मंगलवार, सितम्बर 27, 2022
मंगलवार, सितम्बर 27, 2022

होमFact Checkक्या सच में अरविंद केजरीवाल थे रेप के आरोपी? जानिए अख़बार की...

क्या सच में अरविंद केजरीवाल थे रेप के आरोपी? जानिए अख़बार की वायरल हुई एडिटेड कटिंग का क्या है सच

Claim:

The Telegraph की कटिंग से पता लगा कि 1987 में सीएम अरविंद केजरीवाल रेप के मामले में पकड़े गए थे। 

Verification: 

दिल्ली विधानसभा चुनाव 2020 अब नज़दीक आ रहे हैं। आम आदमी पार्टी और भारतीय जनता पार्टी ने अपने-अपने प्रत्याशियों को मैदान में उतार दिया है। राज्य में 8 फरवरी को वोट डाले जाएंगे और 11 फरवरी को नतीजे आएंगे। विधानसभा चुनाव से पहले फेसबुक और ट्विटर पर The Telegraph की कटिंग वायरल हो रही है। Telegraph की पुरानी कटिंग के हिसाब से मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल रेपिस्ट हैं। वायरल कटिंग में दावा किया जा रहा है कि खड़गपुर आईआईटी के कैंपस में एक लड़के ने लड़की का रेप किया है। जिसके बाद पुलिस आई और उसे पकड़कर ले गई और उस दौरान वो हॉस्टल के कमरे में छुपा था।

आरोपी लड़के का नाम अरविंद केजरीवाल बताया गया है और उम्र 19 साल। केजरीवाल अपने दोस्तों के साथ पार्टी करने गया सब लौट आए पर वह नहीं लौटा। The Telegraph की यह कटिंग सोमवार 8 जून, 1987 की है। 

देखा जा सकता है कि सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म पर कई यूजर्स द्वारा वायरल तस्वीर को शेयर किया जा चुका है।  

कुछ अलग-अलग कीवर्ड्स की मदद से हमने जाना कि दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने 1980 में आईआईटी खड़गपुर से B.Tech की डिग्री ली थी। नीचे The Telegraph की कटिंग में लिखे गए कंटेट को ध्यान से पढ़ेंगें तो आपको Times of India लिखा हुआ दिखेगा। दरअसल खबर में नीचे एक जगह लिखा गया है कि हॉस्टल के वार्डेन ने Times of India को बताया। सोशल मीडिया पर The Telegraph की कटिंग वायरल हो रही और खबर में नीचे आते आते Times of India बोल रहे हैं। खोज में हमने जाना कि यह कटिंग वायरल है और इसमें मनगढ़ंत कहानी लिखी गई है।

तह तक जाने के लिए हमने कुछ कीवर्ड्स की मदद से खंगाला कि क्या अरविंद केजरीवाल कभी रेप के मामले में फंसे हैं? लेकिन वायरल दावे से संबंधित पहले कभी कोई खबर नहीं आई है। यह खबर इतनी छोटी नहीं है कि कोई मीडिया इसे कवर नहीं करती। क्योंकि यह सच नहीं है इसलिए वायरल दावे से संबंधित कोई मीडिया रिपोर्ट नहीं है। 

नीचे आप देख सकते हैं कि वायरल कटिंग में The Telegraph लिखने का स्टाइल अलग है।

पड़ताल के दौरान हम Online Newspaper clip generator पर गए। जहां हमने अपनी मर्जी से एक न्यूज़पेपर बनाया। हमने मर्जी से तारीख बनाई, खबर लिखी और हेडलाइन डाली। नीचे आप वायरल The Telegraph की कटिंग और हमारे द्वारा बनाई गई कटिंग को देख सकते हैं। दोनों तस्वीरों में बहुत सारी सामानताएं देखी जा सकती हैं। 

  1. दोनों ही कटिंग्स में नज़र आ रहे फॉन्ट साइज़ और स्टाइल एक जैसे हैं। 

  1. दूसरी समानता में अगर आप कटिंग को ध्यान से देखेंगे तो आपको साइड का कटा हुआ फौन्ट और कन्टैंट एक जैसा नज़र आएगा। 

  • तीसरा समानता दोनों ही कटिंग में नज़र आ रहा The Telegraph लिखने का स्टाइल एक जैसा है। 

हमारी पड़ताल में हमने सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म पर वायरल हो रही The Telegraph की कटिंग को गलत पाया है।

Tools Used:

Google Search 

Result: False

(किसी संदिग्ध ख़बर की पड़ताल, संशोधन या अन्य सुझावों के लिए हमें WhatsApp करें: 9999499044  या ई-मेल करें: [email protected])

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें

Most Popular