सोमवार, फ़रवरी 26, 2024
सोमवार, फ़रवरी 26, 2024

होमFact CheckFact Check: पुलिस अधिकारी से उलझते भाजपा विधायक बाबा बालकनाथ का पुराना...

Fact Check: पुलिस अधिकारी से उलझते भाजपा विधायक बाबा बालकनाथ का पुराना वीडियो हालिया दिनों का बताकर वायरल

Authors

Since 2011, JP has been a media professional working as a reporter, editor, researcher and mass presenter. His mission to save society from the ill effects of disinformation led him to become a fact-checker. He has an MA in Political Science and Mass Communication.

Claim
चुनाव जीतने के बाद पुलिस अधिकारी से उलझ गए भाजपा विधायक बाबा बालकनाथ.

Fact
वायरल वीडियो क़रीब 11 महीने पुराना है.

राजस्थान के मुख्यमंत्री पद की रेस में शामिल तिजारा विधानसभा से नवनिर्वाचित भाजपा विधायक बाबा बालकनाथ का एक वीडियो वायरल हो रहा है, जिसमें वे एक पुलिस अफसर को धमकाते नज़र आ रहे हैं. वीडियो को हालिया दिनों का बताकर शेयर किया जा रहा है.

हालांकि, हमने अपनी जांच में पाया कि यह वीडियो इसी साल जनवरी महीने का है, जब बाबा बालकनाथ राजस्थान के कोटपुतली बहरोड़ जिले में चार भाजपा कार्यकर्ताओं को हिरासत में लिए जाने के दौरान बहरोड़ के तत्कालीन डीएसपी आनंद राव से उलझ गए थे.

तीन दिसंबर को आए राजस्थान विधानसभा चुनाव के परिणामों में भाजपा को बंपर जीत हासिल हुई. कुल 199 सीटों पर हुए विधानसभा चुनाव में भाजपा को 115 सीटें मिली. बहुमत मिलने के बाद भी अभी तक राजस्थान में सरकार का गठन नहीं हो सका है और मुख्यमंत्री नाम पर भी सस्पेंस बरक़रार है. न्यूज़ रिपोर्ट्स के अनुसार, मुख्यमंत्री पद की रेस में अश्विनी वैष्णव, वसुंधरा राजे और बाबा बालकनाथ के अलावा कई दिग्गज नेताओं के नाम शामिल हैं. इस दौरान बाबा बालकनाथ ने अलवर के सांसद पद से भी इस्तीफा दे दिया है.

वायरल वीडियो क़रीब 2 मिनट का है. इस वीडियो में बाबा बालकनाथ एक पुलिस अफसर से बहस करते नज़र आ रहे हैं. इस दौरान वे पुलिस अफ़सर को देख लेने की धमकी देते और वर्दी वाला गुंडा कहते भी नज़र आ रहे हैं. साथ ही वह पुलिस अफसर को कई अन्य अशोभनीय बातें भी कहते नज़र आ रहे हैं.

इस वीडियो को बाबा बालकनाथ के विधानसभा चुनाव जीतने के बाद का बताकर शेयर किया जा रहा है.

Courtesy: FB/Kaif Awara

Fact Check/Verification

Newschecker ने वायरल वीडियो की पड़ताल के लिए सबसे पहले उक्त वीडियो को ध्यानपूर्वक देखा. हमें वीडियो में सबसे ऊपर बाईं तरफ़ समाचार आउटलेट ‘द क्विंट’ का लोगो दिखाई दिया. साथ ही हमें वीडियो में नीचे कुछ टेक्स्ट भी दिखाई दिए. इन्हीं में से एक टेक्स्ट में लिखा हुआ था, “अलवर से BJP सांसद की DSP को धमकी”.

प्राप्त जानकारियों से संबंधित कीवर्ड को यूट्यूब पर सर्च किया तो हमें द क्विंट के आधिकारिक यूट्यूब अकाउंट से 9 जून, 2023 को अपलोड किया हुआ यह वीडियो मिला. 

  Courtesy: YT/ The Quint

यूट्यूब वीडियो के साथ मौजूद टाइटल और डिस्क्रिप्शन के अनुसार, राजस्थान के अलवर से भाजपा सांसद बाबा बालकनाथ ने 8 जनवरी, 2023 को बहरोड़ में चार कार्यकर्ताओं को हिरासत में लिये जाने को लेकर बहरोड़ के डीएसपी पर आपा खो दिया था. इतना ही नहीं, उन्होंने डीएसपी आनंद राव को वर्दी वाला गुंडा भी कह दिया था.

इसके बाद हमने इससे संबंधित अन्य न्यूज़ रिपोर्ट को भी खंगाला। इस दौरान हमें 8 जनवरी, 2023 को अमर उजाला की वेबसाइट पर प्रकाशित रिपोर्ट मिली. इस रिपोर्ट में उक्त घटना के बारे में काफ़ी विस्तृत जानकारी दी गई है.

