रविवार, जुलाई 25, 2021
रविवार, जुलाई 25, 2021
होमFact Checkक्या सोशल मीडिया पर वायरल योगी आदित्यनाथ के वीडियो में जोड़े गए...

क्या सोशल मीडिया पर वायरल योगी आदित्यनाथ के वीडियो में जोड़े गए अपशब्द?

आज का बड़ा सवाल, क्या यूपी के CM योगी आदित्यनाथ ने इंटरव्यू में अपशब्द का इस्तेमाल किया? सोशल मीडिया पर इस सवाल के दो जवाब दिए जा रहे हैं। पहला- विरोधियों द्वारा वीडियो को एडिट कर मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ की साफ छवि को धूमिल किया जा रहा है। दूसरा- यकीनन मुख्यमंत्री ने ये अपशब्द कहा है। कई बड़े नामों द्वारा इस वीडियो को शेयर किया गया है।

क्या यूपी के CM योगी आदित्यनाथ ने इंटरव्यू में अपशब्द का इस्तेमाल किया?

उन लोगों की संख्या भी कम नहीं है जो इस वीडियो को एडिटेड या फेक बता रहे हैं।

Archived 

Fact Check/Verification

COVID-19 के बढ़ते मामले जहां देश के लिए चिंता का विषय हैं तो वहीं सरकार पूरी कोशिश कर रही है कि लोगों को वैक्सीन लगवाने के लिए प्रोत्साहित किया जाए। इसी कड़ी में आज यूपी के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ भी वैक्सीन लगवाने पहुंचे। जहां उन्होंने लोगों को न सिर्फ वैक्सीन लगवाने के लिए प्रोत्साहित किया बल्कि प्रधानमंत्री और वैक्सीन के निर्माण के लिए वैज्ञानिकों और डॉक्टरों का धन्यवाद भी किया। 

उनकी ये बाइट ANI के माध्यम से लाइव की जा रही थी। दावा है कि इसी बाइट के दौरान योगी ने अपशब्द का इस्तेमाल किया। 

ये बाइट यूट्यूब पर अभी भी कई चैनलों पर मौजूद है, कई चैनलों द्वारा इसे हटा लिया गया है। हमने इन यूट्यूब वीडियो को आर्काइव किया है जिन्हें आप नीचे देख सकते हैं

यूपी के CM योगी आदित्यनाथ ने इंटरव्यू में अपशब्द कहा

Archived

ABP गंगा द्वारा इस वीडियो को हटा लिया गया है इसका Archive यहां मौजूद है।

वहीं ANI द्वारा इस वीडियो ‘Retract’ यानी वापस ले लिया गया है। ANI द्वारा यह नहीं कहा गया है कि वीडियो एडिट किया गया है या फ़ेक है। 

Archived

अब बात उन दो वीडियोज की जिन्हें शेयर कर यह दावा किया जा रहा है कि यूपी के CM योगी आदित्यनाथ ने इंटरव्यू में अपशब्द का इस्तेमाल नहीं किया है उनकी बाइट को एडिट कर उसमें शब्द जोड़े गए हैं। 

इन दोनों ही वीडियो को सुनने के बाद पता चलता है कि यह दोनों दो अलग बाइट्स हैं। इनमें इस्तेमाल शब्द भी अलग हैं। पहले वीडियो में जहां प्रधानमंत्री समेत स्वास्थ्य मंत्रालय का ज़िक्र है, तो दूसरे वीडियो में केवल प्रधानमंत्री का। इन दोनों में हाव-भाव के अंतर को भी साफ देखा जा सकता है।

यह दूसरा बयान ANI द्वारा ट्वीट किया गया है जिसमें उन्होंने साफ लिखा है कि पिछली Live बाइट को वापस लिया जा रहा है। 

(Editors note: Earlier issued Live Sound byte is retracted)

कुछ लोगों द्वारा Breaking Tube नाम की वेबसाइट का Fact Check शेयर किया जा रहा है जो अपशब्द वाले वीडियो को फेक बताता है। 

यूपी के CM योगी आदित्यनाथ ने इंटरव्यू में अपशब्द
BreakingTube का दावा यूपी के CM योगी आदित्यनाथ ने इंटरव्यू में अपशब्द नहीं कहा

इस लेख के पहले ही पैराग्राफ में यह कहा गया है कि पड़ताल करने के बाद मामला कुछ और ही निकला, जो कि चौंकाने वाला है। जिसकी अगली ही लाइन कहती है कि यूपी सरकार के सूत्रों ने बताया कि इस मामले की फोरेंसिक रिपोर्ट के आधार पर कानूनी कार्रवाई के निर्देश भी जारी कर दिए गए हैं। 

यूपी के CM योगी आदित्यनाथ ने इंटरव्यू में अपशब्द

लेख में आगे भी इसी बात पर ज़ोर दिया गया है कि वीडियो फर्जी है इसमें शब्द जोड़े गए हैं। किसी ने मुख्यमंत्री की आवाज़ में ये अपशब्द कहा है जिसे एडिट कर वीडियो में जोड़ा गया है। हालांकि पड़ताल के नाम पर लेख में किसी भी तरह के तथ्य मौजूद नहीं हैं। 

योगी आदित्यनाथ की टीम द्वारा भी इस वीडियो को फर्जी बताते हुए Breaking Tube के इसी लेख को रीट्वीट किया गया है। 

Conclusion

ANI द्वारा चलाए गए लाइव वीडियो को ‘Retract’ कर नया वीडियो डाला गया है। ANI ने वीडियो के एडिट होने की बात नहीं की है। कई अन्य चैनलों पर भी ANI का यह लाइव वीडियो मौजूद है। जिससे साबित होता है कि यूपी के CM योगी आदित्यनाथ ने इंटरव्यू में अपशब्द का इस्तेमाल किया है।

Result: False

Read More: क्या छत्तीसगढ़ में हुए नक्सली हमले के आरोप में 2 बीजेपी नेता किए गए गिरफ्तार?
Claim Review: यूपी के CM योगी आदित्यनाथ ने इंटरव्यू में अपशब्द का इस्तेमाल नहीं किया।
Claimed By: Shaifali Vaidya, Breaking Tube
Fact Check: False

Our Sources

News18: https://archive.ph/ZDjrv

ABP Ganga: https://archive.ph/hS3Uz


किसी संदिग्ध ख़बर की पड़ताल, संशोधन या अन्य सुझावों के लिए हमें WhatsApp करें: 9999499044  या ई-मेल करें: checkthis@newschecker.in

Preeti Chauhan
Believing in the notion of ‘Live And Let Live’, Preeti is a Journalist who felt the responsibility to counter and check misinformation and prevent people from falling for propaganda, hoaxes, and fake information. She is working in Media since 2010 and holds a Master’s degree in Mass Communication.

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular