मंगलवार, जून 18, 2024
मंगलवार, जून 18, 2024

होमFact Checkशहद और लहसुन खाने से लकवा ठीक करने का दावा करती इस...

शहद और लहसुन खाने से लकवा ठीक करने का दावा करती इस पोस्ट का यहां जानें सच

Authors

An enthusiastic journalist, researcher and fact-checker, Shubham believes in maintaining the sanctity of facts and wants to create awareness about misinformation and its perils. Shubham has studied Mathematics at the Banaras Hindu University and holds a diploma in Hindi Journalism from the Indian Institute of Mass Communication. He has worked in The Print, UNI and Inshorts before joining Newschecker.

Claim

सोशल मीडिया पर लकवा बीमारी से संबंधित एक पोस्ट वायरल है। दावा किया जा रहा कि लकवा होने पर मरीज़ को तुरंत एक चम्मच शहद में दो लहसुन मिलाकर खिलाने से इस बीमारी से छुटकारा मिल जाता है।

Courtesy: Instagram/Unique Seekho

Fact

दावे की सत्यता जानने के लिए हमने गूगल पर कुछ कीवर्डस की मदद से सर्च किया। हमें अमर उजाला द्वारा प्रकाशित एक रिपोर्ट मिली, जिसमें लकवे की बीमारी ठीक करने के लिए घरेलू उपचार के रूप में लहसुन और शहद का सेवन करने के बारे में बताया गया है। बतौर रिपोर्ट, ‘लकवा से पीड़ित व्यक्ति को पांच लहसुन की कलियां पीसकर इसमें दो चम्मच शहद मिलाकर दें। करीब डेढ़ से दो महीने के अंदर ही आपको मरीज में सुधार नजर आएगा।’ रिपोर्ट में कहीं भी नहीं लिखा है कि इससे बीमारी से तुरंत छुटकारा मिल जाएगा।

दावे की पड़ताल के लिए Newschecker ने बीएचयू के आयुर्वेद विभाग के डॉ जेपी सिंह से संपर्क किया। उन्होंने बताया कि वायरल दावा भ्रामक है। उन्होंने कहा, “लकवा होने की स्थिति में मरीज़ को तुरंत इमरजेंसी सेवा की मदद लेनी चाहिए। अटैक आने पर मरीज का तुरंत बीपी चेक किया जाना चाहिए और स्टोक के असर को कम करने का उपाय करना चाहिए, जिसके लिए डॉक्टर का परामर्श बहुत जरूरी है। आयुर्वेद में भी कई औषधियां हैं, जिनका लंबे समय तक सेवन करने से लाभ मिलता है।”

पड़ताल के दौरान हमने न्यूरोलॉजिस्ट डॉ. कदम नागपाल से भी संपर्क किया। उन्होंने बताया, “किसी भी व्यक्ति को पैरालिसिस अटैक आने की स्थिति में फौरन डॉक्टर के पास ले जाना चाहिए। इसमें ज़रा भी कोताही नहीं बरतनी चाहिए। लहसुन और शहद द्वारा उपचार का कोई साइंटफिक प्रमाण नहीं है और ना ही इसे किसी भी मरीज को देना चाहिए। इन भ्रामक दावों को शेयर करने से लोगों को बचना भी चाहिए।”

कुल मिलाकर हमारी पड़ताल में यह स्पष्ट हो गया कि लहसुन और शहद के सेवन से लकवा बीमारी से छुटकारा नहीं मिलता। सोशल मीडिया पर भ्रामक दावा शेयर किया जा रहा है।

Result: Partly False

Our Sources

Conversation with BHU Ayurveda Doctor JP Singh
Conversation with Neurologist Dr. Kadam Nagpal

किसी संदिग्ध ख़बर की पड़ताल, संशोधन या अन्य सुझावों के लिए हमें WhatsApp करें: 9999499044 या ई-मेल करें: checkthis@newschecker.in

Authors

An enthusiastic journalist, researcher and fact-checker, Shubham believes in maintaining the sanctity of facts and wants to create awareness about misinformation and its perils. Shubham has studied Mathematics at the Banaras Hindu University and holds a diploma in Hindi Journalism from the Indian Institute of Mass Communication. He has worked in The Print, UNI and Inshorts before joining Newschecker.

Shubham Singh
Shubham Singh
An enthusiastic journalist, researcher and fact-checker, Shubham believes in maintaining the sanctity of facts and wants to create awareness about misinformation and its perils. Shubham has studied Mathematics at the Banaras Hindu University and holds a diploma in Hindi Journalism from the Indian Institute of Mass Communication. He has worked in The Print, UNI and Inshorts before joining Newschecker.

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें

Most Popular