  Courtesy: Amar Ujala

अमर उजाला की रिपोर्ट के अनुसार, इसी साल 5 जनवरी को अलवर जिले के बहरोड़ अस्पताल में मेडिकल करवाने के लिए लाए गए कुख्यात बदमाश विक्रम गुर्जर उर्फ़ लादेन पर फायरिंग की गई थी. बहरोड़ पुलिस ने इस मामले में 8 जनवरी 2023 को स्थानीय एडवोकेट राजाराम यादव, हितेंद्र यादव और भाजपा समर्थक निशांत यादव सहित कुछ लोगों को हिरासत में लेकर पूछताछ की थी. दरअसल पुलिस ने राजाराम यादव और हितेंद्र यादव को इसलिए हिरासत में लिया था, क्योंकि इस घटना का संदिग्ध आरोपी रामफल गुर्जर इन दोनों द्वारा आयोजित किए गए एक कार्यक्रम में दिखा था. उक्त कार्यक्रम में बीजेपी नेता सतीश पुनिया और अलवर से तत्कालीन भाजपा सांसद बाबा बालकनाथ भी शामिल हुए थे.

भाजपा समर्थकों को हिरासत में लिए जाने की खबर जैसे ही बाबा बालकनाथ को पहुंची, वे बहरोड़ थाने पहुंच गए. थाने पहुंचने के बाद पहले तो उन्होंने हिरासत में लिए जाने का कारण पूछा. लेकिन संतोषजनक जवाब नहीं मिलने पर वे तत्कालीन डीएसपी आनंद राव से उलझ गए. इस दौरान उन्होंने डीएसपी को वर्दी वाल गुंडा, स्थानीय विधायक के इशारे पर काम करने वाला तक बता दिया. इतना ही नहीं उन्होंने भाजपा सरकार बनने के बाद देख लेने तक की भी धमकी दी थी. बाद में भिवाड़ी पुलिस जिले के एसपी के पहुंचने और समझाने पर यह मामला शांत हुआ था.

पाठकों की जानकारी के लिए बता दूं कि यह घटना तब घटित हुई थी, जब बहरोड़ प्रशासनिक रूप से अलवर जिले और पुलिस प्रणाली के हिसाब से भिवाड़ी पुलिस जिले के अंतर्गत आता था. लेकिन बाद में बहरोड़ और जयपुर के कोटपुतली को मिलाकर एक जिला बना दिया गया.

हमें जांच में राजस्थान तक की वेबसाइट पर भी इससे जुड़ी रिपोर्ट मिली. इस रिपोर्ट में वही सब जानकारी दी गई थी जो ऊपर मौजूद है. साथ ही इस रिपोर्ट में उक्त घटना का दूसरे एंगल से लिया गया वीडियो भी मौजूद था, जिसमें बाबा बालकनाथ तत्कालीन डीएसपी आनंद राव से उलझते हुए देखे जा सकते हैं.

  Courtesy: Rajasthan Tak

इस दौरान हमें ईटीवी राजस्थान की वेबसाइट पर भी 8 जनवरी 2023 को प्रकाशित रिपोर्ट मिली. इस रिपोर्ट में भी बताया गया था कि बहरोड़ पुलिस द्वारा चार लोगों को हिरासत में लिए जाने की वजह से अलवर के तत्कालीन भाजपा सांसद बाबा बालकनाथ तत्कालीन डीएसपी आनंद राव से उलझ गए थे.

Courtesy: ETV Rajasthan

Conclusion

हमारी जांच में मिले साक्ष्यों से साफ़ है कि वायरल वीडियो राजस्थान विधानसभा चुनाव में बाबा बालकनाथ को मिली जीत के बाद का नहीं है, बल्कि यह वीडियो इस साल जनवरी महीने का है.

Result: Missing Context 

Our Sources
The Quint Youtube Account: Video Published on 9th Jan 2023
Rajasthan Tak Website: Article Published on 8th Jan 2023
ETV Rajasthan Website: Article Published on 8th Jan 2023

किसी संदिग्ध ख़बर की पड़ताल, संशोधन या अन्य सुझावों के लिए हमें WhatsApp करें: 9999499044 या ई-मेल करें: checkthis@newschecker.in

फैक्ट-चेक और लेटेस्ट अपडेट्स के लिए हमारा WhatsApp चैनल फॉलो करें: https://whatsapp.com/channel/0029Va23tYwLtOj7zEWzmC1Z

Authors

Since 2011, JP has been a media professional working as a reporter, editor, researcher and mass presenter. His mission to save society from the ill effects of disinformation led him to become a fact-checker. He has an MA in Political Science and Mass Communication.

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें

Most Popular