सोमवार, जून 17, 2024
सोमवार, जून 17, 2024

होमFact CheckFact Check: मुंबई के मीरा रोड में हुई हिंसा से संबंधित नहीं...

Fact Check: मुंबई के मीरा रोड में हुई हिंसा से संबंधित नहीं हैं ये वायरल वीडियो, यहां जानें सच

Authors

Since 2011, JP has been a media professional working as a reporter, editor, researcher and mass presenter. His mission to save society from the ill effects of disinformation led him to become a fact-checker. He has an MA in Political Science and Mass Communication.

Claim
युवकों को पकड़ कर ले जाती पुलिस और स्टेशन पर आग लगने के वीडियो मीरा रोड के हैं.

Fact
नहीं, ये वीडियो मीरा रोड के नहीं हैं.

इस लेख में हमने कोलाज में मौजूद सभी वीडियोज का फैक्ट चेक किया है। हमारी पड़ताल में यह स्पष्ट हो गया था कि वायरल हुए वीडियो मीरा रोड हिंसा से सम्बंधित नहीं थे बल्कि, अलग-अलग जगह और अलग घटनाओं से सम्बंधित थे। इसी कोलाज में मौजूद एक वीडियो, जिसमें पुलिसकर्मी कुछ युवकों को पकड़ रहे हैं इस दावे के साथ शेयर किया गया था कि यह मीरा रोड की हिंसा से ताल्लुक रखता है, लेकिन हमारी पड़ताल में पता चला था कि वीडियो हैदराबाद का है। आज यही वीडियो हल्द्वानी हिंसा के बाद हुई पुलिसिया कार्रवाई का बताया जा रहा है। दावा किया जा रहा है कि पुलिस हल्द्वानी में मुस्लिमों के घरों में घुसकर उन्हें प्रताड़ित कर रही है। वायरल हुए पोस्ट का आर्काइव यहां देखा जा सकता है।

सोमवार 22 जनवरी को अयोध्या में बनाए गए राम मंदिर में भगवान राम की मूर्ति की प्राण प्रतिष्ठा की गई. इस कार्यक्रम से एक दिन पहले मुंबई के मीरा रोड इलाके के नया नगर में एक जुलूस निकाला गया. जुलूस निकाले जाने के दौरान कथित पथराव की घटना के बाद दो गुटों में झड़प हो गई. झड़प के बाद इलाके में तनाव बढ़ गया. पुलिस ने मीरा रोड हिंसा के मामले में क़रीब 19 लोगों को गिरफ्तार किया है.

इसी बीच सोशल मीडिया पर कई वीडियोज मीरा रोड हिंसा की घटना से जोड़कर वायरल हो रहे हैं. इनमें से एक वीडियो में पुलिस कुछ युवकों को पकड़ कर ले जाती हुई दिख रही है. वहीं, दूसरे वीडियो में एक रेलवे स्टेशन पर कुछ लोग इकट्ठा हुए हैं और स्टेशन के एक हिस्से में आग लगी हुई है।

हालांकि, हमने अपनी जांच में पाया कि ये दोनों वायरल वीडियो मुंबई के मीरा रोड इलाके के नहीं हैं. इनमें से एक वीडियो करीब दो साल पुराना है और हैदराबाद का है. वहीं, स्टेशन पर आग लगने वाला वीडियो पश्चिम बंगाल के संतोषपुर रेलवे स्टेशन का है.

युवको को पुलिस द्वारा खींचकर ले जाने का वीडियो क़रीब 1 मिनट 38 सेकेंड का है. इस वीडियो में कई पुलिसकर्मी डंडे बरसाते हुए करीब आधा दर्जन से ज्यादा युवकों को खींचकर ले जाते हुए दिख रहे हैं. वायरल वीडियो को X (पूर्व में ट्विटर) पर शेयर करते हुए बतौर कैप्शन लिखा गया है, “मीरा रोड: राममंदिर का जश्न मुस्लिम मोहालो में मना रहे हिंदुओं पर हमला करने के आरोप में पुलिस ने मुस्लिम लड़कों को उनके घर से उठाया”.

Courtesy: X/KbArqaam

वहीं, दूसरा वीडियो क़रीब 13 सेकेंड का है, जिसमें एक स्टेशन पर आग लगने वाले दृश्य मौजूद हैं. इस वीडियो को भी मीरा रोड का बताकर शेयर किया जा रहा है. 

Courtesy: X/thehindu_sena

Fact Check/Verification

Newschecker ने सबसे पहले पुलिसकर्मियों द्वारा युवकों को पकड़ कर ले जाने वाले वीडियो की पड़ताल की. हमने इस वीडियो के कीफ्रेम को रिवर्स इमेज सर्च किया तो हमें द न्यूज़ मिनट के आधिकारिक यूट्यूब चैनल पर 25 अगस्त 2022 को प्रकाशित वीडियो रिपोर्ट मिली.

Courtesy: YTTheNewsMinute

इस वीडियो रिपोर्ट में वायरल वीडियो वाले कई दृश्य मौजूद हैं. वीडियो के साथ मौजूद डिस्क्रिप्शन के अनुसार, अगस्त 2022 में हैदराबाद के गोशामहल से भाजपा विधायक टी राजा सिंह ने पैगंबर मुहम्मद के खिलाफ़ आपत्तिजनक टिप्पणी की थी. जिसके बाद पुलिस ने 22 अगस्त 2022 को राजा सिंह को गिरफ्तार किया था, हालांकि उसी दिन उन्हें बेल भी मिल गई थी.

