सोमवार, जून 24, 2024
सोमवार, जून 24, 2024

होमFact CheckFact Check: रोते हुए बच्चे की केरल पुलिस द्वारा गिरफ़्तारी का बताकर...

Fact Check: रोते हुए बच्चे की केरल पुलिस द्वारा गिरफ़्तारी का बताकर वायरल हो रहा दावा फर्जी है

Authors

Since 2011, JP has been a media professional working as a reporter, editor, researcher and mass presenter. His mission to save society from the ill effects of disinformation led him to become a fact-checker. He has an MA in Political Science and Mass Communication.

Claim
केरल के सबरीमाला में भगवान अय्यप्पा के नन्हें भक्त को गिरफ्तार किया गया है।
Fact
यह दावा फर्जी है। बच्चे को पुलिस ने गिरफ्तार नहीं किया था।

हाथ जोड़कर पुलिस के सामने पापा-पापा कहकर रोते हुए एक बच्चे का व्यथित कर देने वाला वीडियो सोशल मीडिया पर तेजी से वायरल है। वीडियो के साथ दावा किया जा रहा है कि केरल के सबरीमाला से भगवान अय्यप्पा के नन्हें भक्त को गिरफ्तार किया गया है। एक X (पूर्व में ट्विटर) पोस्ट में इस वीडियो को साझा करते हुए लिखा गया है कि ‘आज यह देख कर लग रहा है कि केरल में तालिबान सरकार है। जो भगवान अय्यप्पा के नंन्हे भक्तों को इस तरह से गिरफ्तार किया गया। यह भारत की बदनसीबी ही है कि यहाँ हिंदू संख्या में ज्यादा है पर जातियों में बटे हुए हैं। चिंता मत कीजिए अगला नम्बर आपका भी हो सकता है। शायद इसी लिए विपक्ष का साउथ इंडियन और उत्तर भारत का एजेंडा चल रहा है। बहुत ही शर्मनाक है यह।

Courtesy: X/@iAkankshaP

एक अन्य पोस्ट में X यूजर ने लिखा है कि ‘केरल में हिंदुओं की स्थिति. उन्होंने एक बच्चे को भी नहीं बख्शा.. ‘

Courtesy: X:@ajaychauhan41

यह वायरल वीडियो करीब 38 सेकंड का है। इस वीडियो में दिख रहा है कि बच्चा ‘अप्पा … अप्पा …’ (पापा) की आवाज लगाकर अपने चारों ओर किसी को खोजता है। वह पुलिस वाले के सामने हाथ जोड़कर रोता हुआ भी दिखता है। वीडियो के अंत में जोड़े गए एक हिस्से में दिखता है कि बच्चा किसी की ओर हाथ हिला रहा है।

FactCheck/Verification

वायरल वीडियो के दाहिनी तरफ ऊपर लगे लोगो से समझ आता है कि यह वीडियो एक मलयालम न्यूज़ चैनल एशियानेट न्यूज़एबल (Asianet Newsable) का है। कुछ कीवर्ड्स की मदद से खोजने पर हमें एशियानेट के X हैंडल पर 12 दिसंबर 2023 को शेयर किया गया एक पोस्ट मिला। इस पोस्ट में यह वीडियो मौजूद है। वीडियो के साथ लिखा गया है कि ‘सबरीमाला भीड़: अपने पिता को खोजने के लिए मदद मांगते रोते बच्चे का दिल दहला देने वाला वीडियो सामने आया।’ इस वीडियो के साथ दी गयी जानकारी में कहीं भी बच्चे की गिरफ़्तारी का ज़िक्र नहीं किया गया है।

Courtesy: X/@AsianetNewsEN

खोजने पर हमें एशिया नेट द्वारा 12 दिसंबर को छपी एक रिपोर्ट मिली, जिसमें लिखा गया है ‘सबरीमाला में रास्ता भटके एक बच्चे के रोने का वीडियो सामने आया है. फुटेज से पता चलता है कि बच्चा अपने पिता को ढूंढ रहा है, जो निलक्कल में भीड़ में खो गए थे। पुलिस के सामने हाथ जोड़कर चिल्लाने वाले बच्चे ने आखिरकार अपने पिता को देखकर हाथ हिलाया।’ इस रिपोर्ट्स से इतना तो स्पष्ट हो जाता है कि बच्चे को पुलिस द्वारा गिरफ्तार नहीं किया गया था, बल्कि बच्चा भीड़ में गुम हो गए अपने पिता को पुकार रहा था।

Courtesy: Asianet Newsable

इसके बाद न्यूज़चेकर ने त्रावणकोर देवस्वोम बोर्ड के पीआरओ सुनील अरुमानूर से संपर्क किया। उन्होंने हमें बताया, “वीडियो वास्तव में एक बच्चे का है जो सबरीमाला में भीड़ के दौरान अपने पिता को नहीं ढूंढ सका। पुलिस के समय से हस्तक्षेप से यह सुनिश्चित हुआ कि बच्चा अपने पिता से मिल गया। पुलिस या अधिकारियों से कोई चूक नहीं हुई है।”

गौरतलब है कि सबरीमाला में पिछले पांच दिनों से भक्तों की भारी भीड़ देखी जा रही है। भीड़ की वजह से हुई बदइंतजामी को लेकर विपक्ष लगातार केरल सरकार की आलोचना कर रहा है। भारी भीड़ के कारण कई तीर्थयात्री सबरीमाला मंदिर और भगवान अयप्पा के दर्शन किए बिना ही पंडालम से लौट रहे हैं। न्यूज़ 18 ने भी इस वायरल वीडियो पर रिपोर्ट प्रकाशित किया है।

Conclusion

हमारी पड़ताल में यह स्पष्ट हो जाता है कि रोते हुए बच्चे को पुलिस ने गिरफ्तार नहीं किया था। बच्चे के पिता भारी भीड़ की वजह से कहीं गुम हो गए थे। हालांकि, बाद में बच्चे के पिता उसे मिल जाते हैं।

Result: Missing Context

Our Sources
Tweet by Asianet Newsable dated december 12, 2023
Report by Asianet Newsable dated december 12, 2023
Conversation with Travancore Dewaswom Board PRO Sunil Arumanoor
Report by News 18

किसी संदिग्ध ख़बर की पड़ताल, संशोधन या अन्य सुझावों के लिए हमें WhatsApp करें: 9999499044 या ई-मेल करें: checkthis@newschecker.in

फैक्ट-चेक और लेटेस्ट अपडेट्स के लिए हमारा WhatsApp चैनल फॉलो करें: https://whatsapp.com/channel/0029Va23tYwLtOj7zEWzmC1Z

Authors

Since 2011, JP has been a media professional working as a reporter, editor, researcher and mass presenter. His mission to save society from the ill effects of disinformation led him to become a fact-checker. He has an MA in Political Science and Mass Communication.

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें

Most Popular