बुधवार, मई 18, 2022
बुधवार, मई 18, 2022

होमCoronavirusक्या कोरोना के इस संक्रमण काल की हैं सोशल मीडिया पर वायरल...

क्या कोरोना के इस संक्रमण काल की हैं सोशल मीडिया पर वायरल हुई पत्थर की ये मूर्तियां?

देश में कोरोना वायरस की दूसरी लहर का प्रकोप अब कम होता नज़र आ रहा है। बीते 24 घंटे में भारत में 2 लाख से भी कम मामले दर्ज किए गए हैं। इसके साथ ही राहत भरी खबर यह है कि अब मौत के आंकड़ों में भी भारी गिरावट देखने को मिल रही है। ऐसे में शेयर चैट पर एक तस्वीर वायरल हो रही है। तस्वीर में बिस्तर पर भगवान की मूर्तियों को लेटे हुए देखा जा सकता है। वहीं, कुछ पुजारी बिस्तर पर लेटी मूर्तियों की देख-रेख भी कर रहे हैं। दावा किया जा रहा है कि ‘भगवान को कोरोना हो गया है। मुर्खता की कोई हद नहीं होती, पत्थर की मूर्तियों को भी क्वारंटाइन होना पड़ रहा है, इंसानों द्वारा इलाज भी हो रहा है। आप अपना ख्याल रखें… भगवान के भरोसे नहीं रहें, क्योंकि भगवान खुद इंसानों के भरोसे अस्पताल में पड़े हैं। ये है हमारा भारत और उसका बेड़ा गर्क करने वाले पुजारी।’

मूर्तियोंं

मूर्तियों के क्वारंटाइन वाली तस्वीर को फेसबुक और ट्विटर पर अलग-अलग यूज़र्स द्वारा शेयर किया जा रहा है।

मूर्तियों

Crowd Tangle टूल पर किए गए विश्लेषण से पता चलता है कि वायरल दावे को सोशल मीडिया पर कई यूज़र्स द्वारा शेयर किया गया है।

वायरल दावे के आर्काइव वर्ज़न को यहां, यहां और यहां देखा जा सकता है।

हमारे आधिकारिक WhatsApp नंबर (9999499044) पर भी दावे की सत्यता जानने की अपील की गई थी।

Fact Check/Verification

मूर्तियों के क्वारंटाइन होने वाली तस्वीर की सत्यता जानने के लिए हमने पड़ताल शुरू की। Google Reverse Image Search की मदद से खंगालने पर हमें एक Instagram पोस्ट मिली। नीचे देखा जा सकता है कि Valmiki_Das नामक यूज़र द्वारा 31 जुलाई 2019 को वायरल तस्वीर शेयर की गई थी।

https://www.instagram.com/p/B0lZrdBIF0v/?utm_source=ig_embed&ig_rid=2e046f0d-619e-426b-beb5-683a90b167b3

मूर्तियों

अधिक खोजने पर हमें Вальмики дас (बाल्मीकि दास) नामक YouTube चैनल पर 24 जुलाई 2019 और 26 जुलाई 2019 को अपलोड की गई दो वीडियोज मिली। दोनों ही वीडियोज का टाइटल रशियन भाषा में लिखा हुआ था, ‘Инсталляция Шри Шри Панча-таттвы.’ इसको इंग्लिश और हिंदी में ट्रांसलेट करने पर इसका मतलब कुछ यह निकला,Darshan of Sri Pancha-Tattva on Vacation‘. (दर्शन ऑफ श्री पंच तंत्व ऑन वेकेशन)।

अन्य वीडियोज के शीर्षक (Title) का ट्रांसलेशन Installation of Sri Sri Pancha-Tattva (श्री श्री पंच तंत्व की स्थापना) था। इस वीडियो में 8 मिनट 13 सेकेंड पर सोशल मीडिया पर वायरल हो रही तस्वीर को देखा जा सकता है। वीडियो के विवरण के अनुसार यह दृश्य उस दिन का है, जब देवता स्थापित किए गए थे। यह रूस में स्थित ओम्सक (OMSK) नामक शहर में हुआ था।

अधिक जानकारी के लिए हमने ISKON की आधिकारिक वेबसाइट को खंगाला। यहां पर दी गई जानकारी के मुताबिक, देवताओं के स्थापना समारोह में यह प्रक्रिया की जाती है। जिसके अंतिम चरण में देवताओं को अनाज के बने बिस्तरों पर सोने के लिए ले जाया जाता है।

पड़ताल के दौरान हमें इस समारोह की कुछ तस्वीरें मिली, जहां सोशल मीडिया पर वायरल हो रही तस्वीर को भी देखा जा सकता है। यह समारोह रूस के एक शहर में आयोजित किया गया था।

मूर्तियों

नीचे देखा जा सकता है कि वाल्मीकि दास के फेसबुक पेज पर भी वायरल तस्वीर को 10 अगस्त 2019 को अपलोड किया गया था।

मूर्तियों

Read More: क्या ये घरेलू नुस्खे दिला सकते हैं ब्लैक फंगस से निजात?

Conclusion

सोशल मीडिया पर वायरल हो रही तस्वीर का बारीकी से अध्ययन करने पर हमने पाया कि रूस की दो साल पुरानी तस्वीर को भ्रामक दावे के साथ शेयर किया जा रहा है। पड़ताल में हमने पाया कि यह तस्वीर अगस्त 2019 में रूस में हुए एक समारोह की है। इस तस्वीर का कोरोना वायरस महामारी से कोई लेना-देना नहीं है।


Result: False


Our Sources

ISKON

Instagram

Facebook

YouTube

YouTube

Valmiki.com


किसी संदिग्ध ख़बर की पड़ताल, संशोधन या अन्य सुझावों के लिए हमें WhatsApp करें: 9999499044  या ई-मेल करें:[email protected]

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें

Most Popular