शुक्रवार, अक्टूबर 7, 2022
शुक्रवार, अक्टूबर 7, 2022

होमहिंदीWeekend Wrap: नागरिकता संशोधन बिल को लेकर फैली तमाम फेक न्यूज़ जिन्हें...

Weekend Wrap: नागरिकता संशोधन बिल को लेकर फैली तमाम फेक न्यूज़ जिन्हें आपने भी सच समझा, पढ़ें

संसद में नागरिकता संशोधन अधिनियम के पारित होते ही पूरे देश में इस अधिनियम के विरुद्ध प्रदर्शनों का सिलसिला जारी हुआ जिसका असर सोशल मीडिया पर भी देखने को मिला, बीते सप्ताह में किन भ्रामक खबरों ने सुर्खियाँ बटोरी, नीचे देखिये उनका संक्षिप्त विवरण।  

दिल्ली पुलिस ने ही लगाई प्रदर्शन के दौरान बसों में आग

दिल्ली के डिप्टी सीएम मनीष सिसोदिया ने अपने ट्विटर हैंडल से एक वीडियो को शेयर करते हुए दावा किया कि दिल्ली पुलिस ने खुद बसों में आग लगाई और प्रदर्शनकारी छात्रों को गलत तरीके से दोषी बताने का काम किया। हालांकि Newschecker की छानबीन में ये साफ हो गया कि जिस वीडियो को वायरल कर पुलिस पर आरोप लगाए गए दरअसल उस वीडियो में पुलिस आग लगाने का नहीं बल्कि आग बुझाने का काम कर रही थी। जिसकी पुष्टि ख़बर कवर कर रहे NDTV के एक रिपोर्टर ने अपनी रिपोर्ट में भी की है। 

AMU और जामिया मिल्लिया इस्लामिया में लगे हिंदू विरोधी नारे

CAA को लेकर किए जा रहे प्रदर्शनों के दो वीडियो काफी चर्चा में रहे। इन्हें शेयर कर दावा किया गया कि अलीगढ़ मुस्लिम यूनिवर्सिटी और जामिया यूनिवर्सिटी में हिंदू विरोधी नारे लगाए गए हैं। AMU के वीडियो में दावा किया गया कि छात्रों ने खुलेआम ये कहा कि ‘हिंदुओं की कब्र खुेदेगी’ जबकि वीडियो सुनने पर पता चलता है कि छात्रों ने ‘हिंदुत्व की कब्र खुदेगी’ के नारे लगाए थे। वहीं जामिया के बाहर छात्रों ने हिंदुओं से आज़ादी के नारे लगाए। जामिया के एक छात्र से हमने जब बात कि तो पता चला कि यहां छात्र अलग-अलग तरह के नारे लगा रहे थे कोई हिंदुत्व से आज़ादी कह रहा था तो कोई हिंदुओं से आज़ादी।

यूएस के डिटेंशन कैंप की तस्वीरें असम की बता कर सोशल मीडिया पर हुई वायरल 

इस तरह के हालात मे रहना आप को मंजूर हे तो फिर आप का चुप रहना लाज़्मी हे..
असम के डीटेंशन सेंटर की एक तस्वीर..!https://twitter.com/hashtag/Jamia?src=hash&ref_src=twsrc^tfw“>#Jamia https://twitter.com/hashtag/CABProtests?src=hash&ref_src=twsrc^tfw“>#CABProtests https://twitter.com/hashtag/StandWithJamia?src=hash&ref_src=twsrc^tfw“>#StandWithJamia https://twitter.com/hashtag/CAB_नहीं_चलेगा?src=hash&ref_src=twsrc^tfw“>#CAB_नहीं_चलेगा https://t.co/eyiJf9nh9N“>pic.twitter.com/eyiJf9nh9N

— Salman Shaikh سلمان شیخِ (@SalmanS22496764)

“>December 15, 2019

देश में CAA लागू होने के बाद से ही सोशल मीडिया पर भ्रामक खबरों का जैसे जमावड़ा लग गया, ट्विटर पर दो तस्वीरें खूब वायरल हुईं, जिन्हें ये बताकर पोस्ट किया गया कि असम के जो लोग NRC में शामिल नहीं हो पाए हैं उन्हें ऐसे कीड़ेमकौड़े के समान डिटेंशन कैंप में रखा जा रहा है। बता दें कि  elitiempo.com और  The washington post नामक वेबसाइट पर प्रकाशित लेख के मुताबिक ये तस्वीरें la romana और अमेरिका की है।  

क्या NRC का विरोध जताने के लिए असम में लोगों ने डिप्टी सीएम का घर जलाया ?

फेसबुक पर एक पोस्ट में कुछ हुड़दंगियों का वीडियो शेयर कर दावा किया गया कि CAA और NRC के विरोध में अरुणाचल प्रदेश में लोगों ने डिप्टी सीएम के घर को आग लगा दी है। वहीं ANI द्वारा किये गए ट्वीट के मुताबिक यह घटना फरवरी 2019 की है जहां आदिवासी लोग इटानगर मेंस्थायी निवास प्रमाण पत्रका विरोध करने के लिए अरुणाचल प्रदेश की डिप्टी सीएम के घर में घुस आए थे।

ट्विटर में CAA पर राहुल गांधी द्वारा किये गए एक ट्वीट से छेड़छाड़ कर सोशल मीडिया पर किया वायरल

सोशल मीडिया पर राहुल गांधी द्वारा किया एक ट्वीट वायरल हुआ जिसे ये बता कर शेयर किया गया कि राहुल गांधी ने ट्वीट किया है कि नागरिकता बिल पास करा कर बीजेपी हिंदू राष्ट्र के एजेंडे पर चल रही है हमारे पूर्वजों का एजेंडा हमेशा से इस्लामिक कंट्री पर रहा है इसलिए हमने 2 इस्लामिक कंट्री बनाए पाकिस्तान और बांग्लादेश अब हम भारत को हिंदू राष्ट्र बनते नहीं देख सकते  जबकि ABP की वेबसाइट पर प्रसारित हुए वीडियो के मुताबिक राहुल गाँधी ने ट्वीट कर बोला है कि – CAB भारतीय संविधान पर हमला है, जो भी इसके समर्थन में है वो हमारे देश की नींव को बर्बाद करने और उस पर हमला करने की कोशिश कर रहे हैं।

CAA के विरोध में प्रदर्शन कर रहे छात्रों को ABVP कार्यकर्ता भरत शर्मा ने पुलिस के साथ मिलकर पीटा

Look at this photo and u will come to know who r behind the violence https://twitter.com/hashtag/BlackDay?src=hash&ref_src=twsrc^tfw“>#BlackDay https://twitter.com/hashtag/StudentsProtest?src=hash&ref_src=twsrc^tfw“>#StudentsProtest https://t.co/rh5zqhXKZ1“>pic.twitter.com/rh5zqhXKZ1

— Dr.Jitendra Awhad (@Awhadspeaks)

“>December 16, 2019

सोशल मीडिया पर एक तस्वीर शेयर कर ये दावा किया गया कि RSS कार्यकर्ताभरत शर्माने पुलिस के जवानों के साथ मिल कर जामिया यूनिवर्सिटी के छात्रों पर लाठियां बरसाई थी। लेकिन इस तस्वीर पर दिल्ली साउथईस्ट DCP ने सफाई देते हुए बताया कि वायरल तस्वीर में पुलिस की जैकेट, हेलमेट और लाठी के साथ दिखने वाला व्यक्ति दिल्ली कॉन्स्टबल अरविन्द कुमार है कि RSS कार्यकर्ताभरत शर्मा‘।

फेक ख़बरों और तस्वीरों को पहचानना बेहद आसान है, जरूरत है तो बस थोड़ा-सा जागरुक रहने की। फेक न्यूज से लड़ने के लिए हमारा साथ दें। Newschecker सोशल मीडिया पर भी मौजूद हैं, फेक न्यूज़ से संबंधित किसी भी जानकारी के लिए हमें टैग करें।

फेसबुक के लिए: Newschecker @Facebook

ट्विटर के लिए: Newschecker @Twitter

(किसी संदिग्ध ख़बर की पड़ताल, संशोधन या अन्य सुझावों के लिए हमें WhatsApp करें: 9999499044)

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें

Most Popular