गुरूवार, मई 19, 2022
गुरूवार, मई 19, 2022

होमFact Checkकोलकाता नहीं बांग्लादेश का है सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा ये...

कोलकाता नहीं बांग्लादेश का है सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा ये वीडियो

Claim

यह वीडियो कोलकाता का है. ये बांग्लादेशी नागरिक हैं, इनके पास भारत की नागरिकता नहीं है. यह आलम तो तब है जब इनको किसी तरह की नागरिकता नहीं मिली हुई है, सोचो इनको नागरिकता मिलने के बाद ये क्या करेंगे? अब भगवान ही इस देश की रक्षा करें.

 

Verification

नागरिकता संसोधन कानून जब से संसद से पारित हुआ है तभी से सोशल मीडिया पर इस कानून के संबंध में अनेकों तरह के दावे वायरल होते आ रहें हैं. कुछ यूजर्स के द्वारा इस कानून के विरोध में भ्रामक दावे किए जा रहे हैं तो वहीं कुछ यूजर्स इस कानून के विरोध में भ्रामक दावे कर रहें हैं. इसी क्रम में हमें एक वायरल दावा प्राप्त हुआ जो कि सोशल मीडिया पर काफी तेजी से शेयर किया जा रहा है, इस वीडियो में दावा किया जा रहा है कि बांग्लादेशी नागरिकों ने कोलकाता में  उत्पात मचाया. वीडियो में कथित बांग्लादेशी नागरिकों के उत्पात को दिखा कर यह दावा किया जा रहा है कि अभी इनको भारत की नागरिकता ना मिलने पर ये इतना उत्पात कर रहें तो जब इनको नागरिकता मिल जाएगी तब इनका उत्पात और ज्यादा बढ़ जायेगा.

 

इस वीडियो की पड़ताल के क्रम में हमने सबसे पहले वीडियो को बारीकी से देखा तो वायरल वीडियो में 23 सेकंड और 42 सेकंड पर बांग्ला में रेलवे स्टेशन का नाम लिखा मिला. बांग्ला में लिखे नाम का हिंदी अनुवाद करने पर हमें पता चला कि उक्त स्टेशन का नाम ब्राह्मणबाड़िया है तथा यह स्टेशन बांग्लादेश में स्थित है. अब उक्त जानकारी से मिलते जुलते कीवर्ड्स की सहायता से गूगल सहित अन्य प्लेटफॉर्म्स पर सर्च करने पर हमें एक यूट्यूब चैनल मिला जिसमे “b.baria-madrasha student clash….” टाइटल के साथ एक वीडियो सीरीज शेयर कर यह बताया गया है कि यह घटना ब्राह्मणबरिया या ब्राह्मणबाड़िया नामक स्थान की है.

 

 

 

 

वीडियो चूकि बांग्ला भाषा में है अतः हमने बांग्ला भाषा की जानकार अपने टीम की सदस्या से इस घटना का सच जाना. हमारी टीम की सदस्या ने बताया कि वीडियो के मुताबिक़ ब्राह्मणबरिया या ब्राह्मणबाड़िया नामक स्थान पर स्थानीय दुकानदारों और मदरसा छात्रों के बीच हुई मारपीट में एक मदरसा छात्र की मृत्यु हो गई थी जिसके बाद छात्र उग्र हो गए और उन्होंने सार्वजनिक संपत्ति को नुकसान पहुँचाने लगें.

 

अब चूकि हमें इस घटना का असल पहलू समझ में आ चुका था इसलिए हमने अपनी पड़ताल को आगे बढाकर इस घटना के बारे में और अधिक जानकारी प्राप्त करने का प्रयास किया.

 

अपने पड़ताल के दुसरे चरण में हमने वीडियो को की-फ्रेम्स में ब्रेक किया ताकि हम वीडियो के की फ्रेम्स की सहायता से रिवर्स सर्च कर वीडियो के बारे में और अधिक जानकारी प्राप्त कर पाएं. वीडियो के की फ्रेम को गूगल पर सर्च करने पर हमें पता चला कि यह वीडियो भारत का नहीं है. https://www.thedailystar.net/ नामक वेबसाइट में प्रकाशित एक लेख की माने तो यह घटना बांग्लादेश के ब्राह्मणबाड़िया की है और मदरसा छात्रों और दुकानदारों के बीच हुई मारपीट में छात्र की मृत्यु के बाद भड़की हिंसा को इस वीडियो में कैद किया गया है.

 

Mayhem at B’baria

Enraged madrasa students went berserk in Brahmanbaria town yesterday over the death of a fellow student.Armed with bamboo sticks and iron rods, they vandalised Brahmanbaria Railway Station, removed fishplates of railway tracks, ransacked an Awami League office and set fire to a police van, said witnesses.The violence caused disruptions to railway links between the capital and

 

 

बांग्ला भाषा की जानकर हमारे टीम की सदस्या की सहायता से हमें इस विषय में कुछ और जानकारी प्राप्त हुई जो ऊपर दी गई जानकारी से मिलती जुलती हैं  या यूँ कहें कि उपरोक्त जानकारी का समर्थन करती है.

 

ব্রাহ্মণবাড়িয়া স্টেশনে হামলাকারীরা চিহ্নিত: রেল সচিব | banglatribune.com

রেলপথ মন্ত্রণালয়ের সচিব ফিরোজ সালাউদ্দিন বলেছেন,গত ১২ জানুয়ারি ব্রাহ্মণবাড়িয়া রেল স্টেশনে হামলা হল।কি কারণে হল জানি না।তবে স্টেশনে স্থাপন করা ক্লোজড সার্কিট ক্যামেরার রেকর্ড দেখে হামলাকারীদের শনাক্ত করা হয়েছে।বৃহস্পতিবার রেলভবনে ওয়াইফাই সিস্টেমের উদ্বোধনী অনুষ্ঠানে সচিব এ তথ্য জানান। এ সময় রেলপথ মন্ত্রী মুজিবুল হকসহ রেলওয়ের ঊর্ধ্বতনরা উপস্থিত ছিলেন।রেল সচিব বলেন,সময়ের

 

ব্রাহ্মণবাড়িয়া স্টেশনে হামলার ঘটনায় মামলা

ব্রাহ্মণবাড়িয়া রেলস্টেশনে মাদ্রাসা ছাত্রদের হামলার ঘটনায় অজ্ঞাতনামা এক হাজার দুই শ জন আসামির বিরুদ্ধে মামলা হয়েছে। আজ বুধবার দুপুরে রেলস্টেশন মাস্টার মহিদুর রহমান আখাউড়া রেলওয়ে থানায় এ মামলাটি করেন। আখাউড়া রেলওয়ে থানার ভারপ্রাপ্ত কর্মকর্তা (ওসি) আবদুস সাত্তার মামলার সত্যতা নিশ্চিত…

 

अतः हमारी पड़ताल में यह साबित हो गया कि यह वीडियो नागरिकता संसोधन कानून के विरोध में कोलकाता में हो रहे प्रदर्शन का नहीं है बल्कि बांग्लादेश में स्थित ब्राह्मणबरिया या ब्राह्मणबाड़िया नामक स्थान का है और इस वीडियो का नागरिकता संसोधन कानून से जुड़े विरोध प्रदर्शनों से या भारत से कोई संबंध नहीं है.

 

 

Sources

  • Google Search
  • InVid
  • Reverse Image Search

 

Result: Misleading

 

 

(किसी संदिग्ध ख़बर की पड़तालसंशोधन या अन्य सुझावों के लिए हमें WhatsApp करें: 9999499044 या ई-मेल करें: [email protected])

Saurabh Pandey
Saurabh Pandey
A self-taught social media maverick, Saurabh realised the power of social media early on and began following and analysing false narratives and ‘fake news’ even before he entered the field of fact-checking professionally. He is fascinated with the visual medium, technology and politics, and at Newschecker, where he leads social media strategy, he is a jack of all trades. With a burning desire to uncover the truth behind events that capture people's minds and make sense of the facts in the noisy world of social media, he fact checks misinformation in Hindi and English at Newschecker.
Saurabh Pandey
Saurabh Pandey
A self-taught social media maverick, Saurabh realised the power of social media early on and began following and analysing false narratives and ‘fake news’ even before he entered the field of fact-checking professionally. He is fascinated with the visual medium, technology and politics, and at Newschecker, where he leads social media strategy, he is a jack of all trades. With a burning desire to uncover the truth behind events that capture people's minds and make sense of the facts in the noisy world of social media, he fact checks misinformation in Hindi and English at Newschecker.

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें

Most Popular