मंगलवार, अप्रैल 23, 2024
मंगलवार, अप्रैल 23, 2024

होमFact CheckFact Check: राम मंदिर की प्राण प्रतिष्ठा के दिन पूरे केरल में...

Fact Check: राम मंदिर की प्राण प्रतिष्ठा के दिन पूरे केरल में बिजली सप्लाई बंद रहने का फ़र्ज़ी दावा वायरल

Authors

Sabloo Thomas has worked as a special correspondent with the Deccan Chronicle from 2011 to December 2019. Post-Deccan Chronicle, he freelanced for various websites and worked in the capacity of a translator as well (English to Malayalam and Malayalam to English). He’s also worked with the New Indian Express as a reporter, senior reporter, and principal correspondent. He joined Express in 2001.

Since 2011, JP has been a media professional working as a reporter, editor, researcher and mass presenter. His mission to save society from the ill effects of disinformation led him to become a fact-checker. He has an MA in Political Science and Mass Communication.

Claim
22 जनवरी को राम मंदिर की प्राण प्रतिष्ठा के दौरान पूरे केरल में बंद रहेगी बिजली सप्लाई.

Fact
नहीं, वायरल दावा फ़र्ज़ी है. 

22 जनवरी को अयोध्या में बन रहे राम मंदिर की प्राण प्रतिष्ठा होगी. प्रधानमंत्री मोदी मंदिर के गर्भगृह में अनुष्ठान करेंगे. इस कार्यक्रम में क़रीब 7 हजार मेहमानों को आमंत्रित किया गया है. इसी बीच एक दावा काफ़ी वायरल हो रहा है, जिसमें कहा जा रहा है कि केरल की कम्युनिस्ट सरकार ने राम मंदिर के प्राण प्रतिष्ठा के दिन जानबूझकर 22 जनवरी को पूरे राज्य में मेंटेनेंस की वजह से बिजली सप्लाई बंद रखने का निर्णय लिया है. 

हालांकि, हमने अपनी जांच में पाया कि वायरल दावा फ़र्ज़ी है. मुख्यमंत्री कार्यालय के प्रेस सचिव ने भी इसका खंडन किया है.

वायरल दावे को बीते दिनों सीपीएम केरल के सचिव सदस्य पी के बीजू के एक बयान से जोड़कर शेयर किया जा रहा है, जिसमें उन्होंने लोगों से 22 जनवरी को राम मंदिर के प्राण प्रतिष्ठा कार्यक्रम के दौरान अपने टीवी सेट बंद रखने का आग्रह किया था. बीजू ने केरल स्कूल टीचर के एक कार्यक्रम में यह बयान दिया था.

वायरल दावे को एक लंबे कैप्शन के साथ साझा किया जा रहा है, जिसमें लिखा हुआ है “ये हैं केरल के CPM नेता PK बीजु। इन्होंने लोगों से आह्वान किया है की 22जनवरी को अपना टीवी सेट चालु न करें। दुसरी तरफ केरल की कम्यूनिस्ट सरकार ने उसी दिन राज्य भर में वृहद विद्युत सुधार की मुहिम चला कर सारे राज्य में बिजली बंद रखने की रूप रेखा तय की है। 22 जनवरी को पुरे केरल में बिजली सप्लाई बन्द रहेगी,नीचता की भी हद हो गई। हिंदू पर्यटन हेतू केरल मे जाने से पहले सौ बार सोच ले.”

Courtesy: FB/Rajendra Dolas

Fact Check/Verification

Newschecker ने वायरल दावे की पड़ताल के लिए संबंधित कीवर्ड की मदद से गूगल सर्च कर न्यूज़ रिपोर्ट्स खंगाली. लेकिन हमें ऐसी कोई रिपोर्ट नहीं मिली, जैसा दावा वायरल हो रहा है.

इसके बाद हमने केरल राज्य विद्युत् बोर्ड का आधिकारिक फ़ेसबुक पेज भी खंगाला, लेकिन हमें यहां भी वायरल दावे से मेल खाती कोई पोस्ट नहीं मिली. 

इसके बाद हमने केरल राज्य विद्युत् बोर्ड की सोशल मीडिया टीम से संपर्क किया तो उन्होंने वायरल दावे का खंडन करते हुए कहा कि “विद्युत् बोर्ड की तरफ़ से 22 तारीख को कोई बड़ा मेंटेनेंस तय नहीं है”.

पड़ताल के दौरान हमने मुख्यमंत्री पिनराई विजयन के प्रेस सचिव पी एम मनोज से भी संपर्क किया तो उन्होंने भी वायरल दावे का खंडन किया और कहा कि “मैंने विद्युत् बोर्ड से संपर्क किया था और 22 जनवरी को कोई बड़ा मेंटेनेंस तय नहीं है”.

Conclusion

हमारी जांच में मिले साक्ष्यों से साफ़ है कि 22 जनवरी को पूरे केरल में बिजली सप्लाई बंद रहने का वायरल दावा फ़र्ज़ी है.

Result: False

Our Sources
Telephone Conversation with social media Team of KSEB
Telephone Conversation P M Manoj, Press Secretary to the Chief Minister

किसी संदिग्ध ख़बर की पड़ताल, संशोधन या अन्य सुझावों के लिए हमें WhatsApp करें: 9999499044 या ई-मेल करें: checkthis@newschecker.in

फैक्ट-चेक और लेटेस्ट अपडेट्स के लिए हमारा WhatsApp चैनल फॉलो करें: https://whatsapp.com/channel/0029Va23tYwLtOj7zEWzmC1Z

Authors

Sabloo Thomas has worked as a special correspondent with the Deccan Chronicle from 2011 to December 2019. Post-Deccan Chronicle, he freelanced for various websites and worked in the capacity of a translator as well (English to Malayalam and Malayalam to English). He’s also worked with the New Indian Express as a reporter, senior reporter, and principal correspondent. He joined Express in 2001.

Since 2011, JP has been a media professional working as a reporter, editor, researcher and mass presenter. His mission to save society from the ill effects of disinformation led him to become a fact-checker. He has an MA in Political Science and Mass Communication.

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें

Most Popular