मंगलवार, सितम्बर 27, 2022
मंगलवार, सितम्बर 27, 2022

होमFact Checkअमित शाह के साथ ममता बनर्जी की पुरानी तस्वीर गलत दावे के...

अमित शाह के साथ ममता बनर्जी की पुरानी तस्वीर गलत दावे के साथ सोशल मीडिया पर हुई वायरल

सोशल मीडिया पर अमित शाह के साथ ममता बनर्जी की एक तस्वीर वायरल हो रही है। उनके साथ लंच के टेबल पर कई अन्य नेताओं को भी देखा जा सकता है। दावा किया गया है कि आगामी पश्चिम बंगाल चुनाव के लिए यह मीटिंग की गई है। दावे में बीजेपी और ओवैसी की पार्टी पर कटाक्ष करते हुए सवाल किए गए हैं।

https://www.facebook.com/AimimJamshedpur/posts/2767861983428115

बिहार में एनडीए की जीत के बाद सोशल मीडिया पर फेक खबरों का अम्बार लगा रहा। एक बार फिर से ईवीएम का जिन्न खुलकर सामने आ गया। अधिकतर राजनीतिक दलों ने फिर से चुनाव में ईवीएम के माध्यम से धांधली का आरोप लगाते हुए हार का ठीकरा चुनाव आयोग और इलेक्ट्रॉनिक मशीन पर फोड़ा है।

एक तरफ जहां एनडीए को पूर्ण बहुमत मिला तो वहीं आरजेडी सबसे बड़ी पार्टी बनकर उभरी। बिहार चुनाव में जहां कई दिग्गजों ने जीत दर्ज़ की तो वहीं कई राजनीतिक दलों का सूपड़ा साफ हो गया। एक तरफ जहाँ कम्युनिस्ट पार्टी (माले) को अप्रत्याशित 12 सीटों पर विजय मिली तो वहीं AIMIM भी 5 सीटों पर विजयी रही। कई दलों ने परोक्ष रूप से AIMIM को बीजेपी की बी टीम भी बताया है। अक्सर बीजेपी और AIMIM को लेकर ऐसी चर्चा चलती ही रहती है।

गौरतलब है कि आगामी कुछ दिनों में पश्चिम बंगाल के विधानसभा चुनाव होने वाले हैं। इसी को लेकर एक तस्वीर वायरल है। तस्वीर में कुछ राज्यों के मुख्यमंत्रियों के साथ ममता बनर्जी और अमित शाह को देखा जा सकता है। दावा किया जा रहा है कि चुनाव के लिए बीजेपी और TMC के बीच सेटिंग करने के लिए मीटिंग की गई है। इसी बहाने AIMIM और बीजेपी में कथित राजनैतिक सम्बन्ध होने के दावे के साथ कहा जा रहा है कि गठजोड़ ममता और बीजेपी के बीच हो रहा है। लेकिन जब चुनाव में हार मिलेगी तब उसका ठीकरा ओवैसी के ऊपर फोड़ा जाएगा। वायरल दावे का आर्काइव यहाँ पढ़ा जा सकता है। सोशल मीडिया पर यह दावा कई अन्य यूजर्स द्वारा भी शेयर किया जा रहा है।

https://twitter.com/HaidarMarkazi/status/1328239783311675393

https://www.facebook.com/permalink.php?story_fbid=814645369367742&id=376195766546040
https://www.facebook.com/BIHARJHARKND/posts/3482594031825874

फेसबुक पर तस्वीर से सम्बंधित वायरल हुए अन्य दावों को यहाँ देखा जा सकता है।

Fact Check/Verification

बीजेपी और तृणमूल कांग्रेस के बीच चुनाव को लेकर आंतरिक सांठगांठ का दावा करने वाली तस्वीर का सच जानने के लिए गूगल रिवर्स किया। इस दौरान पता चला कि वायरल हुई तस्वीर फरवरी साल 2020 की है जब ईस्टर्न कॉउन्सिल की बैठक हुई थी। दिख रही तस्वीर उड़ीसा के मुख्यमंत्री नवीन पटनायक के भुवनेश्वर स्थित आवास की है जहां बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार सहित अमित शाह और ममता बनर्जी मौजूद थीं।

चुनाव को लेकर वायरल हुए कई अन्य फैक्ट चेक्स को यहाँ पढ़ा जा सकता है।

TOI, HT, Financial Express सहित देश के कई दिग्गज मीडिया संस्थानों ने इस तस्वीर को अपने लेख में प्रकाशित करते हुए बताया है कि यह ईस्टर्न काउंसिल की मीटिंग के दौरान नवीन पटनायक के आवास पर हुए लंच की तस्वीर है। इस तस्वीर का मौजूदा या आगामी चुनाव से कोई लेना देना नहीं है। रिपोर्ट्स में कहीं भी अमित शाह या ममता बनर्जी द्वारा चुनाव पर चर्चा किये जाने का जिक्र नहीं किया गया है।

Conclusion

हमारी पड़ताल में यह बात साफ़ हो गई कि वायरल तस्वीर का आगामी पश्चिम बंगाल के विधानसभा चुनाव से कोई लेना देना नहीं है। अमित शाह और ममता बनर्जी की वायरल तस्वीर गलत दावे के साथ वायरल है।

Result- Misleading

Source

HT- https://www.financialexpress.com/india-news/naveen-patnaik-plays-host-as-arch-rivals-mamata-banerjee-and-amit-shah-meet-over-lunch-in-bhubaneswar/1884129/

TOI-https://timesofindia.indiatimes.com/india/odisha-cm-naveen-patnaik-hosts-lunch-for-amit-shah-mamata-banerjee-and-nitish-kumar/articleshow/74395450.cms

Financial Express- https://www.financialexpress.com/india-news/naveen-patnaik-plays-host-as-arch-rivals-mamata-banerjee-and-amit-shah-meet-over-lunch-in-bhubaneswar/1884129/

JP Tripathi
JP Tripathi
Since 2011, JP has been a media professional working as a reporter, editor, researcher and mass presenter. His mission to save society from the ill effects of disinformation led him to become a fact-checker. He has an MA in Political Science and Mass Communication.
JP Tripathi
JP Tripathi
Since 2011, JP has been a media professional working as a reporter, editor, researcher and mass presenter. His mission to save society from the ill effects of disinformation led him to become a fact-checker. He has an MA in Political Science and Mass Communication.

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें

Most Popular