मंगलवार, जून 18, 2024
मंगलवार, जून 18, 2024

होमFact CheckFact Check: आगरा के होटल में पुलिस की छापेमारी का पुराना वीडियो,...

Fact Check: आगरा के होटल में पुलिस की छापेमारी का पुराना वीडियो, एमपी का बताकर झूठे सांप्रदायिक दावे के साथ वायरल

Authors

Vasudha noticed the growing problem of mis/disinformation online after studying New Media at ACJ in Chennai and became interested in separating facts from fiction. She is interested in learning how global issues affect individuals on a micro level. Before joining Newschecker’s English team, she was working with Latestly.

A self-taught social media maverick, Saurabh realised the power of social media early on and began following and analysing false narratives and ‘fake news’ even before he entered the field of fact-checking professionally. He is fascinated with the visual medium, technology and politics, and at Newschecker, where he leads social media strategy, he is a jack of all trades. With a burning desire to uncover the truth behind events that capture people's minds and make sense of the facts in the noisy world of social media, he fact checks misinformation in Hindi and English at Newschecker.

Since 2011, JP has been a media professional working as a reporter, editor, researcher and mass presenter. His mission to save society from the ill effects of disinformation led him to become a fact-checker. He has an MA in Political Science and Mass Communication.

Claim

सोशल मीडिया पर एक वीडियो शेयर कर दावा किया जा रहा है कि मध्य प्रदेश के एक हुक्का बार में छापा पड़ने पर 30 लोग आपत्तिजनक अवस्था में पकड़े गए, जिनमें से कुल 15 लड़कियां हिन्दू थीं तथा सारे लड़के मुस्लिम थे.

Fact

मध्य प्रदेश के एक हुक्का बार में छापा पड़ने पर आपत्तिजनक अवस्था में पकड़े गए 30 लोगों में सारी 15 लड़कियां हिन्दू तथा सारे 15 लड़के मुस्लिम होने के नाम पर शेयर किए जा रहे इस दावे की पड़ताल Newschecker द्वारा 31 अगस्त, 2022 को अंग्रेजी भाषा में की चुकी है. हमारी पड़ताल के अनुसार दैनिक भास्कर और दैनिक जागरण द्वारा साल 2022 के अगस्त माह में प्रकाशित लेखों से यह जानकारी मिलती है कि वायरल वीडियो मध्य प्रदेश का नहीं, बल्कि आगरा का है. बता दें कि दोनों ही लेखों में मामले में सांप्रदायिक एंगल होने की कोई जानकारी नहीं दी गई है.

दैनिक जागरण द्वारा प्रकाशित लेख का एक अंश

इसके अतिरिक्त, Crime Tak, ETV Bharat तथा आज तक द्वारा प्रकाशित लेखों में भी घटना का कुछ ऐसा ही विवरण प्रकाशित किया गया है. गौरतलब है कि इन लेखों में भी मामले में सांप्रदायिक एंगल होने की कोई जानकारी नहीं दी गई है.

वायरल दावे के बारे में अधिक जानकारी के लिए Newschecker ने हरिपर्वत थानाक्षेत्र के थानाध्यक्ष अरविंद कुमार से भी बात की थी. जिन्होंने हमें यह जानकारी दी थी कि मामले में कोई सांप्रदायिक एंगल नहीं है. सभी एक ही धर्म के हैं और वयस्क हैं.

इस प्रकार हमारी पड़ताल में यह बात साफ हो जाती है कि मध्य प्रदेश के एक हुक्का बार में छापा पड़ने पर आपत्तिजनक अवस्था में पकड़े गए 30 लोगों में सारी 15 लड़कियां हिन्दू तथा सारे 15 लड़के मुस्लिम होने के नाम पर शेयर किया जा रहा यह दावा भ्रामक है. असल में मामले में कोई सांप्रदायिक एंगल नहीं है.

Result: False

Our Sources
Report By Dainik Bhaskar, Dated August 10, 2022
Report By Jagran, Dated August 11, 2022
Telephonic Conversation With Hariparwat SHO On August 31, 2022

किसी संदिग्ध ख़बर की पड़ताल, संशोधन या अन्य सुझावों के लिए हमें WhatsApp करें: 9999499044 या ई-मेल करें: checkthis@newschecker.in

Authors

Vasudha noticed the growing problem of mis/disinformation online after studying New Media at ACJ in Chennai and became interested in separating facts from fiction. She is interested in learning how global issues affect individuals on a micro level. Before joining Newschecker’s English team, she was working with Latestly.

A self-taught social media maverick, Saurabh realised the power of social media early on and began following and analysing false narratives and ‘fake news’ even before he entered the field of fact-checking professionally. He is fascinated with the visual medium, technology and politics, and at Newschecker, where he leads social media strategy, he is a jack of all trades. With a burning desire to uncover the truth behind events that capture people's minds and make sense of the facts in the noisy world of social media, he fact checks misinformation in Hindi and English at Newschecker.

Since 2011, JP has been a media professional working as a reporter, editor, researcher and mass presenter. His mission to save society from the ill effects of disinformation led him to become a fact-checker. He has an MA in Political Science and Mass Communication.

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें

Most Popular