मंगलवार, दिसम्बर 7, 2021
मंगलवार, दिसम्बर 7, 2021
होमFact Checkक्या गुजरात में आए 'ताऊ ते' तूफान का है ये वायरल वीडियो?

क्या गुजरात में आए ‘ताऊ ते’ तूफान का है ये वायरल वीडियो?

‘ताऊ ते’ तूफान देश के कई राज्यों से गुजरता हुआ गुजरात पहुंचा था। वहां पहुंचकर चक्रवात ने राज्य के कई इलाकों में जमकर तांडव मचाया। तूफानी बारिश के कारण गुजरात के कई इलाकों में पेड़ टूटकर सड़क पर गिर गए। लोगों के मकान ढह गए और मछुआरों की नावें पानी में समा गईं।

चक्रवात के कारण आई इस तबाही में 45 से ज्यादा लोगों की जान चली गई। जबकि 2 लाख से अधिक पेड़ धराशाई हो गए और 112 रास्ते आवागमन के लिए बंद हो गए। गुजरात की तूफानी बारिश का ऐसा ही एक वीडियो इन दिनों तेजी से वायरल हो रहा है। वीडियो में मूसलाधार बारिश के साथ तेज हवाएं चल रही हैं। तेज हवाओं और बारिश के कारण वहां मौजूद खम्भे से लेकर बोर्ड तक सब हिल रहे हैं। इस वीडियो को शेयर कर दावा किया जा रहा है कि ये वीडियो गुजरात के सौराष्ट्र स्थित उना टाउन का है। 

समाचार एजेंसी ANI सहित कई वेरिफाइड ट्विटर हैंडल्स ने वायरल वीडियो को शेयर किया है। वहीं Dainik Jagran, Indian Express और Scroll ने भी अपनी रिपोर्ट में इस वीडियो को गुजरात के सौराष्ट्र स्थित उना टाउन का बताया है। फेसबुक पर भी यूजर्स इस वीडियो को इसी दावे के साथ शेयर कर रहे हैं।

पोस्ट से जुड़े आर्काइव लिंक को यहां पर देखा जा सकता है।

पोस्ट से जुड़े आर्काइव लिंक को यहां पर देखा जा सकता है।

पोस्ट से जुड़े आर्काइव लिंक को यहां पर देखा जा सकता है।

पोस्ट से जुड़े आर्काइव लिंक को यहां पर देखा जा सकता है।

Fact Check/Verification

वायरल हो रहे वीडियो का सच जानने के लिए हमने वीडियो को InVID टूल की मदद से कीफ्रेम्स में बदला। फिर एक कीफ्रेम की सहायता से गूगल सर्च किया। इस दौरान हमें यही हूबहू वीडियो Extreme Weather World नामक फेसबुक पेज पर मिला। जिसे 24 सितंबर 2020 को अपलोड किया था। इस वीडियो को शेयर करते हुए कैप्शन में लिखा गया है, ‘कल देर रात पीपावाव पोर्ट गुजरात के अमरेली जिले में भारी बारिश देखने को मिली।’

प्राप्त जानकारी के आधार पर हमने गूगल पर कुछ कीवर्ड्स के जरिए सर्च किया। इस दौरान हमें यही वायरल वीडियो S24 NEWS CHANNEL नाम के यूट्यूब चैनल पर भी मिला। जिसे 23 सितंबर 2020 को पोस्ट किया गया था। गुजराती भाषा में वीडियो का कैप्शन देते हुए लिखा गया है, ‘पीपावाव पोर्ट गुजरात के अमरेली जिले में भारी बारिश।’

पड़ताल के दौरान हमें वायरल वीडियो मौसम की जानकारी देने वाले SkymetWeather के आधिकारिक ट्विटर अकाउंट पर भी मिला। जिसे 23 सितंबर 2020 को पोस्ट किया गया था। इस वीडियो के कैप्शन में लिखा गया है, ‘कल देर रात पीपावाव पोर्ट गुजरात के अमरेली जिले में भारी बारिश।’

वीडियो की पूरी सच्चाई जानने के लिए हमने गुजरात के मौसम विभाग का सोशल मीडिया अकाउंट खंगालना शुरू किया। इस दौरान हमें वायरल वीडियो से जुड़ी एक फेसबुक पोस्ट गुजरात के मौसम विभाग के पेज पर मिली। 18 मई 2021 को की गई इस पोस्ट में गुजरात मौसम विभाग ने पिछले साल के वीडियो को टैग करते हुए वायरल वीडियो को लेकर किए जा रहे दावे को गलत बताया है। साथ ही गुजराती में कैप्शन देते हुए लिखा है, ‘जिस वीडियो को शेयर कर उना में आए चक्रवात तूफान का बताया जा रहा है वो फेक है। असल में यह वीडियो बीते साल पीपावाव पोर्ट गुजरात का है।’

Conclusion

हमारी पड़ताल में मिले तथ्यों के मुताबिक वायरल वीडियो को लेकर किया जा रहा दावा गलत है। वायरल वीडियो गुजरात के उना टाउन में आए ‘ताऊ ते’ तूफान का नहीं बल्कि, ये वीडियो पिछले साल गुजरात के पीपावाव पोर्ट पर आए एक तूफान का है। 

Read More : क्या राजस्थान में हो रही है ऑक्सीजन की बर्बादी? करीब एक साल पुराना वीडियो गलत दावे के साथ हो रहा है वायरल

Result: False

Claim Review: गुजरात में आए ‘ताऊ ते’ तूफान का वीडियो।
Claimed By: ANI
Fact Check: False

Our Sources

Facebook –https://www.facebook.com/WeatherGujarat/posts/3650700798369146

Facebook –https://www.facebook.com/watch/?v=361830585033012

Youtube –https://www.youtube.com/watch?v=hxUF1BWT8s8

Twiiter –https://twitter.com/SkymetWeather/status/1308665886920732672


किसी संदिग्ध ख़बर की पड़ताल, संशोधन या अन्य सुझावों के लिए हमें WhatsApp करें: 9999499044  या ई-मेल करें: checkthis@newschecker.in

Pragya Shukla
Pragya has completed her Masters in Mass Communication, and has been doing content writing for the last four years. Due to bias and incomplete facts in mainstream media, she decided to become a fact-checker.
Pragya Shukla
Pragya has completed her Masters in Mass Communication, and has been doing content writing for the last four years. Due to bias and incomplete facts in mainstream media, she decided to become a fact-checker.

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular