गुरूवार, दिसम्बर 8, 2022
गुरूवार, दिसम्बर 8, 2022

होमFact Checkक्रिकेटर हरभजन सिंह का पुराना वीडियो भ्रामक दावे के साथ हुआ वायरल

क्रिकेटर हरभजन सिंह का पुराना वीडियो भ्रामक दावे के साथ हुआ वायरल

सोशल मीडिया पर यह दावा किया गया कि क्रिकेटर हरभजन सिंह ने देश में हिन्दू-मुस्लिम के नाम पर नफरत फैलाने वालों को करारा जवाब दिया है.

हरभजन सिंह ने देश में हिन्दू-मुस्लिम के नाम पर नफरत फैलाने वालों को करारा जवाब दिया

भारतीय क्रिकेट टीम के स्पिनर गेंदबाज तथा पुछल्ले बल्लेबाज हरभजन सिंह के नाम कई रिकॉर्ड दर्ज हैं. हरभजन सिंह के क्रिकेट कैरियर की बात करें तो, उन्होंने 25 मार्च 1998 को बैंगलोर के एम चिन्नास्वामी स्टेडियम में ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ खेले गए एक टेस्ट मैच के साथ अपने कैरियर का आगाज किया था. उसके बाद हरभजन ने कभी पीछे मुड़कर नहीं देखा. अब तक भारत के लिए 103 टेस्ट मैच तथा 236 एकदिवसीय मैच खेल चुके हरभजन सिंह का विवादों से पुराना नाता रहा है.

अपनी गेंदबाजी तथा बल्लेबाजी के सहारे भारत को कई मैचों में जीत दिलाने वाले हरभजन सिंह पर साल 2008 में एक मैच के दौरान साथी खिलाड़ी एस. श्रीसंत को थप्पड़ मारने का आरोप भी लगा था. ट्विटर पर भी हरभजन सिंह को कई बार उनके कथित विवादास्पद ट्वीट्स के लिए सोशल मीडिया यूजर्स की नाराजगी झेलनी पड़ी है.

इसी क्रम में सोशल मीडिया पर ABP News का एक वीडियो तेजी से वायरल हो रहा है, जिसमें यह दावा किया गया है कि हरभजन सिंह ने देश में हिन्दू-मुस्लिम के नाम पर नफरत फैलाने वालों को करारा जवाब दिया है. बता दें कि वायरल वीडियो के अनुसार, हरभजन सिंह ने एक ट्वीट कर कहा, “लगभग 50 लाख की आबादी वाला देश क्रोएशिया फ़ुटबॉल वर्ल्ड कप का फाइनल खेलेगा। और हम 135 करोड़ लोग हिंदू मुसलमान खेल रहे हैं। #soch bdlo desh bdlega”

गौरतलब है कि कथित तौर पर देश के मौजूदा राजनीतिक हालात पर तंज कसता हरभजन सिंह का यह वीडियो, कई फेसबुक यूजर्स द्वारा शेयर किया गया है. ‘Yaro Malik’ नामक फेसबुक यूजर द्वारा वायरल वीडियो को लेकर शेयर किये एक पोस्ट को, अब तक 10 लाख से ज्यादा लोग देख चुके हैं.

Fact Check/Verification

क्रिकेटर हरभजन सिंह द्वारा देश में हिन्दू-मुस्लिम के नाम पर नफरत फैलाने वालों को करारा जवाब देने के नाम पर शेयर किये जा रहे, इस वीडियो की पड़ताल के लिए हमने सबसे पहले ‘क्रोएशिया फाइनल खेलेगा हरभजन’ कीवर्ड्स की सहायता से यूट्यूब सर्च किया. बता दें कि सर्च परिणामों में हमें सबसे ऊपर ABP News द्वारा करीब 3 साल पहले प्रकाशित एक वीडियो प्राप्त हुआ.

मालूम हो कि भारत में फुटबॉल मशहूर तो है, लेकिन तमाम अड़चनों और सुविधाओं की कमी के कारण देश कभी फुटबॉल में कोई विश्वकप नहीं जीत पाया है. ABP News द्वारा 16 जुलाई, 2018 को प्रकाशित किये गए इस वीडियो के अनुसार, साल 2018 में आयोजित फीफा वर्ल्ड कप (FIFA World Cup 2018) में क्रोएशिया (Croatia) के फाइनल में पहुंचने के बाद, हरभजन सिंह ने देश में व्याप्त सांप्रदायिकता का विरोध करते हुए उक्त बयान दिया था. वीडियो के डिस्क्रिप्शन के अनुसार, “Indian spinner Harbhajan Singh raised a question on ‘country’s communal conflicts’ and expressed his views on ‘India not being able to make it to the World Cup’. Taking a cue from the FIFA World Cup 2018 final clash between Croatia and France, the cricketer took to Twitter and highlighted that the issue of ‘conflicts between members of Hindu and Muslim communities in the country’. He posed the question that despite having a population of 135 crores India is not competing at the World Cup while Croatia, a country with a mere 50 lakh population stand on the cusp of glory. Using a hashtag ‘soch badlo desh badlega (change your thinking, the country will change)’, he tried to drive across the point. Singh’s tweet came ahead of the FIFA final in which he wrote that Croatia, a country of roughly fifty lakh will play the FIFA World Cup final and we a country of 135 crores are playing Hindu and Muslim among us. He encouraged his fans and masses to ‘change the thinking’ following which ‘the country will also change’.”

इसके बाद, हमने ट्विटर एडवांस्ड सर्च टूल का प्रयोग कर यह जानने का प्रयास किया कि क्या सच में क्रिकेटर हरभजन सिंह ने देश में हिन्दू-मुस्लिम के नाम पर नफरत फैलाने वालो को क्रोएशिया से सीखने की सलाह दी थी. ABP News द्वारा हरभजन सिंह के उक्त ट्वीट के बारे में दी गई जानकारी के आधार पर जब हमने कुछ कीवर्ड्स को ट्विटर पर ढूंढा, तब हमें हरभजन सिंह द्वारा 15 जुलाई, 2018 को शेयर किया गया एक ट्वीट प्राप्त हुआ. उक्त ट्वीट को शेयर कर हरभजन सिंह ने देश में हिन्दू-मुस्लिम के नाम पर नफरत फैलाने वालों को क्रोएशिया की इस उपलब्धि से सीख लेने की सलाह दी है.

गौरतलब है कि साल 2018 में रूस में हुए फीफा वर्ल्ड कप में क्रोएशिया ने फाइनल में अपनी जगह बनाई थी. हालांकि फ्रांस के साथ खेले गए इस मुकाबले में क्रोएशिया को 4-2 से हार का सामना करना पड़ा था. लेकिन क्रोएशिया के खिलाड़ियों के इस उत्कृष्ट प्रदर्शन की चर्चा विश्व भर में हुई थी. इसी दौरान हरभजन सिंह ने देश में हिन्दू-मुस्लिम के नाम पर नफरत फैलाने वालों को क्रोएशिया से प्रेरणा लेकर आगे बढ़ने की सलाह दी थी. अपने इस बयान के बाद हरभजन सिंह ने India Today से की गई बातचीत के दौरान लोगों को अपने ट्वीट का असल मतलब बताते हुए, देशवासियों से इस विषय पर ‘ओवर रिऐक्ट’ ना करने की सलाह भी दी थी.

Conclusion

इस तरह हमारी पड़ताल में यह बात साफ हो जाती है कि क्रिकेटर हरभजन सिंह ने देश में हिन्दू-मुस्लिम के नाम पर नफरत फैलाने वालों को लेकर हाल-फिलहाल में कोई बयान नहीं दिया है. 2018 के फीफा वर्ल्ड कप में क्रोएशिया के फाइनल में पहुंचने के बाद, हरभजन सिंह द्वारा शेयर किये गए ट्वीट को हाल-फिलहाल का बताकर शेयर किया जा रहा है.


Result: Misplaced Context

Our Sources

YouTube video published by ABP News

Harbhajan Singh’s tweet


किसी संदिग्ध ख़बर की पड़ताल, संशोधन या अन्य सुझावों के लिए हमें WhatsApp करें: 9999499044 या ई-मेल करें: [email protected]

Saurabh Pandey
Saurabh Pandey
A self-taught social media maverick, Saurabh realised the power of social media early on and began following and analysing false narratives and ‘fake news’ even before he entered the field of fact-checking professionally. He is fascinated with the visual medium, technology and politics, and at Newschecker, where he leads social media strategy, he is a jack of all trades. With a burning desire to uncover the truth behind events that capture people's minds and make sense of the facts in the noisy world of social media, he fact checks misinformation in Hindi and English at Newschecker.
Saurabh Pandey
Saurabh Pandey
A self-taught social media maverick, Saurabh realised the power of social media early on and began following and analysing false narratives and ‘fake news’ even before he entered the field of fact-checking professionally. He is fascinated with the visual medium, technology and politics, and at Newschecker, where he leads social media strategy, he is a jack of all trades. With a burning desire to uncover the truth behind events that capture people's minds and make sense of the facts in the noisy world of social media, he fact checks misinformation in Hindi and English at Newschecker.

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें

Most Popular