मंगलवार, दिसम्बर 7, 2021
मंगलवार, दिसम्बर 7, 2021
होमFact Checkक्या मुफ्त का सरकारी राशन लेने के लिए मुस्लिम महिलाओं द्वारा लगाई...

क्या मुफ्त का सरकारी राशन लेने के लिए मुस्लिम महिलाओं द्वारा लगाई गई ये लाइन? जानिए वायरल वीडियो का सच

सोशल मीडिया पर इन दिनों एक वीडियो तेजी से वायरल हो रहा है। वीडियो देखने पर पता चलता है कि एक लम्बी लाइन में बुर्का पहने कई महिलाएं खड़ी हैं। सभी महिलाओं के हाथ में थैला नजर आ रहा है। इस वीडियो को शेयर कर दावा किया जा रहा है कि, ये महिलाएं प्रधानमंत्री गरीब कल्याण अन्र योजना के तहत मिलने वाले फ्री राशन को लेने के लिए आयी हुई हैं। दरअसल पीएम मोदी ने अप्रैल में ये ऐलान किया था कि मई और जून महीने में गरीबों को सरकार प्रति व्यक्ति 5 किलो अतिरिक्त अन्न मुफ्त में देगी। इसके लिए सरकार 26 हजार करोड़ से ज्यादा की रकम खर्च करेगी।

इस वीडियो को शेयर कर सोशल मीडिया यूजर्स कैप्शन में लिख रहे हैं, “सरकार द्वारा प्रदान किये गए मुफ्त राशन को लेने के लिए एकत्र भीड़ को देखें, और खुद समझें कि आपका टैक्स कहां पर जा रहा है।”

पोस्ट से जुड़े आर्काइव लिंक को यहां पर देखा जा सकता है।

Fact Check/Verification

वायरल हो रहे वीडियो का सच जानने के लिए हमने वीडियो को InVID टूल की मदद से कीफ्रेम्स में बदला। फिर एक कीफ्रेम की सहायता से गूगल सर्च किया। इस दौरान हमें वायरल वीडियो से जुड़ा एक ट्वीट @indiamatters12 नामक एक ट्विटर अकाउंट पर मिला। जिसे 18 अप्रैल 2020 को पोस्ट किया गया था। कैप्शन में इस वीडियो को उत्तर प्रदेश के मुजफ्फरनगर का बताते हुए लिखा गया है, “बीते दिन गांधी नगर के बैंक ऑफ बड़ौदा के सामने लगी लंबी लाइन।”

प्राप्त जानकारी के आधार पर हमने गूगल पर कुछ कीवर्ड्स के जरिए सर्च किया। इस दौरान हमें वायरल वीडियो News18 के यूट्यूब चैनल पर मिला। जिसके बाद हमें वीडियो से जुड़ी पूरी सच्चाई पता चली। रिपोर्ट में दी गई जानकारी के मुताबिक, सरकार द्वारा पिछले साल लॉकडाउन के दौरान सभी जनधन खातों में 500 रुपए डाले गए थे तब पैसे ट्रांसफर होने के बाद ये अफवाह फैल गई थी कि सरकार इन रुपयों को कभी भी वापस ले सकती है। जिसके बाद भारी संख्या में महिलाएं रूपया निकालने के लिए बैंक पहुंची थीं। ये वीडियो उसी दौरान उत्तर प्रदेश के मुजफ्फरनगर के बैंक ऑफ बड़ौदा के बाहर का है।

पड़ताल के दौरान हमें Dainik Jagran और Ndtv की रिपोर्ट्स मिली। इन रिपोर्ट्स में दी गई जानकारी के मुताबिक सरकार ने बीते साल लॉकडाउन लगाने के साथ-साथ,लोगों की सुविधा के लिए कई अहम घोषणाएं भी की थी। इसी के तहत सरकार तीन महीनों तक जनधन खातों में 500 रुपए की अनुग्रह राशि ट्रांसफर कर रही थी। उस समय जब जनधन की पहली किस्त आई तो देश के कई राज्यों में ये अफवाह तेजी से फैल गई कि सरकार जल्द पैसे वापस ले लेगी। जिसके बाद महिलाएं रकम निकालने के लिए बैंक पहुंचने लगीं। जिसकी वजह से कई जगहों पर सोशल डिस्टेंसिंग का पालन भी नहीं किया गया था।

अफवाह के तेजी से फैलने के बाद सरकार ने इसे रोकने के लिए एक ट्वीट कर इसे भ्रामक बताया था। वित्त मंत्रालय की ओर से कहा गया था, “Govt. ने PMJDY महिला a/c holders के खाते में 500 रु जमा किए हैं। यह अप्रैल माह के है मई, जून में भी 500-500 रु डाले जाएंगे। This amt has reached ur bank a/c & you can withdraw it any time. अफवाहों पर ध्यान न दें l अपनी सुविधा अनुसार ATM, CSP और बैंकों से यह पैसे लें।”

Conclusion

हमारी पड़ताल में मिले तथ्यों के मुताबिक वायरल वीडियो को लेकर किया जा रहा दावा गलत है। वायरल वीडियो तकरीबन एक साल पुराना है। एक साल पहले महिलाएं अपने जनधन खाते से सरकार द्वारा भेजी गई रकम निकालने के लिए बैंक के बाहर जमा हुई थीं। वही वीडियो, अब सोशल मीडिया पर गलत दावे के साथ शेयर किया जा रहा है।

Read More : क्या राजस्थान में हो रही है ऑक्सीजन की बर्बादी? करीब एक साल पुराना वीडियो गलत दावे के साथ हो रहा है वायरल

Result: False

Claim Review: फ्री का राशन लेने के लिए मुस्लिम महिलाओं द्वारा लगाई गई ये लाइन।
Claimed By: Viral Post
Fact Check: False

Our Sources

Twitter –https://twitter.com/indiamatters12/status/1251450589063438337

Twiiter –https://twitter.com/DFS_India/status/1248127952077746176

Danika jagran –https://www.jagran.com/uttar-pradesh/muzaffarnagar-lockdown-extension-will-not-be-retune-money-from-jandhan-account-20177802.html

Ndtv –https://ndtv.in/india-news/long-queues-of-women-outside-banks-to-withdraw-money-from-jan-dhan-accounts-2208246

Youtube –https://www.youtube.com/watch?v=QFoTiUQ4uNU&t=14s


किसी संदिग्ध ख़बर की पड़ताल, संशोधन या अन्य सुझावों के लिए हमें WhatsApp करें: 9999499044  या ई-मेल करें: checkthis@newschecker.in

Pragya Shukla
Pragya has completed her Masters in Mass Communication, and has been doing content writing for the last four years. Due to bias and incomplete facts in mainstream media, she decided to become a fact-checker.
Pragya Shukla
Pragya has completed her Masters in Mass Communication, and has been doing content writing for the last four years. Due to bias and incomplete facts in mainstream media, she decided to become a fact-checker.

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular