बुधवार, मई 12, 2021
बुधवार, मई 12, 2021
होमCoronavirusMade In China नहीं है Pfizer की Corona Vaccine, जानिए वायरल फोटो...

Made In China नहीं है Pfizer की Corona Vaccine, जानिए वायरल फोटो का सच

सोशल मीडिया पर कोरोना वैक्सीन (vaccine) की एक फोटो वायरल हो रही है। जिसे लेकर दावा किया जा रहा है कि इसे फाइजर (Pfizer) ने बनाया है, लेकिन ये चीन में बनी है। फोटो को शेयर करते हुए यह भी कहा जा रहा है कि वैक्सीन (vaccine) आ गई है, सोचा बता दूँ ‘Made In China’ का टैग लग चुका है। कौन-2 बहिष्कार कर रहा है? इसी के साथ एक और तस्वीर वायरल हो रही है।

यह तस्वीर कई यूजर्स द्वारा हमारी WhatsApp हेल्पलाइन पर भी भेजी जा रही है।


वायरल पोस्ट से जुड़ा आर्काइव लिंक यहां देखा जा सकता है

यहां पढ़ें कोरोना वैक्सीन से जुड़ी खबरों के फैक्ट चैक

Fact Check/Verification

इस तस्वीर को देखकर हमें इसके फ़ेक होने का अंदेशा हुआ। सोशल मीडिया (social media) पर वायरल दावे की सच्चाई जानने के लिए हमने पड़ताल शुरू की। सबसे पहले हमने Google Reverse Image Search की मदद से तस्वीर को खोजने का प्रयास किया। इस दौरान हमें वायरल दावे से जुड़ी कोई जानकारी नहीं मिली। फिर हमने वायरल फोटो को ध्यान से देखा, फोटो पर वेपराइजर कार्टरीड्ज लिखा हुआ था।

कैसे ली जा रही है Pfizer की कोविड वैक्सीन?

इसे देखने के बाद हमने इसे Google पर सर्च करना शुरू किया। गूगल पर सर्च करने पर हमें पता चला कि वेपराइजर कार्टरीड्ज (Vaporiser Cartridge) को मुंह या नाक से सांस के द्वारा खींच कर लिया जाता है। इसके बाद हमने सर्च करना शुरू किया कि क्या सच में वैक्सीन (vaccine) को इसी तरह-से लिया जा रहा है।

हमने वैक्सीन (vaccine) से जुड़ी जानकारी हासिल करने के लिए NHS यानि की नेशनल हेल्थ सर्विस की वेबसाइट पर सर्च करना शुरू किया। नेशनल हेल्थ सर्विस की वेबसाइट पर जाकर हमें पता चला कि असली फाइजर वैक्सीन (vaccine) को ऊपरी बांह में इंजेक्शन द्वारा इंजेक्ट किया जाता है। इस वैक्सीन को दो खुराक के रूप में दिया जाता है। जबकि वायरल तस्वीर में एक ही डोज के बारे में बताया गया है।

अमेरिका की स्वास्थ्य एजेंसी CDC द्वारा दी गई जानकारी के मुताबिक Pfizer-BioNTech की इस दवा का नाम BNT162b2 है जिसके उत्पादक अमेरिकी कंपनी Pfizer और जर्मनी की कंपनी BioNtech है। इसे दो डोज़ में लेना होगा। ये डोज़ इंजेक्शन के रूप में बांह पर दिया जाएगा।

वहीं अगर बात करें वायरल हो रही तस्वीर की तो Vaporiser Cartridge नाम से कोई भी वैक्सीन Pfizer द्वारा नहीं बनाई गई है। उनकी वेबसाइट पर इस वैक्सीन का कहीं भी ज़िक्र नहीं किया गया है। साथ इस वेबसाइट पर जानकारी दी गई है कि Pfizer ने जो कोविड वैक्सीन तैयार की है उसे अभी FDA की मंजूरी नहीं मिली है लेकिन इसके इमरजेंसी इस्तेमाल की अनुमति दी गई है।

Pfizer ने न्यूज़चेकर को इमेल के जरिए जानकारी दी है कि वायरल हो रही तस्वीर में दिखाया गया प्रोडक्ट असली नहीं है। यह पूछने पर कि क्या यह तस्वीर एडिट की गई है उन्होंने इसे फ़ेक बताया। नीचे इस बातचीत को पढ़ा जा सकता है।

वायरल तस्वीर की पड़ताल

तस्वीर में गलतियां

  • वैक्सीन का नाम: जैसा कि हम पहले भी बता चुके हैं Pfizer-BioNTech द्वारा बनाई गई वैक्सीन का नाम BNT162b2 है।
  • डोज़: तस्वीर के मुताबिक यह एक डोज़ की वैक्सीन है, जबकि CDC और NHS के मुताबिक इस वैक्सीन को दो डोज़ में दिया जाएगा।
  • वैक्सीन लेने का तरीका: तस्वीर में इस वैक्सीन को Vaporiser बताया है जबकि जो वैक्सीन तैयार की गई है वो इंजेक्शन के रूप में बांह पर दी जाएगी।
  • वैक्सीन के उत्पादक: इस वैक्सीन को अमेरिकन कंपनी Pfizer और जर्मन कंपनी BioNtech ने बनाया है।
  • तस्वीर में Pfizer की टैगलाइन: इस तस्वीर में कहीं भी BioNtech का ज़िक्र नहीं है और Pfizer के नीचे The Makers of Boner Pill लिखा गया है जिससे ऐसा लगता है कि इसे एक मज़ाक के रूप में बनाया गया है।

Conclusion

सोशल मीडिया पर एक तस्वीर को Pfizer की कोविड वैक्सीन बताकर किया जा रहा दावा सही नहीं है। यह वैक्सीन इंजेक्शन के जरिए ली जानी है ये कोई वौपोराइज़र नहीं है। इसे बनानी वाली एक कंपनी अमेरिकन है और दूसरी जर्मन। साथ ही इसका नाम BNT162b2 है।

Result: Misleading


Our Sources

Google revers image

Google

Pfizer – https://www.pfizer.com/news/press-release/press-release-detail/pfizer-and-biontech-celebrate-historic-first-authorization

NHS – https://www.nhs.uk/conditions/coronavirus-covid-19/coronavirus-vaccination/coronavirus-vaccine/

CDS- https://www.cdc.gov/coronavirus/2019-ncov/vaccines/different-vaccines/Pfizer-BioNTech.html


किसी संदिग्ध ख़बर की पड़ताल, संशोधन या अन्य सुझावों के लिए हमें WhatsApp करें: 9999499044  या ई-मेल करें: checkthis@newschecker.in

Pragya Shukla
Pragya Shukla
Pragya has completed her Masters in Mass Communication, and has been doing content writing for the last four years. Due to bias and incomplete facts in mainstream media, she decided to become a fact-checker.

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular