रविवार, अप्रैल 14, 2024
रविवार, अप्रैल 14, 2024

होमFact CheckFact Check: क्या बिहार के सभी स्कूलों में हिंदू त्योहारों की छुट्टियों...

Fact Check: क्या बिहार के सभी स्कूलों में हिंदू त्योहारों की छुट्टियों में की गई कटौती? यहां जानें पूरा सच

Authors

Since 2011, JP has been a media professional working as a reporter, editor, researcher and mass presenter. His mission to save society from the ill effects of disinformation led him to become a fact-checker. He has an MA in Political Science and Mass Communication.

Claim:
बिहार सरकार ने सभी स्कूलों में मुस्लिम पर्व की छुट्टियां बढ़ाई, हिंदू त्योहारों में की कटौती।
Fact:
यह दावा पूरी तरह से सच नहीं है। बिहार सरकार ने उर्दू स्कूलों और सामान्य स्कूलों के लिए अलग-अलग अवकाश सूची जारी किया है।

सोशल मीडिया और मीडिया रिपोर्ट्स में यह ख़बर तेजी से शेयर की जा रही रही है कि नीतीश सरकार ने सभी स्कूलों में मुस्लिम पर्व की छुट्टियां बढ़ा दी हैं और हिंदू त्योहारों में कटौती कर दी है। दावा किया जा रहा है कि स्कूलों में शिवरात्रि, रामनवमी, जन्माष्टमी और रक्षाबंधन की छुट्टी खत्म कर दी है और ईद-मुहर्रम की छुट्टियां बढ़ा दी गयी हैं।

Courtesy/ X @girirajsinghbjp

27 नवम्बर, 2023 को बिहार के शिक्षा विभाग ने वर्ष 2024 के लिए स्कूली छुट्टियों की सूची जारी की, जिसे मीडिया द्वारा इस तरह बढ़ा-चढ़ाकर पेश किया गया कि गलत सूचनाओं की बाढ़ आ गयी। कई हिंदी अखबारों ने ऐसे लेख प्रकाशित किए, जिनमें दावा किया गया कि बिहार शिक्षा विभाग ने ‘हिंदू’ त्योहारों के लिए छुट्टियां ‘समाप्त’ कर दी हैं और ‘मुस्लिम’ त्योहारों के लिए छुट्टियां बढ़ा दी हैं।

Courtesy: Dainik Jagran
Courtesy: Dainik Bhaskar

भाजपा के राज्यसभा सदस्य और पूर्व उपमुख्यमंत्री सुशील मोदी ने नीतीश सरकार पर “हिंदू भावनाओं पर हमला” करने का आरोप लगाया है। उन्होंने कहा कि ‘यह कैलेंडर हिन्दू विरोधी मानसिकता का परिचायक है।’ केंद्रीय मंत्री गिरिराज सिंह ने नीतीश सरकार पर हमला करते हुए कहा कि ऐसा लगता है कि यह ‘इस्लामिक रिपब्लिक ऑफ बिहार‘ है। उन्होंने कहा कि ”जिस तरह से महाशिवरात्रि और जन्माष्टमी जैसे महापर्व को काट दिया गया है और ईद-बकरीद की छुट्टी बढ़ा दी गयी है इससे यह साफ होता है कि नीतीश सरकार बिहार में इस्लामिक धर्म के आधार पर काम कर रही है।”

हालाँकि, अपनी जांच में हमने पाया कि यह ख़बर भ्रामक है। बिहार शिक्षा विभाग ने उर्दू स्कूलों और सामान्य स्कूलों के लिए अलग-अलग अवकाश सूची जारी की है।

Fact Check/Verification

हमने अपनी जांच की शुरुआत में बिहार शिक्षा विभाग द्वारा जारी की गयी सूची को देखा। हमने पाया कि बिहार शिक्षा विभाग ने सामान्य स्कूलों और उर्दू स्कूलों के लिए दो अलग अवकाश सूचियां जारी की हैं। लेकिन सिर्फ उर्दू स्कूल की अवकाश सूची की तस्वीर के साथ यह दावा किया गया कि नीतीश सरकार ने सभी स्कूलों में मुस्लिम पर्व की छुट्टियां बढ़ा दी हैं और हिंदू त्योहारों में कटौती कर दी है।

दावा किया जा रहा है कि स्कूलों में शिवरात्रि, रामनवमी, जन्माष्टमी व रक्षाबंधन की छुट्टी खत्म कर दी है। अपनी जांच में हमने पाया कि वर्ष 2024 के लिये जारी सामान्य स्कूलों की अवकाश सूची में महाशिवरात्रि और श्रीकृष्ण जन्माष्टमी के लिए छुट्टियां दी गयी हैं। बिहार शिक्षा विभाग की तरफ से दो अवकाश सूची जारी किये जाने की वजह से यह भ्रम पैदा हुआ है।

सामान्य स्कूलों के लिए अवकाश सूचि Courtesy: Education Department, Government of Bihar
सामान्य स्कूलों के लिए अवकाश सूचि Courtesy: Education Department, Government of Bihar
उर्दू स्कूलों के लिए अवकाश सूचि Courtesy: Education Department, Government of Bihar
उर्दू स्कूलों के लिए अवकाश सूचि Courtesy: Education Department, Government of Bihar

दावे के मुताबिक, बिहार के सभी स्कूलों में ईद की 2 और बकरीद-मुहर्रम पर 1-1 दिन की छुट्टियां बढ़ा दी गई हैं, जबकि अपनी पड़ताल में हमने पाया कि ये छुट्टियां सिर्फ उर्दू स्कूलों के लिए हैं। सामान्य स्कूलों में तीनों दिन एक-एक दिन की ही छुट्टी है। यानी कि सामान्य स्कूलों में ईद और बकरीद की छुट्टियों को नहीं बढ़ाया गया है।

इसके बाद 28 नवंबर 2023 को बिहार शिक्षा विभाग ने एक प्रेस विज्ञप्ति (Press Release) जारी कर इस मुद्दे पर जानकारी दी। उन्होंने बताया कि ”यह जानकारी प्राप्त हुई है कि सोशल मीडिया/अखबारों में त्योहारों को लेकर तरह-तरह की भ्रामक बातें फैलाई जा रही हैं। वस्तुस्थिति यह है कि सामान्य विद्यालयों एवं उर्दू विद्यालयों के कैलेण्डर अलग-अलग बनाए गए हैं और दो अलग-अलग अधिसूचनाएं (क्रमशः अधिसूचना संख्या-2693 एवं अधिसूचना संख्या-2694) निकाली गई हैं। संभवतः इसी कारण सोशल मीडिया/ मीडिया द्वारा जल्दबाजी में सरकारी अधिसूचनाएं पढ़कर उस पर मंतव्य बना लेने के कारण त्योहारों को लेकर यह भ्रम फैला है।”

Courtesy: Education Department, Bihar Government

साथ ही हमने पाया कि जिन अखबारों ने भ्रमित करने वाली खबरें छापी थीं, उन्होंने बिहार शिक्षा विभाग की प्रेस विज्ञप्ति जारी होने के बाद अब ये ख़बर भी छापी है कि किस तरह दो अलग अवकाश सूचियों के कारण भ्रम फैला है। दैनिक जागरण ने 28 नवंबर को अपनी रिपोर्ट में लिखा है कि ‘बिहार में स्कूलों की छुट्टियों पर ये भ्रम कर लें दूर, शिक्षा विभाग ने बेवजह के सियासी विवाद पर ऐसे लगाया विराम’। दैनिक भास्कर ने बिहार शिक्षा विभाग द्वारा जारी किये गए स्पष्टीकरण के बाद बताया है कि ”बिहार में हिंदू-मुस्लिमों की छुट्टियों के लिए 2 कैलेंडर:दोनों की छुटि्टयां 4-4 दिन घटीं, उर्दू स्कूलों में हिंदू और बाकी में मुस्लिम त्योहार कम किए”।

Courtesy: Dainik Jagran
Courtesy: Dainik Bhaskar

Conclusion

अपनी जांच से हम इस निष्कर्ष पर पहुंचे हैं कि सोशल मीडिया और अखबारों में बिहार के स्कूलों की अवकाश सूची से जुड़े दावे भ्रामक हैं। बिहार शिक्षा विभाग ने उर्दू स्कूलों के लिए और सामान्य स्कूलों के लिए अलग-अलग अवकाश सूची जारी की है। उर्दू स्कूलों की अवकाश सूची को शेयर कर भ्रामक दावा शेयर किया गया है।

Result: Partly False

Our Sources
Press release by Bihar education department dated 28 November, 2023
Two separate calendars issued for Urdu schools and other schools by Bihar education department
Report by Dainik jagran dated 28 November 2023
Report by Dainik Bhaskar dated 28 November 2023

किसी संदिग्ध ख़बर की पड़ताल, संशोधन या अन्य सुझावों के लिए हमें WhatsApp करें: 9999499044 या ई-मेल करें: checkthis@newschecker.in

फैक्ट-चेक और लेटेस्ट अपडेट्स के लिए हमारा WhatsApp चैनल फॉलो करें: https://whatsapp.com/channel/0029Va23tYwLtOj7zEWzmC1Z

Authors

Since 2011, JP has been a media professional working as a reporter, editor, researcher and mass presenter. His mission to save society from the ill effects of disinformation led him to become a fact-checker. He has an MA in Political Science and Mass Communication.

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें

Most Popular