शुक्रवार, जून 14, 2024
शुक्रवार, जून 14, 2024

होमFact Checkजांच एजेंसियों के सामने पेश न होने वाले नेताओं की आलोचना करते...

जांच एजेंसियों के सामने पेश न होने वाले नेताओं की आलोचना करते अरविंद केजरीवाल का यह कथित ट्वीट फ़र्ज़ी है

Authors

Believing in the notion of 'live and let live’, Preeti feels it's important to counter and check misinformation and prevent people from falling for propaganda, hoaxes, and fake information. She holds a Master’s degree in Mass Communication from Guru Jambeshawar University and has been a journalist & producer for 10 years.

Claim
अरविंद केजरीवाल ने 2012 में भ्रष्ट नेताओं को लेकर किया था यह ट्वीट.

Fact
नहीं वायरल ट्वीट फ़र्ज़ी है

सोशल मीडिया पर दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल के एक कथित ट्वीट का स्क्रीनशॉट वायरल हो रहा है, जिसमें वे जांच एजेंसियों ED और CBI द्वारा समन भेजे जाने के बाद पेश न होने वाले नेताओं की आलोचना करते नज़र आ रहे हैं. 

हालांकि, हमने अपनी जांच में पाया कि यह स्क्रीनशॉट फ़र्ज़ी है. 24 नवंबर 2012 को अरविंद केजरीवाल के X अकाउंट से ऐसा कोई ट्वीट नहीं किया गया था. साथ ही हमने यह भी पाया कि साल 2012 में X (पूर्व में ट्विटर) पर इतना लंबा ट्वीट लिखना संभव नहीं था, क्योंकि अक्षर सीमा (Character Limit) सिर्फ़ 140 अक्षर की ही थी.

इस दावे को ED की तरफ़ से दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल को भेजे गए समन से जोड़कर शेयर किया जा रहा है. दरअसल दिल्ली आबकारी नीति से जुड़े एक मामले में ED अरविंद केजरीवाल को दो समन भेज चुकी है, लेकिन वे जांच एजेंसी के सामने अभी तक पेश नहीं हुए. शुक्रवार को भी ED की तरफ़ से अरविंद केजरीवाल को समन भेजा गया है और उन्हें 3 जनवरी को पेश होने के लिए कहा गया है.

अरविंद केजरीवाल का यह ट्वीट अंग्रेज़ी में है, जिसका हिंदी अनुवाद है “एक देशभक्त भारतीय होने के नाते मेरा सिर तब शर्म से झुक जाता है जब हमारे भ्रष्ट नेता जांच एजेंसियों के बार-बार समन भेजने के बाद भी ED और CBI के सामने पेश नहीं होते हैं, जबकि आरोप लगते ही उन्हें तुरंत अपने पद से इस्तीफा दे देना चाहिए”. स्क्रीनशॉट में दी गई जानकरी के अनुसार, अरविंद केजरीवाल ने यह ट्वीट 24 नवंबर 2012 को 10 बजकर 57 मिनट पर किया है.

इस स्क्रीनशॉट को नरेंद्र मोदी सरकार में कैबिनेट मंत्री किरिन रिजिजू ने अपने आधिकारिक X अकाउंट से शेयर किया है.

दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल का फ़र्ज़ी ट्वीट वायरल
  Courtesy: x/KirenRijiju

इसके अलावा यह स्क्रीनशॉट वायरल दावे के साथ भाजपा नेता गौरव भाटिया और कई अन्य वेरिफाईड X हैंडल ने भी शेयर किया है.

  Courtesy: x/gauravbhatiabjp

Fact Check/Verification

Newschecker ने वायरल दावे की पड़ताल के लिए सबसे पहले अरविंद केजरीवाल के अकाउंट पर उक्त ट्वीट को खंगालना शुरू किया, लेकिन हमें ऐसा कोई ट्वीट नहीं मिला. हमने इस दौरान वायरल स्क्रीनशॉट में लिखे शब्दों को तोड़कर भी ट्विटर सर्च किया, लेकिन हमें अरविंद केजरीवाल के अकाउंट पर ऐसा कोई ट्वीट नहीं मिला.

