रविवार, अगस्त 1, 2021
रविवार, अगस्त 1, 2021
होमFact CheckViralक्या न्यूजीलैंड की प्रधानमंत्री ने किया भारतीय किसान आंदोलन का समर्थन?

क्या न्यूजीलैंड की प्रधानमंत्री ने किया भारतीय किसान आंदोलन का समर्थन?

कृषि कानूनों को लेकर केंद्र सरकार और किसानों के बीच तकरार जारी है। आज से एक बार फिर से सरकार के खिलाफ किसान मोर्चा खोलने की तैयारी कर रहे हैं। संयुक्त किसान मोर्चा ने 5 जून को देश भर के किसानों से एकजुट होने का आह्वान किया है साथ ही कहा है कि हम सभी किसान भाई मिलकर एकजुट होकर सभी जिलों में विधायकों और सांसदों के कार्यालयों के बाहर कृषि कानून की प्रतियां जलाएंगे।

गौरतलब है कि किसानों ने आंदोलन के छह महीने पूरे होने पर 26 मई 2021 को काला दिवस भी मनाया था। गाजीपुर बॉर्डर पर किसानों ने काले झंडे के साथ प्रदर्शन किया था। इसी बीच किसान आंदोलन से जुड़ी एक पोस्ट तेजी से वायरल हो रही है। पोस्ट में दो तस्वीरों को शेयर किया जा रहा है। पहली तस्वीर में न्यूजीलैंड की प्रधानमंत्री Jacinda Ardern काले कपड़े पहने हुए नजर आ रही हैं तो वहीं, दूसरी तस्वीर में न्यूजीलैंड का काला हवाई जहाज नजर आ रहा है। इन दोनों तस्वीरों को सोशल मीडिया पर शेयर करते हुए दावा किया जा रहा है कि भारतीय किसानों के समर्थन में न्यूजीलैंड की प्रधानमंत्री ने काली पोशाक पहनी और हवाई जहाज को काला करवा दिया।

पोस्ट से जुड़े आर्काइव लिंक को यहां पर देखा जा सकता है।

Fact Check/Verification

वायरल तस्वीर की सच्चाई जानने के लिए हमने तस्वीर को गूगल रिवर्स इमेज के जरिए सर्च किया। इस दौरान हमें वायरल तस्वीर से जुड़ा एक ट्वीट पत्रकार Irfan Mehraj  के आधिकारिक ट्विटर अकाउंट पर मिला। जिसे 16 मार्च 2019 को पोस्ट किया गया था। इरफान ने प्रधानमंत्री Jacinda Ardern की काली पोशाक पहनी हुई तस्वीर को शेयर करते हुए कैप्शन में बताया है कि पीएम Jacinda Ardern मस्जिद अटैक में मारे गए पीड़ितों के परिवार से मिलने के लिए पहुंची। इस दौरान उन्होंने एकजुटता दिखाने के लिए हिजाब के साथ-साथ काले कपड़े भी पहने।

पड़ताल को आगे बढ़ाते हुए हमने कुछ कीवर्ड्स के साथ गूगल सर्च किया। इस दौरान हमें वायरल तस्वीर Getty Images की वेबसाइट पर मिली। वेबसाइट पर दी गई जानकारी के मुताबिक, वायरल तस्वीर हाल-फिलहाल की नहीं बल्कि मार्च 2019 की है जब पीएम जेसिंडा मस्जिद अटैक में मारे गए लोगों के परिवारों को समर्थन और संवेदना देने के लिए पहुंची थीं। दरअसल न्यूजीलैंड के क्राइस्टचर्च शहर की दो मस्जिदों में एक बंदूकधारी ने अचानक आकर गोलियां बरसाना शुरू कर दिया था। इस हमले में कई लोगों की जान चली गई थी। जिसके बाद न्यूजीलैंड सरकार ने कड़ी कार्रवाई करते हुए आरोपी को तुरंत गिरफ्तार कर लिया था। मस्जिद पर हमला करने वाले आरोपी का नाम Brenton Tarrant है। Brenton Tarrant ने इस पूरी घटना को फेसबुक पर लाइव दिखाया था। न्यूजीलैंड सरकार ने इस अमानवीय घटना पर कार्रवाई करते हुए बिना पैरोल के Brenton Tarrant को आजीवन कारावास की सजा सुनाई थी।

न्यूजीलैंड की प्रधानमंत्री
न्यूजीलैंड की प्रधानमंत्री Jacinda Ardern

पड़ताल के दौरान काले हवाई जहाज की तस्वीर Air New Zealand के यूट्यूब चैनल के एक वीडियो में प्राप्त हुई, जिसे 8 दिसंबर 2010 को अपलोड किया गया था। वीडियो को देखने पर पता चला कि यह तस्वीर न्यूजीलैंड के बोइंग 777-300ER विमान की है। इस वीडियो में इसी विमान के बारे में जानकारी दी गई है। 12 जनवरी 2012 को इस विमान को सबसे पहले ऑकलैंड के अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डे पर लैंड किया गया था। जिससे ये साफ होता है कि इस तस्वीर का भी किसान आंदोलन के ब्लैक डे से कोई संबंध नहीं है।

सर्च के दौरान हमें ऐसी कोई मीडिया रिपोर्ट नहीं मिली, जिसमें पीएम Jacinda Ardern ने भारत में चल रहे किसान आंदोलन को समर्थन किया हो।

Conclusion

हमारी पड़ताल में मिले तथ्यों के मुताबिक न्यूजीलैंड की पीएम Jacinda Ardern की वायरल तस्वीर को लेकर किया जा रहा दावा गलत है। वायरल तस्वीरें कई साल पुरानी हैं, जिसे अब गलत दावे के साथ सोशल मीडिया पर शेयर किया जा रहा है। 

Read More : क्या राजस्थान में हो रही है ऑक्सीजन की बर्बादी? करीब एक साल पुराना वीडियो गलत दावे के साथ हो रहा है वायरल

Result: False

Claim Review: न्यूजीलैंड की प्रधानमंत्री ने किया किसान अंदोलन का समर्थन।
Claimed By: Satpal Singh
Fact Check: False

Our Sources

Getty Image –https://www.gettyimages.in/detail/news-photo/new-zealand-prime-minister-jacinda-ardern-with-a-head-scarf-news-photo/1132011141?adppopup=true

Twiiter –https://twitter.com/IrfanMeraj/status/1106847642066276352

Youtube –https://www.youtube.com/watch?v=aEqdE69x-Io


किसी संदिग्ध ख़बर की पड़ताल, संशोधन या अन्य सुझावों के लिए हमें WhatsApp करें: 9999499044  या ई-मेल करें: checkthis@newschecker.in

Pragya Shukla
Pragya has completed her Masters in Mass Communication, and has been doing content writing for the last four years. Due to bias and incomplete facts in mainstream media, she decided to become a fact-checker.

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular