गुरूवार, सितम्बर 16, 2021
गुरूवार, सितम्बर 16, 2021
होमFact Checkकांग्रेस सहित कई सोशल मीडिया यूजर्स ने केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी का...

कांग्रेस सहित कई सोशल मीडिया यूजर्स ने केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी का 10 साल पुराना वीडियो गलत दावे के साथ किया शेयर

किसान आंदोलन पर हर रोज कई बड़ी हस्तियां अपनी प्रतिक्रिया दे रही हैं। बीजेपी नेताओं की भी प्रतिक्रिया इस आंदोलन पर देखने को मिलती रहती है। संसद में भी इस मुद्दे पर चर्चा चल रही है। हाल ही में पीएम मोदी ने देश में लगातार होते आंदोलनों पर अपनी प्रतिक्रिया दी थी। पीएम मोदी ने कहा था, “पिछले कुछ समय से देश में ‘आंदोलनजीवियों’ की एक नई जमात पैदा हुई है, जो कि आंदोलन के बिना चैन से जी ही नहीं सकती हैं।” 

पीएम मोदी के इस बयान पर विपक्ष लगातार हमलावर है। इसी बीच सोशल मीडिया पर केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी का एक वीडियो वायरल हो रहा है। वीडियो में नितिन गडकरी (Nitin Gadkari) कहते हुए नजर आ रहे हैं कि “प्रधानमंत्री जी जो बात कह रहे हैं वह लोकतंत्र के बिल्कुल खिलाफ है। भ्रष्ट सरकार के खिलाफ शांतिपूर्ण आंदोलन करना विपक्ष और जनता का संवैधानिक अधिकार है।”

MP Congress और कांग्रेस के मीडिया पैनलिस्ट Surendra Rajput ने भी इस वीडियो को शेयर किया है। एमपी कांग्रेस नेता Subhash Kumar Sojatia ने अपने ट्विटर और फेसबुक दोनों अकॉउंटस पर इस वीडियो को शेयर किया है।

पोस्ट से जुड़ा आर्काइव लिंक यहां देखा जा सकता है।

पोस्ट से जुड़ा आर्काइव लिंक यहां देखा जा सकता है।

पोस्ट से जुड़ा आर्काइव लिंक यहां देखा जा सकता है।

https://www.facebook.com/subhashkumarsojatia/videos/277928767007726

फेसबुक पर वायरल इस पोस्ट को आप यहां देख सकते हैं। ट्विटर पर वायरल इस पोस्ट को आप यहां पर देख सकते हैं

Fact Check/Verification

वायरल वीडियो का सच जानने के लिए हमने InVID टूल की मदद से क्लिप के कुछ कीफ्रेम्स निकाले। एक कीफ्रेम को गूगल रिवर्स इमेज और यांडेक्स के जरिए सर्च किया। लेकिन इस प्रक्रिया में हमारे हाथ कोई सबूत नहीं लगा।

इसके बाद हमने एक बार फिर से पूरे वीडियो को ध्यान से सुना और देखा। इस दौरान हमारी नजर वीडियो पर बने कमल के लोगो पर गई। यह बीजेपी का पुराना लोगो है जिसे वर्षों पहले बदला जा चुका है। अब हमने बीजेपी के यूट्यूब चैनल को खंगालना शुरू किया। घंटो तक सर्च करने के बाद हमें बीजेपी के चैनल पर नितिन गडकरी का असली वीडियो मिला। जो कि 10 साल पुराना यानि साल 2011 का था।

साल 2011 में केंद्र में कांग्रेस की सरकार थी और उस समय नितिन गडकरी बीजेपी अध्यक्ष और विपक्ष के नेता थे। 2011 वो दौर था जब अन्ना हजारे ने भ्रष्टाचार के खिलाफ जंतर-मंतर पर आमरण अनशन किया था। इस आंदोलन में बीजेपी अन्ना हजारे के साथ थी। इस अनशन को रोकने के लिए कांग्रेस सरकार ने कई कदम उठाये थे।