इसके बाद हमने अरविंद केजरीवाल के X अकाउंट से 24 नवंबर 2012 को किए गए सभी ट्वीट्स को देखा तो हमने पाया कि उन्होंने उक्त तारीख को आठ ट्वीट्स किए थे. इन ट्वीट्स के जरिए उन्होंने लोगों से 26 नवंबर 2012 को जंतर मंतर पर आकर आम आदमी पार्टी की सदस्यता लेने की अपील की थी. इसके अलावा उन्होंने कुछ नारे भी दिए थे.

  Courtesy: x/ArvindKejriwal

इन सभी ट्वीट्स को देखने पर हमने पाया कि ये ट्वीट्स काफ़ी कम अक्षरों में किए गए हैं. इसी से हमें वायरल स्क्रीनशॉट के फ़र्ज़ी होने का अंदेशा हुआ क्योंकि उसमें काफ़ी अक्षर मौजूद थे. जब हमने अक्षर गिनने वाली वेबसाइट से वायरल स्क्रीनशॉट में मौजूद अक्षरों को गिना तो पाया कि इसमें 257 अक्षर मौजूद हैं.

  Courtesy: wordcounter.net

इसके बाद हमने यह पता लगाया कि साल 2012 में ट्विटर पर अक्षर सीमा (Character Limit) कितनी थी. इस दौरान हमें X की तत्कालीन प्रोग्राम मैनेजर एलिजा रोसेन द्वारा 7 नवंबर 2017 द्वारा लिखा गया ब्लॉग मिला, जिसमें उन्होंने जापानी कोरियन सहित कुछ एक भाषाओं को छोड़कर वैश्विक स्तर पर करैक्टर लिमिट 140 से बढ़ाकर 280 लिखे जाने की घोषणा की थी.

Courtesy: X bLOG

हमारी अभी तक की जांच में यह तो साफ़ हो गया कि वायरल स्क्रीनशॉट फ़र्ज़ी है, क्योंकि साल 2012 में X (पूर्व में ट्विटर) के नियमों के कारण इतना लंबा ट्वीट करना संभव नहीं था.

इस दौरान हमने यह भी पता करने की कोशिश की क्या अरविंद केजरीवाल ने कभी ऐसा बयान भी दिया था. हमें इस दौरान 2012 या उसके नजदीक के वर्षों में प्रकाशित कई रिपोर्ट मिली, जिसमें उन्होंने भ्रष्टाचार के मुद्दे पर कांग्रेस और भाजपा दोनों दलों के नेताओं पर हमला बोला था. लेकिन हमें ऐसी कोई रिपोर्ट नहीं मिली, जिसमें वायरल दावे का ज़िक्र हो. हालांकि साक्ष्यों की कमी के कारण हम यह पुष्टि नहीं करते हैं कि अरविंद केजरीवाल ने कभी ऐसा बयान नहीं दिया है.

Courtesy: AAJ TAK

Conclusion

हमारी जांच में मिले साक्ष्यों से साफ़ है कि वायरल स्क्रीनशॉट फ़र्ज़ी है. साल 2012 में X (पूर्व में ट्विटर) पर इतना लंबा ट्वीट लिखना संभव नहीं था, क्योंकि अक्षर सीमा (Character Limit) सिर्फ़ 140 अक्षर की ही थी.

Result: Altered Image

Our Sources

Tweets made by Arvind kejriwal official X account on 24th Nov 2012
Blog by formar X Product Manager Aliza Rosen on 7th Nov 2017

किसी संदिग्ध ख़बर की पड़ताल, संशोधन या अन्य सुझावों के लिए हमें WhatsApp करें: 9999499044 या ई-मेल करें: checkthis@newschecker.in

फैक्ट-चेक और लेटेस्ट अपडेट्स के लिए हमारा WhatsApp चैनल फॉलो करें: https://whatsapp.com/channel/0029Va23tYwLtOj7zEWzmC1Z

Authors

Believing in the notion of 'live and let live’, Preeti feels it's important to counter and check misinformation and prevent people from falling for propaganda, hoaxes, and fake information. She holds a Master’s degree in Mass Communication from Guru Jambeshawar University and has been a journalist & producer for 10 years.

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें

Most Popular