मंगलवार, मई 28, 2024
मंगलवार, मई 28, 2024

होमहिंदीएक NGO द्वारा यूपी में दिव्यांग को कम्बल बांटने की वीडियो क्लिप...

एक NGO द्वारा यूपी में दिव्यांग को कम्बल बांटने की वीडियो क्लिप दिल्ली चुनाव से जोड़कर की गई शेयर

Claim:

विकलांग लोगों को कंबल बांट रहे हैं बीजेपी कार्यकर्ता।

Verification:

हमारे व्हाट्सएप नंबर पर हमें एक वीडियो खंगालने के लिए भेजा गया। वायरल वीडियो में एक शख्स व्हील चेयर पर बैठा हुआ नज़र आ रहा है। वहीं दो लोगों को व्हील चेयर पर बैठे हुए विकलांग युवक को कंबल देते हुए भी देखा जा सकता है। 25 सैकेंड की इस वीडियो मे युवक कंबल लेने के बाद व्हील चेयर से उठकर चला जाता है। 

देखा जा सकता है कि फेसबुक पर भी वायरल वीडियो को कई यूजर्स द्वारा शेयर किया जा रहा है। वीडियो के साथ दावा किया जा रहा है कि विकलांग लोगों को कंबल बांट रहे हैं बीजेपी कार्यकर्ता। लगता है कि निर्देशक कट कहना भूल गया और युवक चलना शुरू कर देता है।

ट्विटर पर भी वायरल वीडियो को कई यूजर्स द्वारा शेयर किया जा रहा है। ट्विटर पर वीडियो के साथ दावा किया जा रहा है कि आम आदमी पार्टी का प्रोपेगेंडा वीडियो। विकलांगों को कंबल बांटे जा रहें हैं। लगता है कि निर्देशक कट कहना भूल गया और युवक चलना शुरू कर देता है।  

कुछ टूल्स और कीवर्ड्स की मदद से हमने व्हाट्सएप और सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म पर अलग-अलग दावों के साथ वायरल हो रही वीडियो को खंगाला। पड़ताल के दौरान हमें कुछ ये परिणाम मिले जिनको आप नीचे देख सकते हैं। 

वायरल वीडियो की तह तक जाने के हमने अभी तक और Circle का लेख मिला। जिससे हमने जाना कि विकलांग युवक का वायरल वीडियो उत्तर प्रदेश के बिजनौर के सहारनपुर पुलिस स्टेशन का है। 

YouTube खंगालने पर हमने पाया कि AbhiTak News Channel ने अपने चैनल पर वायरल वीडियो को अपलोड किया था। इस वीडियो में आप वायरल वीडियो से संबंधित सही जानकारी जान सकते हैं। YouTube पर यह वीडियो AbhiTak News Channel ने 25 जनवरी, 2020 को अपलोड किया गया था। 

फेसबुक खंगालने पर हमें Saksharta Sansthan नाम की पोस्ट मिली। जहां हमें इस संबंध में अखबारों की कटिंग प्राप्त हुई। संस्था के निदेशक रवि सैनी ने विकलांगों को ठंड से बचने के लिए कंबल बांटे थे।

नीचे आप रवि सैनी के ट्वीट को भी देख सकते हैं। जो कि Digital Saksharta NGO को चलाते हैं। ट्विटर पर इस Digital Saksharta NGO का हैंडल भी बना हुआ है जिसको आप देख सकते हैं। 

हमारी पड़ताल में हमने जाना कि सोशल मीडिया में वायरल हो रही वीडियो को भ्रामक दावे के साथ शेयर किया जा रहा है। खोज में हमने पाया कि 10 दिन पुराने वीडियो में नज़र आ रहे रमेश सिंह 40 प्रतिशत तक दिव्यांग हैं। लोगों को भ्रमित करने के लिए वायरल वीडियो को बीजेपी और आम आदमी पार्टी का प्रोपेगेंडा बताकर शेयर किया जा रहा है।

Tools Used:

Google Search

Reverse Image Search 

You Tube Search 

Facebook Search 

Twitter Search 

Result: Misleading 

(किसी संदिग्ध ख़बर की पड़ताल, संशोधन या अन्य सुझावों के लिए हमें WhatsApp करें: 9999499044  या ई-मेल करें: checkthis@newschecker.in)

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें

Most Popular