बेल मिलने के बाद हैदराबाद के कई इलाकों में विरोध प्रदर्शन हुए थे. कई जगह यह विरोध प्रदर्शन हिंसक भी हो गया था. विरोध प्रदर्शन के बाद 24 अगस्त 2022 को पुलिस ने घरों में घुसकर कई युवकों को गिरफ्तार किया था.

पड़ताल के दौरान हमें द सियासत डेली की वेबसाइट पर भी 25 अगस्त 2022 को प्रकाशित रिपोर्ट मिली. इस रिपोर्ट में भी वायरल वीडियो वाले दृश्य फीचर इमेज के रूप में मौजूद हैं. इस रिपोर्ट में भी बताया गया था कि हैदराबाद पुलिस ने शालिबंदा इलाके के घरों में घुसकर कुछ युवकों को गिरफ्तार किया था.

Courtesy: The Siyasat Daily

जांच में हमने वायरल वीडियो में दिख रहे कुछ दृश्यों को गूगल मैप पर भी लोकेट करने की कोशिश की. इस दौरान हमें वीडियो में दिख रहे एक साइन बोर्ड जिसपर अंग्रेज़ी में ‘SHAFFAF’ लिखा हुआ था, उसको गूगल स्ट्रीट व्यू की मदद से ढूंढा. हमने पाया कि यह हैदराबाद के शालिबंदा की बंजा गली है.

अब हमने स्टेशन पर आग लगने वाले दृश्यों की पड़ताल की. हमने वीडियो के कीफ्रेम को रिवर्स इमेज सर्च किया. हमें 6 अप्रैल 2023 को बांग्ला न्यूज़ आउटलेट ‘संग्बाद प्रतिदिन’ के यूट्यूब चैनल पर प्रकाशित वीडियो रिपोर्ट मिली. इस रिपोर्ट में वायरल वीडियो से मिलते-जुलते दृश्य मौजूद हैं. वीडियो के साथ मौजूद डिस्क्रिप्शन में इसे पश्चिम बंगाल के संतोषपुर रेलवे स्टेशन का बताया गया था.

Courtesy: YT/SangbadPratidin

जांच में हमें 6 अप्रैल 2023 को ईटीवी भारत की वेबसाइट पर भी प्रकाशित रिपोर्ट मिली. इस रिपोर्ट में मौजूद वीडियो में भी वायरल वीडियो से संबंधित दृश्य मौजूद हैं.

Courtesy: ETV Bharat

रिपोर्ट में दी गई जानकारी के अनुसार, 6 अप्रैल की शाम को दक्षिण 24 परगना के संतोषपुर रेलवे स्टेशन के प्लेटफॉर्म नंबर 2 पर आग लग गई थी. इस दौरान प्लेटफार्म पर मौजूद कुछ दुकानों को नुकसान पहुंचा था. हालांकि, जानमाल की कोई क्षति नहीं हुई थी. रिपोर्ट में पूर्व रेलवे के तत्कालीन जनसंपर्क अधिकारी कौशिक मित्रा का भी बयान मौजूद है. हालाँकि, रिपोर्ट में आग लगने के कारणों की जानकारी नहीं दी गई है.

इसके बाद हमने यह भी पता लगाने की कोशिश की कि क्या मीरा रोड रेलवे स्टेशन पर भी ऐसी कोई घटना हुई है, तो हमें पश्चिम रेलवे द्वारा 24 जनवरी 2024 को एक ट्वीट पर किया गया रिप्लाई मिला. रिप्लाई में बताया गया है कि मीरा रोड स्टेशन की स्थिति सामान्य है.

Courtesy: X/WesternRly

Conclusion

हमारी जांच में मिले साक्ष्यों से यह साफ़ है कि ये दोनों वायरल वीडियो मुंबई के मीरा रोड इलाके के नहीं हैं. इनमें से एक वीडियो हैदराबाद का है और दूसरा पश्चिम बंगाल के संतोषपुर रेलवे स्टेशन का है.

Result: False

Update- इस लेख को नए दावे के साथ 13 फ़रवरी 2024 को अपडेट किया गया है।

Our Sources
Video Report Published by TNM on 25th August 2022
Article Published by The Siyasat Daily on 25th August 2022
Visuals Found on Google Street View
Video Report Published by Sangbad Pratidin on 6th April 2023
Report Published by ETV Bharat on 6th April 2023

किसी संदिग्ध ख़बर की पड़ताल, संशोधन या अन्य सुझावों के लिए हमें WhatsApp करें: 9999499044 या ई-मेल करें: checkthis@newschecker.in

फैक्ट-चेक और लेटेस्ट अपडेट्स के लिए हमारा WhatsApp चैनल फॉलो करें: https://whatsapp.com/channel/0029Va23tYwLtOj7zEWzmC1Z

Authors

Since 2011, JP has been a media professional working as a reporter, editor, researcher and mass presenter. His mission to save society from the ill effects of disinformation led him to become a fact-checker. He has an MA in Political Science and Mass Communication.

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें

Most Popular