वायरल वीडियो में नितिन गडकरी (Nitin Gadkari) कांग्रेस सरकार और उस समय के प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह की आलोचना करते हुए नजर आ रहे हैं। वीडियो में वह किसान आंदोलन नहीं बल्कि अन्ना आंदोलन की बात कर रहे हैं। यूट्यूब चैनल पर अपलोड इस वीडियो के कैप्शन में भी अन्ना हजारे का नाम लिखा गया है।

पड़ताल के दौरान हमें साल 2011 में प्रकाशित BBC और Danik Jagran की रिपोर्ट्स प्राप्त हुई। जिसमें नितिन गडकरी देश में बढ़ते भ्रष्टाचार के लिए कांग्रेस सरकार की आलोचना कर रहे हैं। छानबीन के समय हमें Aajtak की एक रिपोर्ट मिली। रिपोर्ट के मुताबिक उसी साल बाबा रामदेव ने भी कालेधन को लेकर सत्याग्रह किया था। जिसे कांग्रेस सरकार ने रातों रात खत्म कर दिया था। इस वीडियो में नितिन गडकरी (Nitin Gadkari) बाबा रामदेव को लेकर भी बात करते नजर आ रहे हैं।

गौरतलब है कि नितिन गडकरी कई बार अपनी सरकार के खिलाफ जाकर उसकी नीतियों की आलोचना कर चुके हैं। ऐसे में क्या इस बार भी नितिन गडकरी (Nitin Gadkari) मोदी सरकार के खिलाफ जाकर किसान आंदोलन के साथ हैं। इस बारे में पता करने के लिए गूगल पर कुछ कीवर्ड्स के जरिए सर्च करना शुरू कर दिया।

इस दौरान हमें कई मीडिया रिपोर्ट्स मिली। रिपोर्ट्स के मुताबिक नितिन गडकरी को नया कृषि बिल किसानों के हित में लाया गया कानून लगता है। नितिन गडकरी ने अपने कई इंटरव्यू में ये कहा है कि इस बिल को किसानों के हित के लिए लाया गया है। सर्च के दौरान हमें ऐसी कोई मीडिया रिपोर्ट नहीं मिली जिसमें नितिन गडकरी ने नए कृषि कानून का विरोध किया हो।

हमने नितिन गडकरी के सोशल मीडिया अकाउंट्स को भी खंगाला। लेकिन वहां भी हमें ऐसी कोई पोस्ट नहीं मिली। जिसमें नितिन गडकरी किसानों का समर्थन और सरकार की आलोचना कर रहे हों। नितिन गडकरी लगातार पीएम मोदी के समर्थन में ट्वीट कर रहे हैं। वो पीएम मोदी के ट्वीट को भी रिट्वीट कर रहे हैं। इससे साफ होता है कि नितिन गडकरी (Nitin Gadkari) ने पीएम मोदी के खिलाफ कुछ नहीं कहा है।

Conclusion

हमारी पड़ताल में मिले तथ्यों के मुताबिक केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी (Nitin Gadkari) का 10 साल पुराना वीडियो गलत दावे के साथ शेयर किया जा रहा है। असल में केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह की नीतियों की आलोचना कर रहे हैं। वो किसान आंदोलन को नहीं बल्कि 2011 में अन्ना हजारे द्वारा किए गए आंदोलन का समर्थन कर रहे हैं। 

Result: False


Our Sources

Danika Jagran – https://www.jagran.com/news/national-pm-should-quit-over-defeat-on-lokpal-bill-gadkari-8700443.html

Youtube- https://www.youtube.com/watch?v=brvzZwOEP6A

Twitter – https://twitter.com/nitin_gadkari


किसी संदिग्ध ख़बर की पड़ताल, संशोधन या अन्य सुझावों के लिए हमें WhatsApp करें: 9999499044  या ई-मेल करें: checkthis@newschecker.in

Pragya Shukla
Pragya has completed her Masters in Mass Communication, and has been doing content writing for the last four years. Due to bias and incomplete facts in mainstream media, she decided to become a fact-checker.

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular