बुधवार, मई 25, 2022
बुधवार, मई 25, 2022

होमFact Checkप्रसव के दौरान मां की मौत पर डॉक्टर के रोने के दावे...

प्रसव के दौरान मां की मौत पर डॉक्टर के रोने के दावे के साथ वायरल पोस्ट फर्जी है

सोशल मीडिया पर एक तस्वीर शेयर कर दावा किया गया है कि 11 साल बाद मां बनी एक महिला ने अपने नवजात शिशु का जीवन बचाने के लिए उसे जन्म देते ही दुनिया से अलविदा कह दिया। जिसे देखकर वहां मौजूद एक डॉक्टर भी भावुक हो गया। सोशल मीडिया पर वायरल कोलाज में दो तस्वीरें संलग्न हैं। पहली तस्वीर में एक मां अपने नवजात शिशु को लाड-प्यार करती नजर आ रही है, तो वहीं दूसरी तस्वीर में एक मेडिकल कर्मी भावुक नजर आ रहा है। 

एक ट्विटर यूजर ने वायरल तस्वीर शेयर करते हुए लिखा, “11 साल इंतजार बाद मां बनने का अवसर मिला लेकिन मां गंभीर बिमारी से पीड़ित थी,11घंटे डॉक्टरो के प्रयास बाद मां और बच्चे मे से एक ही बच सकता था,मां ने ठंडा स्वास ले कर बच्चे को बचाने का निर्णय ले लिया,तस्वीर मे बच्चा मां का आखरी चुंबन लेते हुए, डॉक्टर भी आंसू नही रोक पाए।”

(उपरोक्त ट्वीट को अक्षरश: लिखा गया है।)

Screenshot of Twitter @Mariyam_Cuty

(उपरोक्त ट्वीट का आर्काइव लिंक यहां देखा जा सकता है।)

वहीं एक फेसबुक यूजर ने वायरल तस्वीर शेयर कर लिखा, “11 साल इंतज़ार क़े बाद मां बनने का अवसर मिला लेकिन मां गंभीर बिमारी से पीड़ित थी, 11घंटे डॉक्टरो के प्रयास बाद मां और बच्चे मे से एक ही बच सकता था, मां ने ठंडा स्वास ले कर बच्चे को बचाने का निर्णय ले लिया,तस्वीर मे बच्चा मां का आखरी चुंबन लेते हुए, डॉक्टर भी आंसू नही रोक पाए,मां।”

(उपरोक्त फेसबुक पोस्ट को अक्षरश: लिखा गया है।)

Screenshot of Facebook/संदीप-कुमार-नेताजी-SC-760103390745746

Fact Check/Verification

‘11 साल बाद मां बनी एक महिला ने अपने नवजात शिशु का जीवन बचाने के लिए उसे जन्म देते ही दुनिया से अलविदा कह दिया। जिसे देखकर वहां मौजूद एक डॉक्टर भी भावुक हो गया, ’दावे के साथ वायरल तस्वीर की सत्यता जानने के लिए हमने वायरल तस्वीर को ध्यान से देखा। हमें एक नवजात बच्चे के साथ उसकी मां की तस्वीर पर वॉटरमार्क लगा हुआ दिखाई दिया। गूगल रिवर्स इमेज सर्च करने के बाद, हमें वायरल तस्वीर Merve Tiritoğlu Şengünler Photography नामक एक फेसबुक पेज पर प्राप्त हुई। वायरल तस्वीर 14 दिसंबर, 2015 को पोस्ट की गई थी। जिसके कैप्शन में लिखा है, ‘En güzel kavuşma’, जिसका हिंदी अनुवाद है ‘सबसे खूबसूरत पुनर्मिलन।’

Watermark in the viral image
Screenshot of Facebook Page Merve Tiritoğlu Şengünler Photography

हमने अपनी पड़ताल के दौरान वायरल तस्वीर के साथ संल्गन मेडिकल कर्मी की तस्वीर की सत्यता जांचने के लिए तस्वीर को गूगल रिवर्स इमेज के माध्यम से खोजना शुरू किया। इस दौरान हमें मेडिकल कर्मी की तस्वीर  ‘ozgemetinphotography’ नामक एक इंस्टाग्राम पेज पर प्राप्त हुई, जिसे 5 सितंबर, 2017 को अपलोड किया गया था। इस तस्वीर के साथ कैप्शन लिखा था, ‘azı babalar o kadar güzel yaşıyor ki bu anları. ..Icimden iyi ki baba olmuş diyorum.’ जिसका हिंदी अनुवाद है, ‘कुछ पिता इन पलों को इतनी खूबसूरती से जीते हैं..मुझे यह बताते हुए खुशी हो रही है कि ये पिता बन गए हैं।’

Screenshot of Instagram Page ozgemetinphotography

इससे पूर्व भी सोशल मीडिया पर एक तस्वीर शेयर कर दावा किया गया था कि 11 साल बाद मां बनी राजस्थान की सुहानी ने अपने नवजात शिशु का जीवन बचाने के लिए उसे जन्म देते ही दुनिया से अलविदा कह दिया। Newschecker की पड़ताल में वायरल दावा भ्रामक निकला।

Conclusion 

11 साल बाद मां बनी एक महिला ने अपने नवजात शिशु का जीवन बचाने के लिए उसे जन्म देते ही दुनिया से अलविदा कह दिया, जिसे देखकर वहां मौजूद एक डॉक्टर भी भावुक हो गया, दावे के साथ सोशल मीडिया पर वायरल हो रही तस्वीर के साथ फर्जी दावा किया गया है। तस्वीर में दिख रही महिला की मृत्यु नहीं हुई है और तस्वीर में दिख रहा भावुक पुरुष डॉक्टर नहीं है। दोनों तस्वीरों को दो अलग-अलग स्थानों पर अलग-अलग समय पर क्लिक गया था और उन्हें एक साथ जोड़कर फर्जी दावा शेयर किया गया है।

Result: False/Fabricated

Our Sources

Facebook Page Of Merve Tiritoğlu Şengünler Photography

Instagram Page Of ozgemetinphotography

किसी संदिग्ध ख़बर की पड़ताल, संशोधन या अन्य सुझावों के लिए हमें WhatsApp करें: 9999499044 या ई-मेल करें: [email protected]

Shubham Singh
Shubham Singh
An enthusiastic journalist, researcher and fact-checker, Shubham believes in maintaining the sanctity of facts and wants to create awareness about misinformation and its perils. Shubham has studied Mathematics at the Banaras Hindu University and holds a diploma in Hindi Journalism from the Indian Institute of Mass Communication. He has worked in The Print, UNI and Inshorts before joining Newschecker.
Shubham Singh
Shubham Singh
An enthusiastic journalist, researcher and fact-checker, Shubham believes in maintaining the sanctity of facts and wants to create awareness about misinformation and its perils. Shubham has studied Mathematics at the Banaras Hindu University and holds a diploma in Hindi Journalism from the Indian Institute of Mass Communication. He has worked in The Print, UNI and Inshorts before joining Newschecker.

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें

Most Popular