शनिवार, जुलाई 31, 2021
शनिवार, जुलाई 31, 2021
होमFact Checkक्या ऑस्ट्रेलिया में बैन किए गए आरएसएस और विश्व हिंदू परिषद? सोशल...

क्या ऑस्ट्रेलिया में बैन किए गए आरएसएस और विश्व हिंदू परिषद? सोशल मीडिया पर भ्रामक दावा हुआ वायरल

किसान आंदोलन को लेकर पनप रही कड़वाहट विदेशों में रहने वाले भारतीयों के बीच में भी दिखने लगी है। 6 मार्च की रात को ऑस्ट्रेलिया में रहने वाले कुछ भारतीय सिखों के एक समूह पर भारतीयों के एक गुट ने हमला किया था। जिसके बाद से ही लोगों में इस हमले को लेकर काफी गुस्सा देखने को मिल रहा है। इस मुद्दे को ऑस्ट्रेलिया के सिनेटर (जो पब्लिक के मुद्दे संसद में उठाता है) David Shoebridge ने संसद में उठाते हुए बताया कि सिख लोगों पर हमला करने वाले आरएसएस और विश्व हिंदू परिषद के लोग थे। इन लोगों ने भारत में चल रहे किसान आंदोलन का गुस्सा इन लोगों पर उठाया जो काफी गलत है। उन्होंने किसान आंदोलन का साथ देते हुए मोदी सरकार, आरएसएस और विश्व हिंदू परिषद की कड़ी निंदा की। जिसके बाद से सोशल मीडिया पर ये खबर काफी वायरल होने लगी कि ऑस्ट्रेलिया में आरएसएस और विश्व हिंदू परिषद को बैन कर दिया गया है।

Crowd Tangle डेटा के मुताबिक अभी तक सैकड़ों लोग इस वीडियो को ट्विटर और फेसबुक पर शेयर कर चुके हैं। पर्यावरण एक्टिविस्ट Namrata Datta ने भी इस पोस्ट को शेयर किया है। आर्टिकल लिखे जाने तक Namrata Datta की पोस्ट पर 976  रिट्वीट, 1.7k लाइक्स और 84 कॉमेंट्स थे। पोस्ट से जुड़ा आर्काइव लिंक यहाँ देखा जा सकता है।

विश्व हिंदू परिषद

Fact Check/Verification

वायरल दावे का सच जानने के लिए हमने गूगल पर कुछ कीवर्ड्स के जरिए सर्च किया। इस दौरान हमें National Herald India की एक रिपोर्ट मिली। जिसमें David Shoebridge द्वारा संसद में कही गई सारी बातों का जिक्र था। इस रिपोर्ट के मुताबिक David Shoebridge ने संसद में कई मुद्दे उठाये। जिसमें से एक सिखों पर हुआ हमला भी था। इस हमले को लेकर David Shoebridge काफी गुस्से में थे।

उन्होंने इस हमले के लिए आरएसएस और विश्व हिंदू परिषद के लोगों को जिम्मेदार बताया। साथ ही मोदी सरकार की निंदा करते हुए कहा, “मैंने आज तक ऐसी कोई रिपोर्ट नहीं देखी। जिसमें राइट विंग के सपोर्टर्स इतने हिंसक होते हैं जितने कि भारत के राइट विंग के हिंदू समर्थक हैं।” लेकिन हमें इस रिपोर्ट में कहीं भी आरएसएस और विश्व हिंदू परिषद को ऑस्ट्रेलिया से बैन करने का जिक्र नहीं मिला। वीडियो में भी David Shoebridge  कहते नजर आ रहे हैं कि ऐसे संगठनों को कंट्रोल करना चाहिए और इन पर सख्त से सख्त कार्रवाई करनी चाहिए।

विश्व हिंदू परिषद

पड़ताल के दौरान हमें David Shoebridge द्वारा संसद में उठाये गए मुद्दों का एक वीडियो Cobrapost नाम के यूट्यूब चैनल पर भी मिला। जिसे 8 मार्च 2021 को अपलोड किया गया था। 3 मिनट के इस वीडियो को हमने पूरा देखा। लेकिन हमें यहां भी इस बात का जिक्र कहीं नहीं मिला कि आरएसएस और विश्व हिंदू परिषद को ऑस्ट्रेलिया में बैन किया जा रहा है।

हमने David Shoebridge के सोशल मीडिया अकाउंट्स पर जाकर भी सर्च किया। लेकिन वहां पर भी हमें ऐसा कोई ऐलान देखने को नहीं मिला। हमने ऑस्ट्रेलियाई मीडिया रिपोर्ट्स भी सर्च करने की कोशिश की। लेकिन हमें ऐसी कोई खबर ऑस्ट्रेलियाई मीडिया पर नहीं मिली कि वहां आरएसएस और विश्व हिंदू परिषद को बैन किया जा रहा है।

ऑस्ट्रेलिया में बैन नहीं किए गए आरएसएस और विश्व हिंदू परिषद

छानबीन के समय हमें पर्यावरण एक्टिविस्ट Pieter Friedrich के ट्विटर अकाउंट पर वायरल दावे से जुड़ा एक ट्वीट मिला। जिसे 7 मार्च 2020 को पोस्ट किया गया था। ट्वीट में उन्होंने बताया था कि ये खबर गलत है। ऑस्ट्रेलिया में सरकार द्वारा आरएसएस, विश्व हिन्दू परिषद या फिर किसी भी हिंदू संगठन को बैन नहीं किया गया है।

Conclusion

हमारी पड़ताल में मिले तथ्यों के मुताबिक सोशल मीडिया पर आरएसएस और विश्व हिन्दू परिषद को लेकर किया जा रहा दावा गलत है। ऑस्ट्रेलिया में मोदी सरकार, आरएसएस और विश्व हिन्दू परिषद की निंदा की गई है। लेकिन इन संगठनों को बैन नहीं किया गया है।

Result: False


Our Sources

David Shoebridge –https://twitter.com/ShoebridgeMLC

Pieter Friedrich – https://twitter.com/FriedrichPieter/status/1368549655026470917

National Herald India – https://www.nationalheraldindia.com/india/australian-senator-flags-issue-of-violence-by-extremist-right-wing-hindu-nationalists

YouTube – https://www.youtube.com/watch?v=r9N1rM7mlAw


किसी संदिग्ध ख़बर की पड़ताल, संशोधन या अन्य सुझावों के लिए हमें WhatsApp करें: 9999499044  या ई-मेल करें: checkthis@newschecker.in

Pragya Shukla
Pragya has completed her Masters in Mass Communication, and has been doing content writing for the last four years. Due to bias and incomplete facts in mainstream media, she decided to become a fact-checker.

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular