बुधवार, अक्टूबर 5, 2022
बुधवार, अक्टूबर 5, 2022

होमFact Checkपश्चिम बंगाल की नहीं है घायल महिला की यह वायरल तस्वीर

पश्चिम बंगाल की नहीं है घायल महिला की यह वायरल तस्वीर

पश्चिम बंगाल विधानसभा चुनाव परिणाम आने के बाद से राज्य के कई इलाकों में भाजपा और तृणमूल कांग्रेस (TMC) के कार्यकर्ताओं के बीच झड़प की खबरें सामने आ रही हैं। अब तक इस झड़प में आधिकारिक रूप से 17 लोगों की मौत की पुष्टि की गई है। मृतकों में बीजेपी के 9, टीएमसी के 7 और इंडियन सेक्युलर फ्रंट का 1 सदस्य शामिल है। इसी बीच एक घायल महिला की तस्वीर वायरल है। तस्वीर को शेयर करते हुए दावा किया जा रहा है कि “आबरू लुट गयी बंगाल की, क्या ये महिला नहीं, क्या बंगाल की बेटी नहीं, क्या बंगाली और महिला केवल ममता ही है। धिक्कार है उनको जो महिला हैं और ममता का अब भी बेशर्मी से समर्थन कर रही हैं।”

घायल महिला की वायरल हो रही तस्वीर को ट्विटर और फेसबुक पर अलग-अलग यूज़र्स द्वारा शेयर किया जा रहा है।

पश्चिम बंगाल में चल रही राजनीतिक हिंसा

Crowd Tangle टूल की सहायता से किए गए विश्लेषण से पता चलता है कि वायरल दावे को सोशल मीडिया पर कई यूज़र्स द्वारा शेयर किया गया है।

पश्चिम बंगाल में चल रही राजनीतिक हिंसा

वायरल पोस्ट के आर्काइव वर्ज़न को यहां, यहां और यहां देखा जा सकता है।

Fact Check/Verification

पश्चिम बंगाल में चल रही राजनीतिक हिंसा को लेकर वायरल हुई घायल महिला की तस्वीर का सच जानने के लिए हमने पड़ताल शुरू की। Google Reverse Image Search की मदद से खंगालने पर हमें 8 नवंबर, 2020 को बांग्ला वेबसाइट Bharat Samachar और ctgpratidin.com द्वारा प्रकाशित की गई रिपोर्ट्स मिली। प्राप्त रिपोर्ट्स में वायरल तस्वीर को अपलोड किया गया है। लेख के मुताबिक वायरल हो रही तस्वीर पश्चिम बंगाल की नहीं बल्कि बांग्लादेश की है। बांग्लादेश के अमन बाज़ार में एक हिंदू परिवार पर मुस्लिमों ने बेरहमी से हमला किया था। हिन्दू परिवार पर हमला करने वाले मुस्लिम समुदाय के लोगों की गिरफ्तारी भी नहीं हुई थी।   

पश्चिम बंगाल में चल रही राजनीतिक हिंसा

पड़ताल के दौरान हमें 4 नवंबर, 2020 की एक फेसबुक पोस्ट मिली। पोस्ट के मुताबिक 1 नवंबर, 2020 को बांग्लादेश के अमन बाज़ार में एक हिंदू परिवार पर कुछ मुस्लिम लोगों ने हमला किया था। फेसबुक पोस्ट में आरोपियों का नाम मो. शकील और मो.अरमान बताया गया है। जबकि पीड़ित हिंदू परिवार का नाम अनुकूल मास्टर, मुक्ता देवी और रतन नाथ बताया गया है।  

पश्चिम बंगाल में चल रही राजनीतिक हिंसा

पड़ताल के दौरान हमें joyanta Karmoker नामक एक ट्विटर यूजर द्वारा किया गया एक ट्वीट मिला। यूजर ने घायल महिला की तस्वीरों को ट्वीट करते हुए लिखा गया है, “2 नवंबर, 2020 को हठझारी, चटगांव जिला, बांग्लादेश में जमीन हथियाने के लिए मुस्लिम समुदाय द्वारा एक हिंदू परिवार पर हमला किया गया था।” इस पोस्ट में भी वायरल तस्वीर को पश्चिम बंगाल में चल रही राजनीतिक हिंसा का नहीं बताया गया है।

पड़ताल के दौरान हमें 6 मई, 2021 को पश्चिम बंगाल पुलिस (West Bengal Police) के आधिकारिक ट्विटर हैंडल से किया गया एक ट्वीट मिला। बंगाल पुलिस द्वारा वायरल तस्वीर का खंडन करते हुए उसे फर्ज़ी बताया गया है। पुलिस ने बताया कि वायरल तस्वीर हाल फिलहाल में पश्चिम बंगाल में चल रही राजनीतिक हिंसा की नहीं बल्कि पिछले साल बांग्लादेश में हुए एक हमले की है। इस तस्वीर का पश्चिम बंगाल हिंसा से कोई लेना-देना नहीं है।   

वायरल तस्वीर को ध्यान से देखने पर हमने पाया कि जिस कुर्सी पर घायल महिला बैठी हुई है उसपर रीगल (Regal) लिखा हुआ है। Google Keywords Search की मदद से खंगालने पर हमने पाया कि यह बांग्लादेश की एक फर्नीचर ब्रांड कंपनी का लोगो (LOGO) है।

पश्चिम बंगाल में चल रही राजनीतिक हिंसा

Also Read: क्या नींबू के रस की कुछ बूंदों को नाक में डालने से कोरोना संक्रमण खत्म हो जाता है? जानें वायरल दावे की सच्चाई

Conclusion

सोशल मीडिया पर वायरल हो रही घायल महिला की तस्वीर का बारीकी से अध्ययन करने पर हमने पाया कि यह तस्वीर पश्चिम बंगाल की नहीं है। इस तस्वीर का पश्चिम बंगाल में चल रही राजनीतिक हिंसा से कोई लेना देना नहीं है।


Result: False


Our Sources

Bharat Samachar

Facebook

ctgpratidin.com

Twitter

West Bengal Police

Regal Furniture  


किसी संदिग्ध ख़बर की पड़ताल, संशोधन या अन्य सुझावों के लिए हमें WhatsApp करें: 9999499044  या ई-मेल करें: [email protected]

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें

Most Popular