधुंध गोलियां चला दीं, जिसमें 8 पुलिसकर्मी शहीद हो गए। ऐसे में ट्विटर पर मृत पुलिस कर्मियों की तीन तस्वीरें तेज़ी से वायरल हो रही हैं। दावा किया जा रहा है कि अपराधी बीजेपी से जुड़ा हुआ है इसलिए उसका कोई कुछ भी नहीं कर सकता।

वायरल ट्वीट के आर्काइव वर्जन को यहां देखा जा सकता है। 

Verification:

कानपुर देहात के बिठुर थाना क्षेत्र में दबिश देने पहुंची पुलिस टीम पर बदमाशों ने ताबड़तोड़ गोलियां बरसाईं। गुरूवार रात 1 बजे दविश देने पहुंची पुलिस टीम पर विकास दुबे नाम के शख्स ने फायरिंग कर दी थी। इस घटना में सीओ बिल्हौर देवेंद्र मिश्र समेत 8 पुलिसकर्मी शहीद हो गए हैं। जबकि एसओ बिठूर कौशलेंद्र प्रताप समेत 6 पुलिसकर्मी गंभीर रूप से जख्मी हुए हैं। 

वायरल दावे को विभिन्न सोशल मीडिया माध्यमों पर अलग-अलग यूज़र्स द्वारा शेयर किया जा रहा है। 

https://www.facebook.com/rajeshranjanpappuyadav/photos/a.240804212631327/3317594821618902/

https://twitter.com/Tauseefansari03/status/1278982356007780352?s=20

पप्पू यादव ने भी अपने आधिकारिक ट्विटर हैंडल से दावे को ट्वीट किया गया है। 

ट्वीट के आर्काइव वर्जन को यहां देखा जा सकता है।

पड़ताल की शुरूआत के दौरान हमें अपराधी विकास दुबे की तस्वीर हाथ लगी। इसके बाद हमने वायरल तस्वीर और अपराधी विकास दुबे की तस्वीर को मिलाया। दोनों तस्वीरों में अंतर को साफ देखा जा सकता है।

इसके बाद हमने वायरल तस्वीर और अपराधी विकास दुबे की तस्वीर को मिलाया। दोनों तस्वीरों में अंतर को साफ देखा जा सकता है।

अब हमने यह तलाशना शुरू किया कि सोशल मीडिया पर सीएम योगी आदित्यनाथ के साथ खड़ा शख्स आखिर कौन है? कुछ टूल्स की मदद से खंगालने पर कुछ अलग-अलग फेसबुक पेज हमारे हाथ लगे। 

अब हमने यह तलाशना शुरू किया कि सोशल मीडिया पर सीएम योगी आदित्यनाथ के साथ खड़ा शख्स आखिर कौन है? कुछ टूल्स की मदद से खंगालने पर कुछ अलग-अलग फेसबुक पेज हमारे हाथ लगे।

पड़ताल में हमने पाया कि यह पेज अपराधी विकास दुबे का नहीं बल्कि उत्तर प्रदेश के कानपुर के एक भाजपा नेता का है। कानपुर के इस भाजपा नेता का नाम भी विकास दुबे ही है और यह कानपुर बुदेलखंड इलाके के क्षेत्रीय प्रभारी हैं। यह वही शख्स हैं जो वायरल तस्वीर में सीएम योगी के बगल में खड़े हुए हैं।   

यह पेज अपराधी विकास दुबे का नहीं बल्कि उत्तर प्रदेश के कानपुर के एक भाजपा नेता का है। कानपुर के इस भाजपा नेता का नाम भी विकास दुबे ही है और यह कानपुर बुदेलखंड इलाके के क्षेत्रीय प्रभारी हैं। यह वही शख्स हैं जो वायरल तस्वीर में सीएम योगी के बगल में खड़े हुए हैं।

Pandit Vikas Dubey Bjym नामक फेसबुक पेज को खंगालने पर हमारे हाथ एक वीडियो लगी। इस वीडियो में सोशल मीडिया पर विकास दुबे के नाम को लेकर चल रहे दावों पर बयान दिया गया है। इसमें वे कह रहे हैं कि “कुछ अराजक तत्वों द्वारा ट्विटर व फेसबुक पर अपराधी विकास दुबे का नाम मेरे साथ जोड़ा रहा है। ऐसे लोगों के खिलाफ मैं मुकदमा दर्ज करने जा रहा हूं। 


https://www.facebook.com/100028272547969/videos/600288384256908

Pandit Vikas Dubey Bjym ने फेसबुक पर 3 तस्वीरें पोस्ट करते हुए लिखा “अफवाहों से बचें, जो भी लोग आज पुलिस के साथ बदमाशों की हुई मुठभेड़ में उनकी शहादत को नमन करने की बजाय घटिया राजनीति करने का काम कर रहे हैं। सोशल मीडिया के माध्यम से मेरी फोटो डालकर मुझको आरोपी विकास दुबे बताकर संगठन को बदनाम करने की कोशिश कर रहे हैं किसी व्यक्ति का नाम एक हो जाने से उसका किरदार एक नहीं हो जाता। मेरे चरित्र से व मेरे व्यक्तिगत स्वभाव से आप सभी भलीभांति परिचित होंगे मैंने सदैव संगठन के लिए व राष्ट्र सेवा के लिए अपने कदम बढ़ाए हैं। आप सभी महानुभावों से मेरा निवेदन है कि गलत फोटो डालकर लोगों को भ्रमित करने का कार्य ना करें. और जिसने भी इस तरह की गलत पोस्ट की है तत्काल उसे डिलीट करने का कार्य करें”। 

सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म पर वायरल हो रही तस्वीर का बारीकी से अध्ययन करने पर हमने पाया कि सीएम योगी आदित्यनाथ के बगल में खड़े शख्स का नाम विकास दुबे है। लेकिन यह 8 पुलिसकर्मियों की हत्या का आरोपी विकास दुबे नहीं है बल्कि भाजपा नेता विकास दुबे हैं। लोगों को भ्रमित करने के लिए यह दावा वायरल किया जा रहा है। 

Tools Used

  • Google Keywords Search 
  • Facebook Search 
  • Twitter Search 

Result: False

(किसी संदिग्ध ख़बर की पड़ताल, संशोधन या अन्य सुझावों के लिए हमें WhatsApp करें: 9999499044  या ई-मेल करें: [email protected])

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें

Most Popular