सोमवार, दिसम्बर 6, 2021
सोमवार, दिसम्बर 6, 2021
होमFact Checkमहाराष्ट्र के अमरावती में भीड़ द्वारा दुकान जलाए जाने की तस्वीर भ्रामक...

महाराष्ट्र के अमरावती में भीड़ द्वारा दुकान जलाए जाने की तस्वीर भ्रामक दावे के साथ हुई वायरल

दक्षिणपंथी विचारधारा का समर्थन करने वाली वेबसाइट OpIndia द्वारा एक तस्वीर शेयर कर महाराष्ट्र के अमरावती में हिन्दू दुकानों में आगजनी का दावा किया गया.

India Today द्वारा प्रकाशित एक लेख के अनुसार, त्रिपुरा में कथित तौर पर मस्जिद को क्षतिग्रस्त करने के खिलाफ रजा अकादमी ने 12 नवंबर, 2021 को महाराष्ट्र के विभिन्न हिस्सों में रैली निकाली थी. इसी दौरान रैली में मौजूद भीड़ ने अमरावती, नांदेड़ तथा मालेगांव में पत्थरबाजी की तथा निजी एवं सार्वजनिक सम्पत्तियों को भी नुकसान पहुंचाया. रजा एकेडमी (Raza Academy) की रैली के दौरान हुई हिंसा के जवाब में भाजपा (BJP) ने 13 नवंबर, 2021 को अमरावती (Amravati) में बंद का ऐलान किया. भाजपा द्वारा बुलाये गए बंद के दौरान शहर के कुछ हिस्सों में पार्टी समर्थकों द्वारा पत्थरबाजी तथा आगजनी भी की गई. हिंसा की इन तमाम घटनाओं के बाद पुलिस ने अमरावती शहर में 13 नवंबर से लेकर 16 नवंबर तक कर्फ्यू लगा दिया.

इसी क्रम में OpIndia द्वारा एक तस्वीर शेयर कर महाराष्ट्र के अमरावती में हिन्दू दुकानों में आगजनी का दावा किया गया. इस संबंध में संस्था द्वारा प्रकाशित लेख का आर्काइव वर्जन यहां देखा जा सकता है.

महाराष्ट्र के अमरावती में हिन्दू दुकानों में आगजनी

Fact Check/Verification

महाराष्ट्र के अमरावती में हिन्दू दुकानों में आगजनी के संदर्भ में शेयर की गई इस तस्वीर की पड़ताल के लिए, हमने तस्वीर को गूगल पर ढूंढा. इस प्रक्रिया में हमें कई ऐसी मीडिया रिपोर्ट्स प्राप्त हुईं जिनमें वायरल तस्वीर मौजूद है.

News18 द्वारा 14 नवंबर, 2021 को “Indefinite Curfew Imposed in Maharashtra’s Amravati as Fresh Violence Erupts; Shops, Private Property Damaged” शीर्षक के साथ प्रकाशित लेख में उक्त तस्वीर मौजूद है.

हालांकि, The Quint द्वारा 14 नवंबर 2021 को “Internet Shut, 4-Day Curfew in Maharashtra’s Amravati Amid Fresh Violence” शीर्षक के साथ प्रकाशित एक लेख में उक्त तस्वीर का एक दूसरा वर्जन मौजूद है, जिसमें आगजनी वाली दुकान पर ‘खान इलेक्ट्रिकल्स’ लिखा हुआ है.

Economic Times, Free Press Journal तथा Hindustan Times द्वारा प्रकाशित लेखों में भी उक्त तस्वीर का एक दूसरा वर्जन मौजूद है, जिसमें आगजनी वाली दुकान पर ‘खान इलेक्ट्रिकल्स’ लिखा हुआ है.

‘खान इलेक्ट्रिकल्स’ लिखे उस दुकान में आगजनी को लेकर Zee Taas द्वारा प्रकाशित एक यूट्यूब वीडियो में भी दुकान में आगजनी की पुष्टि की जा सकती है.

Zakir Ali Tyagi नामक एक फ्रीलांस पत्रकार द्वारा शेयर किये गए एक ट्वीट में भी उक्त दुकान में आगजनी देखी जा सकती है.

हमने आगजनी की शिकार ‘खान इलेक्ट्रिकल्स’ नामक उक्त दुकान के मालिक से भी संपर्क किया. जहां उन्होंने हमें बताया कि उनका नाम शादाब खान है और वे ‘खान इलेक्ट्रिकल्स’ नामक दुकान के संचालक हैं. शादाब ने हमें बताया कि दुकान को आग लगाने वाली भीड़ में हजारों लोग मौजूद थे, इसीलिए वे किसी व्यक्ति विशेष की पहचान नहीं कर सके. शादाब ने हमें यह भी बताया कि वे एक किराये के मकान में रहते हैं तथा दुकान, जो कि उनकी आजीविका का एकमात्र साधन थी, के जलने के बाद से वे भीषण आर्थिक तंगी से गुजर रहे हैं.

आगजनी की शिकार ‘खान इलेक्ट्रिकल्स’ की कुछ अन्य तस्वीरें जस्ट डायल नामक वेबसाइट पर भी मौजूद हैं.

Khan Electricals Photos, Rajkamal Square, Amravati - Refrigerator Repair & Services
Khan Electricals Photos, Rajkamal Square, Amravati - Refrigerator Repair & Services

Conclusion

इस प्रकार हमारी पड़ताल में यह बात साफ हो जाती है कि दक्षिणपंथी विचारधारा का समर्थन करने वाली वेबसाइट OpIndia द्वारा जिस तस्वीर को शेयर कर महाराष्ट्र के अमरावती में हिन्दू दुकानों में आगजनी का दावा किया गया, वह असल में भाजपा द्वारा रजा एकेडमी की रैली के जवाब में बुलाये गए बंद के दौरान ‘खान इलेक्ट्रिकल्स’ नामक एक दुकान में हुई आगजनी से संबंधित है.

Result: Misleading

Our Sources

Source Contact

The Quint: https://www.thequint.com/news/curfew-and-prohibitory-orders-in-amravati

Zee Taas: https://www.youtube.com/watch?v=WypUdUxQ0_U

Tweet by Zakir Ali Tyagi: https://twitter.com/ZakirAliTyagi/status/1460616450440237060

किसी संदिग्ध ख़बर की पड़ताल, संशोधन या अन्य सुझावों के लिए हमें WhatsApp करें: 9999499044 या ई-मेल करें: checkthis@newschecker.in

Saurabh Pandey
The reason why he chose to be a part of the Newschecker team lies somewhere between his passion and desire to surface the truth. The inception of social networking sites, misleading information, and tilted facts worry him. So, here he is ready to debunk any such fake story or rumor.
Saurabh Pandey
The reason why he chose to be a part of the Newschecker team lies somewhere between his passion and desire to surface the truth. The inception of social networking sites, misleading information, and tilted facts worry him. So, here he is ready to debunk any such fake story or rumor.

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular