गुरूवार, फ़रवरी 29, 2024
गुरूवार, फ़रवरी 29, 2024

होमFact CheckFact Check: काइरोप्रैक्टिक उपचार से पांच मिनट में कमर दर्द से मुक्ति...

Fact Check: काइरोप्रैक्टिक उपचार से पांच मिनट में कमर दर्द से मुक्ति का दावा है भ्रामक

Authors

Since 2011, JP has been a media professional working as a reporter, editor, researcher and mass presenter. His mission to save society from the ill effects of disinformation led him to become a fact-checker. He has an MA in Political Science and Mass Communication.

Claim
काइरोप्रैक्टिक उपचार से सिर्फ पांच मिनट में कमर दर्द से मुक्ति।
Fact
यह दावा भ्रामक है। हर कमर दर्द का उपचार पांच मिनट में नहीं किया जा सकता है।

रजनीश कांत नामक फेसबुक पेज से दावा किया जा रहा है कि काइरोप्रैक्टिक उपचार से सिर्फ पांच मिनट में कमर दर्द खत्म हो जाता है। इस पेज पर उपचार की बहुत सी वीडियो क्लिप्स पोस्ट की गई हैं, जिनके माध्यम से ये दिखाया जा रहा है कि काइरोप्रैक्टिक उपचार से बहुत से लोगों का सिर्फ पांच मिनट में दर्द गायब कर दिया गया है। इन सभी वीडियो के कैप्शन में लिखा है, “कैसे ‘मात्र पांच मिनट में दर्द गायब हो जाता है”। हालांकि, अपनी जांच में हमने पाया कि यह दावा भ्रामक है। सभी प्रकार के कमर दर्द का इलाज सिर्फ पांच मिनट में नहीं हो सकता है।

Courtesy: FB/Rajneesh Kant

काइरोप्रैक्टिक आखिर है क्या? यूनाइटेड स्टेट्स गवर्नमेंट की स्वास्थ्य एवं मानव सेवाओं की आधिकारिक वेबसाइट के अनुसार, काइरोप्रैक्टिक एक लाइसेंस प्राप्त स्वास्थ्य देखभाल पेशा है, जो शरीर की स्वयं को ठीक करने की क्षमता पर जोर देता है। इस उपचार में आमतौर पर मैनुअल थेरेपी शामिल होती है, जिसमें अक्सर रीढ़ की हड्डी में हेरफेर भी शामिल होती है। व्यायाम और पोषण संबंधी परामर्श जैसे दूसरे तरीकों को भी इस उपचार में शामिल किया जाता है ।

Fact Check/Verification

अपनी जांच की शुरुआत में हमने रजनीश कांत के फेसबुक पेज को खंगाला। हमने पाया कि 1.2 मिलियन फॉलोवर्स वाले इस पेज पर रोज़ाना कमर दर्द के इलाज की वीडियो डाली जाती हैं। हमने यह भी पाया कि ये वीडियोज काफी ज्यादा लोगों द्वारा देखी जाती हैं, क्योंकि इनके साथ लिखा गया दावा किसी जादू-चमत्कार का विज्ञापन लगता है, ”मात्र पांच मिनट में दर्द गायब।” ”मज़ाक में दर्द गायब।” इन कैप्शंस को पढ़कर समझ आता है कि इन्हें लोगों का ध्यान आकर्षित करने के लिए लिखा गया है।

अपनी पड़ताल में Newschecker ने सबसे पहले काइरोप्रेक्टर रजनीश कांत के मुंबई क्लिनिक पर संपर्क किया। रजनीश कांत के मुंबई क्लिनिक को सँभालने वाले शाकेंद्र गुप्ता से जब हमने इस दावे पर बात की तो उन्होंने हमें बताया कि ”रजनीश कांत के क्लिनिक पर कम से कम तीन दिन सेशन का अपॉइंटमेंट लिया जाता है।” उन्होंने आगे कहा कि ”उन तीन दिन में या तो इलाज हो जाता है या इलाज को आगे के सेशन में बढ़ा दिया जाता है। इस बात की निर्भरता दर्द के प्रकार पर निर्भर करती है।” जब हमने उनसे पूछा कि फिर आपके सोशल मीडिया पोस्ट में ऐसा दावा क्यों किया जा रहा है कि ‘कमर दर्द से सिर्फ पांच मिनट में मुक्ति’, तो उन्होंने कहा कि ”शायद यह वीडियो इलाज के आखिरी दिन वाले सेशन में बनाये गए होंगे।” इस बातचीत से इतना साफ़ हो जाता है कि वीडियो के कैप्शन में किया गया दावा सच नहीं है।

अपनी पड़ताल को आगे बढ़ाते हुए हमने रजनीश कांत से संपर्क किया। फ़ोन पर हुई बातचीत में जब हमने उनसे पूछा कि ”क्या यह सच है कि उपचार सिर्फ पांच मिनट में हो जाता है?” तो उन्होंने हमें जवाब कि ”नहीं, यह उपचार के ऊपर निर्भर करता है कि पेशेंट की परेशानी आखिर क्या है। किसी की प्रॉब्लम अगर नार्मल होती है तो पेशेंट को पांच-दस मिनट के एक एडजस्टमेंट में ही आराम मिल जाता है। किसी की परेशानी अगर ज्यादा होती है तो उन्हें तीन-चार बार आना पड़ता है। किसी को पांचवी बार भी आना होता है, लेकिन एक सेशन दस से पंद्रह मिनट का ही होता है।”

जब हमने उनसे पूछा कि ”क्या हर तरह का कमर दर्द पांच मिनट में ठीक हो जाएगा?” तो रजनीश कांत ने जवाब दिया ”परेशानी थोड़ी बहुत है तो एडजस्टमेंट पांच-दस मिनट का होता है और पेशेंट ठीक हो जाता है। लेकिन ऐसे बहुत मामले हैं, जिनका इलाज सर्जरी से होता है।”

इस दावे पर पूरी जानकारी के लिए हमने ज्ञानसागर मेडिकल कॉलेज और अस्पताल, पंजाब के डिपार्टमेंट ऑफ़ आर्थोपेडिक के डॉ पारेक देव से बात की। डॉ. पारेक देव ने हमें बताया कि ”कमर दर्द के पूरे इलाज में हमेशा हफ़्तों से महीना लग जाता है। कमर दर्द एक बहुत वृहद टर्म है। पांच मिनट में इसका इलाज नहीं किया जा सकता है। शुरूआती तरह के कमर दर्द मांसपेशियों में ऐंठन की वजह से होते हैं, जैसे किसी ने झुकने की कोशिश की और कमर पर प्रेशर पड़ गया। वो एक-दो दिन आराम करने से या हॉट पैक-आइसिंग देने से सही हो जाता है। क्योंकि इसमें कोई पैथोलॉजी शामिल नहीं है और कोई इंजरी (चोट) नहीं है। लेकिन अगर कहीं पैथोलॉजी शामिल है, चाहे नसों की हो, मांसपेशियों की या हड्डियों की तो उसके उपचार में समय लगेगा ही। इसलिए यह दावा कि कमर दर्द सिर्फ पांच मिनट में ठीक हो जाएगा, सच नहीं है।”

Conclusion

अपनी जांच से हम इस निष्कर्ष पर पहुँचते हैं कि सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा दावा भ्रमित करने वाला है। खुद जिनके हवाले से यह दावा हुआ है, उन्होंने भी यह स्वीकार किया है कि हर कमर दर्द का उपचार पांच मिनट में नहीं किया जा सकता।


Result: Missing Context

Our Sources
Information from official website of U.S department of health and human services
Conversation with Chiropractic Rajneesh Kant and his clinic staff
Conversation with Orthopedic Surgeon Dr. Parek Dev

किसी संदिग्ध ख़बर की पड़ताल, संशोधन या अन्य सुझावों के लिए हमें WhatsApp करें: 9999499044 या ई-मेल करें: checkthis@newschecker.in

फैक्ट-चेक और लेटेस्ट अपडेट्स के लिए हमारा WhatsApp चैनल फॉलो करें: https://whatsapp.com/channel/0029Va23tYwLtOj7zEWzmC1Z

Authors

Since 2011, JP has been a media professional working as a reporter, editor, researcher and mass presenter. His mission to save society from the ill effects of disinformation led him to become a fact-checker. He has an MA in Political Science and Mass Communication.

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें

Most Popular