मंगलवार, जून 25, 2024
मंगलवार, जून 25, 2024

होमFact Checkक्या कोरोना मरीजों में ऑक्सीजन के विकल्प के तौर पर काम कर...

क्या कोरोना मरीजों में ऑक्सीजन के विकल्प के तौर पर काम कर सकती है यह होम्योपैथिक दवा?

कोरोना वायरस के नए वेरिएंट की चपेट में रोजाना लाखों लोग आ रहे हैं। इस वेरिएंट की चपेट में आने से कई मरीज़ों का ऑक्सीजन लेवल बहुत कम हो रहा है। जिसकी वजह से ऑक्सीजन सिलेंडरों की भारी किल्लत हो रही है। ऑक्सीजन की भारी कमी होने के कारण हर दिन कोरोना के कई मरीज़ दम तोड़ रहे हैं। ऐसे में व्हाट्सएप पर एक मैसेज वायरल हो रहा है। जिसमें दावा किया जा रहा है कि अगर किसी का ऑक्सीजन लेवल गिर रहा है तो सिलेंडर मिलने का इंतजार मत करो और ASPIDOSPERMA Q की 20 बूंदे एक कप पानी में देने से ऑक्सीजन लेवल तुरंत मेंटेन हो जाएगा और हमेशा बना रहेगा।

ASPIDOSPERMA Q
ASPIDOSPERMA Q

देखा जा सकता है कि इस दावे को ट्विटर और फेसबुक पर अलग-अलग यूज़र्स द्वारा शेयर किया जा रहा है।

ASPIDOSPERMA Q

Crowd Tangle पर मिले डाटा के मुताबिक अभी तक सैकड़ों लोग इस दावे को शेयर कर चुके हैं।

ASPIDOSPERMA Q

वायरल पोस्ट के आर्काइव वर्ज़न को यहां, यहां और यहां देखा जा सकता है।

Fact Check/Verification

सोशल मीडिया पर ASPIDOSPERMA Q को लेकर किए जा रहे दावे की सत्यता जानने के लिए हमने पड़ताल शुरू की। Google Keywords Search की मदद से खंगालने पर हमें वायरल दावे से संबधित कोई जानकारी नहीं मिली।

अधिक जानकारी के लिए हमने Indian Council of Medical Research की आधिकारिक वेबसाइट को खंगाला। पड़ताल के दौरान हमें वहां भी वायरल दावे से संबंधित कोई जानकारी नहीं मिली जिससे साबित होता हो कि ASPIDOSPERMA Q की कुछ बूंदों से ऑक्सीजन लेवल मेनटेन हो जाता है।

ASPIDOSPERMA Q

वायरल दावे की तह तक जाने के लिए हमने होम्योपैथिक डॉक्टर सुचिंद्रा सचदेवा (Suchindra Sachdeva) से संपर्क किया। बातचीत में उन्होंने बताया कि कोरोना वायरस महामारी में ASPIDOSPERMA Q को लेकर किया जा रहा दावा पूरी तरह से गलत है। अभी तक इस दोवे को लेकर कोई वैज्ञानिक अनुसंधान नहीं किया गया है और बिना रिसर्च के यह दावा करना बिल्कुल गलत है। कोरोना वायरस फेफड़ों को प्रभावित करता है। जिसकी वजह से हमें सांस लेने में दिक्कत होने लगती है और शरीर में ऑक्सीजन की मात्रा कम हो जाती है। किसी भी व्यक्ति में अगर ऑक्सीजन की कमी हो जाती है तो किसी भी प्रकार की गोली या दवाई देना सही नहीं है। ऐसे में बिना डॉक्टर की सलाह के किसी भी दवाई को खाना रिस्क लेने के बराबर है। ऑक्सीजन की कमी होने पर केवल सिलेंडर का ही उपयोग किया जा सकता है। इस दवाई का उपयोग अस्थमा (Asthma) के मरीज़ों के लिए किया जाता है। जब तक वैज्ञानिकों द्वारा यह सिद्ध नहीं हो जाता कि कोरोना मरीज़ों में ऑक्सीजन का लेवल मेनटेन करने में ASPIDOSPERMA Q लाभदायक है या नहीं तब तक इस तरह का दावा करना गलत है। आज के समय में किसी भी प्रकार की दवाइयों को बिना डॉक्टर की सलाह के नहीं लें। क्योंकि ऐसा नहीं है कि सोशल मीडिया पर जो दावा किया जा रहा हो वह ही सत्य हो। होम्योपैथी दवाई हर मरीज की बीमारी और लक्ष्णों को देखकर दी जाती है।

ट्विटर खंगालने पर हमें PIB Fact Check के ट्विटर हैंडल से किया गया एक ट्वीट मिला। इसके मुताबिक होम्योपैथी दवाई ASPIDOSPERMA Q को लेकर किया जा रहा दावा फर्ज़ी है। इस दवाई से कोरोना संक्रमित मरीज़ों का ऑक्सीजन लेवल संतुलित नहीं किया जा सकता है।

Read More: कुछ सेकेंड सांस रोकने पर कोरोना मुक्त होने का दावा करने वाला सोशल मीडिया पोस्ट है फर्जी

Conclusion

सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म पर वायरल हो रहे दावे का बारीकी से अध्ययन करने पर हमने पाया कि ASPIDOSPERMA Q को लेकर भ्रामक दावा किया जा रहा है। कोरोना मरीज़ों का ऑक्सीजन लेवल गिरने पर केवल ऑक्सीजन सिलेंडर ही मददगार है। लोगों को भ्रमित करने के लिए इस तरह का भ्रामक दावा किया जा रहा है।  


Result: False


Our Sources

ICMR

Dr. Suchindra Sachdeva

Twitter


किसी संदिग्ध ख़बर की पड़ताल, संशोधन या अन्य सुझावों के लिए हमें WhatsApp करें: 9999499044  या ई-मेल करें: checkthis@newschecker.in

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें

Most Popular