शनिवार, जून 15, 2024
शनिवार, जून 15, 2024

होमFact CheckFact Check: क्या कर्नाटक वक्फ बोर्ड ने बेंगलुरु के आईटीसी विंडसर होटल...

Fact Check: क्या कर्नाटक वक्फ बोर्ड ने बेंगलुरु के आईटीसी विंडसर होटल को खाली करने का दिया नोटिस? जानें सच

Authors

Since 2011, JP has been a media professional working as a reporter, editor, researcher and mass presenter. His mission to save society from the ill effects of disinformation led him to become a fact-checker. He has an MA in Political Science and Mass Communication.

Claim
कर्नाटक वक्फ बोर्ड ने बेंगलुरु के आईटीसी विंडसर होटल को खाली करने का नोटिस दिया है।
Fact
यह दावा भ्रामक है। वायरल खबर साल 2013 की है।

तेलंगाना वक्फ बोर्ड ने हैदराबाद के पांच सितारा होटल मैरियट पर अपनी संपत्ति होने का दावा करते हुए एक याचिका दायर की थी। जिसे हाल ही में तेलंगाना हाईकोर्ट ने खारिज कर दिया है।

वहीं, लोकसभा चुनाव प्रचार रैलियों में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी आरोप लगा रहे हैं कि अगर कांग्रेस सत्ता में आयी तो वक्फ छोड़ अन्य समुदायों की सम्पत्तियों को लोगों में बांट देगी

इसी बीच सोशल मीडिया पर इकोनॉमिक टाइम्स अखबार की एक क्लिपिंग वायरल है। दावा किया जा रहा है कि कर्नाटक में वक्फ बोर्ड द्वारा बेंगलुरु के सात सितारा आईटीसी विंडसर होटल को खाली करने का नोटिस दिया गया है। गौरतलब है कि इस समय कर्नाटक में कांग्रेस की सरकार है, इसलिए पोस्ट के जरिए कांग्रेस पर निशाना साधा जा रहा है। एक्स पोस्ट का आर्काइव यहाँ देखें।

आईटीसी विंडसर
@jpsin1

हालांकि, हमने अपनी जांच में पाया कि यह दावा भ्रामक है। इकोनॉमिक टाइम्स की यह खबर साल 2013 की है। कर्नाटक वक्फ बोर्ड और आईटीसी विंडसर होटल के बीच कोर्ट में चल रहे मामले में हाल में ऐसा कोई फैसला नहीं आया है।

Fact Check/Verification

दावे की पड़ताल के लिए सबसे पहले हमने वायरल दावे के साथ शेयर की गयी तस्वीर को रिवर्स इमेज सर्च किया। परिणाम में हमने पाया कि यह 8 अगस्त 2013 को इकोनॉमिक टाइम्स द्वारा प्रकाशित खबर की क्लिपिंग है।

रिपोर्ट में बताया गया है कि वक्फ बोर्ड द्वारा बेंगलुरु के आईटीसी विंडसर होटल को महीने के आखिर तक खाली करने के लिए कहा गया था। नोटिस के मुताबिक, यह प्रॉपर्टी आगा अली असगर वक्फ एस्टेट की है। दोनों पक्षों के बीच मुख्य विवाद रेंट को लेकर था, जो पहले 5,500 रुपए वर्ग फुट था। हालांकि, बाद में इसे बढ़ाकर 1,65,000 रुपए प्रति वर्ग फुट कर दिया गया था। बोर्ड इस्लाम में हराम पोर्क (सुअर का माँस) और शराब को होटल में सर्व किये जाने से भी नाराज था। वक्फ बोर्ड ने आईटीसी से 2003 में लीज खत्म होने के बाद इसे खाली किए जाने तक की बकाया रकम भी मांगी थी।

Courtesy: Economic times

जांच में आगे हमने आईटीसी विंडसर होटल की वेबसाइट को खंगाला। इस दौरान हमने पाया कि आईटीसी विंडसर होटल, बेंगलुरु अभी भी बुकिंग सेवाएं दे रहा है। अब हमने कर्नाटक वक्फ बोर्ड द्वारा हाल ही में इसे खाली करने का नोटिस दिए जाने पर जानकारी खोजी। लेकिन इस दौरान हमें इस बात की पुष्टि करती कोई खबर नहीं मिली।

पड़ताल में आगे हमने होटल के पब्लिक रिलेशन अफसर से फ़ोन पर बात की। उन्होंने बताया कि यह एक पुराना मामला है और जिस खबर की क्लिप वायरल हो रही है, वह 2013 की है। उन्होंने आगे कहा कि अभी इस मामले पर ऐसा कोई अपडेट नहीं है और हाल में कर्नाटक वक्फ बोर्ड की तरफ से होटल को खाली करने का कोई नोटिस भी नहीं आया है। मामला कोर्ट में है जिस पर किसी भी प्रकार की टिप्पणी करने से उन्होंने इनकार कर दिया।

Courtesy: ITC Windsor

पड़ताल में आगे बढ़ते हुए हमने कर्नाटक वक्फ बोर्ड के मेंबर के.अनवर बाशा से भी इस मामले पर बात की। फ़ोन पर हुई बातचीत में उन्होंने स्पष्ट किया कि वायरल खबर 2013 की है, लेकिन हाल ही में कर्नाटक वक्फ बोर्ड ने आईटीसी विंडसर होटल को खाली करने का कोई नोटिस नहीं दिया है। उन्होंने बताया कि अभी यह मामला कोर्ट में है जिस पर फैसला आना बाकी है।

Conclusion

अपनी जांच में हमने पाया कि हाल में कर्नाटक वक्फ बोर्ड द्वारा बेंगलुरु के आईटीसी विंडसर होटल को खाली करने का कोई नोटिस नहीं दिया गया है। वायरल दावा भ्रामक है।

Result: Missing Context

Sources
Report published by Economic times on 13th August 2013.
Phonic conversation with PR manager of ITC Windsor, Bengaluru.
Phonic conversation with Waqf Board Member K. Anwar Basha.

किसी संदिग्ध ख़बर की पड़ताल, संशोधन या अन्य सुझावों के लिए हमें WhatsApp करें: 9999499044 या ई-मेल करें: checkthis@newschecker.in

फैक्ट-चेक और लेटेस्ट अपडेट्स के लिए हमारा WhatsApp चैनल फॉलो करें: https://whatsapp.com/channel/0029Va23tYwLtOj7zEWzmC1Z

Authors

Since 2011, JP has been a media professional working as a reporter, editor, researcher and mass presenter. His mission to save society from the ill effects of disinformation led him to become a fact-checker. He has an MA in Political Science and Mass Communication.

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें

Most Popular