रविवार, अगस्त 1, 2021
रविवार, अगस्त 1, 2021
होमFact Checkक्या Queen Elizabeth II ने लंदन में होर्डिंग लगाकर कोरोना वैक्सीन के...

क्या Queen Elizabeth II ने लंदन में होर्डिंग लगाकर कोरोना वैक्सीन के लिए पीएम मोदी को कहा शुक्रिया?

रिपोर्ट्स के मुताबिक भारत अभी तक 50 से ज्यादा देशों को कोरोना वैक्सीन की सप्लाई कर चुका है। महामारी के दौर में भारत की तरफ से की गई इस मदद के लिए सभी देश अपने-अपने तरीके से भारत का शुक्रिया अदा कर रहे हैं। हाल ही में ब्राजील के राष्ट्रपति Jair Bolsonaro ने हनुमान जी की संजीवनी बूटी ले जाते हुए एक तस्वीर शेयर करते हुए भारत का शुक्रिया अदा किया था। वहीं दूसरी तरफ कनाडा की सड़कों पर थैंक्यू नरेंद्र मोदी की होडिंग्स लगाई गई।

इसी बीच सोशल मीडिया पर लंदन के बिलबोर्ड होडिंग की एक तस्वीर काफी वायरल हो रही है। बिलबोर्ड पर Queen Elizabeth II की तस्वीर लगी हुई है और वो पीएम मोदी को कोरोना वैक्सीन देने के लिए शुक्रिया कह रही हैं। इस तस्वीर को शेयर कर दावा किया जा रहा है कि जिस ब्रिटिश साम्राज्य मे कभी सूरज अस्त नहीं होता था, जिन्होंने हम पर 200 साल राज किया था। वह भी आज प्रधानमंत्री मोदी के लिए शुक्रगुजार होकर धन्यवाद प्रेषित कर रहे हैं। दावा है कि लंदन में महारानी एलिजाबेथ द्वितीय ने इंग्लैंड को कोरोना वैक्सीन की मदद देने के लिए मोदी को धन्यवाद कहा है।

CrowdTangle पर मिले डाटा के मुताबिक अभी तक सैकड़ों लोग इस तस्वीर को ट्विटर और फेसबुक पर शेयर कर चुके हैं। इस डेटा के मुताबिक अभी तक @anandagarwal554 नाम के एक ट्विटर अकाउंट की इस पोस्ट को सबसे ज्यादा रिट्वीट मिले हैं। जबकि फेसबुक पर Politics Solitics पेज की पोस्ट को सबसे ज्यादा लाइक और शेयर मिले हैं। पोस्ट से जुड़े अर्काइव लिंक को यहां और यहां पर देखा जा सकता है।

Queen Elizabeth II

Fact Check/Verification

वायरल तस्वीर का सच जानने के लिए तस्वीर को गूगल रिवर्स इमेज के जरिए सर्च किया। इस दौरान हमें वायरल तस्वीर से जुड़ा BBC London का एक ट्वीट मिला। जिसमें Queen Elizabeth II की होर्डिंग वाली असली तस्वीर को शेयर किया गया था। असली तस्वीर पर थैंक्यू नरेंद्र मोदी नहीं बल्कि कुछ और लिखा हुआ है। असली तस्वीर पर Queen Elizabeth II की तस्वीर के साथ लिखा हुआ है, ‘हम फिर अपने दोस्तों के साथ होंगे। हम फिर अपने परिवार के साथ होंगे। हम फिर मिलेगें।’ BBC London ने इस तस्वीर को शेयर करते हुए कैप्शन में लिखा है, ‘Queen Elizabeth II का उम्मीद देता हुआ मैसेज।’ इस ट्वीट को 8 अप्रैल 2020 को पोस्ट किया गया था। Queen Elizabeth II ने लोगों को यह मैसेज उस समय दिया था, जब कोरोना महामारी अपने चरम पर थी।

Queen Elizabeth II

पड़ताल के दौरान हमें ओरिजनल तस्वीर Gettyimage की वेबसाइट पर भी मिली। Getty images पर इस तस्वीर को 18 अप्रैल 2020 को पोस्ट किया गया था। वेबसाइट पर इस तस्वीर को शेयर करते हुए बताया गया है कि ब्रिटेन में कोरोना वायरस के कारण तकरीबन 15 हजार से ज्यादा लोगों की मौत हो चुकी है। इसी बीच लोगों को उम्मीद देने के लिए Queen Elizabeth II ने देशवासियों के नाम एक मैसेज जारी किया है। जिसे लंदन की बिलबोर्ड होर्डिंग पर लगाया गया।

Queen Elizabeth II

छानबीन के समय हमें Business Today की एक रिपोर्ट मिली। जिसके मुताबिक 2 मार्च को यूके सरकार ने ऐलान किया था कि वो भारत से कोरोना की वैक्सीन लेगा। लेकिन हमें सर्च के दौरान ऐसी कोई मीडिया रिपोर्ट नहीं मिली जिसमें Queen Elizabeth की होर्डिंग लगाकर पीएम मोदी को शुक्रिया कहा गया हो। सर्च के दौरान हमें  Reuters की एक रिपोर्ट मिली। Reuters ने कोरोना वैक्सीन को लेकर यूके सरकार के एक अधिकारी से खास बातचीत की थी। इस रिपोर्ट में यूके के अधिकारी ने बताया है कि यूके ने कोरोना वैक्सीन की 100 मिलियन डोज का ऑर्डर किया है। जिसमें से 10 मिलियन कोरोना वैक्सीन की डोज भारत के Serum Institute of India से मंगाई जायेगी।

Conclusion

हमारी पड़ताल में मिले तथ्यों के मुताबिक वायरल तस्वीर को फोटोशॉप के जरिए एडिट कर बनाया गया है। जिसे अब गलत दावे के साथ सोशल मीडिया पर शेयर किया जा रहा है। असली होडिंग में Queen Elizabeth यूके के लोगों को उम्मीद न छोड़ने का एक मैसेज दे रही हैं।

Result: False


Our Sources

Reuters –https://www.reuters.com/article/health-coronavirus-britain-india-idUSKCN2AV0A2

Gettyimage –https://www.gettyimages.co.uk/detail/news-photo/still-image-of-britains-queen-elizabeth-ii-with-a-message-news-photo/1210354772?adppopup=true

BBC London –https://twitter.com/BBCLondonNews/status/1247863804349878272


किसी संदिग्ध ख़बर की पड़ताल, संशोधन या अन्य सुझावों के लिए हमें WhatsApp करें: 9999499044  या ई-मेल करें: checkthis@newschecker.in

Pragya Shukla
Pragya has completed her Masters in Mass Communication, and has been doing content writing for the last four years. Due to bias and incomplete facts in mainstream media, she decided to become a fact-checker.

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular