सोमवार, जून 24, 2024
सोमवार, जून 24, 2024

होमFact Checkगुजरात के मंत्री राघवजी पटेल की तस्वीर मोरबी पुल के ठेकेदार का...

गुजरात के मंत्री राघवजी पटेल की तस्वीर मोरबी पुल के ठेकेदार का बताकर हो रही वायरल

Authors

An enthusiastic journalist, researcher and fact-checker, Shubham believes in maintaining the sanctity of facts and wants to create awareness about misinformation and its perils. Shubham has studied Mathematics at the Banaras Hindu University and holds a diploma in Hindi Journalism from the Indian Institute of Mass Communication. He has worked in The Print, UNI and Inshorts before joining Newschecker.

गुजरात के मोरबी में हुए पुल हादसे के बाद सोशल मीडिया पर पीएम मोदी के साथ खड़े एक शख्स की तस्वीर वायरल है। दावा किया जा रहा है कि ये वही व्यक्ति है, जिसे मोरबी ब्रिज बनाने का ठेका दिया गया था। इस दावे के साथ यह तस्वीर ट्विटर और फेसबुक पर जमकर वायरल हो रही है।

Courtesy: Twitter@Chandra54446739
Courtesy: Facebook/VijayVerma

दरअसल, बीते रविवार को गुजरात के मोरबी स्थित मच्छू नदी पर बना केबल ब्रिज हादसे का शिकार हो गया। बीबीसी की एक रिपोर्ट के मुताबिक, इस हादसे में अबतक 141 लोग मारे गए हैं। एक सदी पुराने पुल को हाल ही में मरम्मत के बाद गुजराती नववर्ष पर जनता के लिए फिर से खोल दिया गया था। हादसे के कारणों का पता लगाया जा रहा है। इस मामले में अबतक नौ लोगों को गिरफ्तार किया गया है, जिसमें मोरबी ब्रिज बनाने वाली कंपनी ओरेवा समूह के दो मैनेजर भी शामिल हैं।

Fact Check/Verification

दावे की सत्यता जानने के लिए हमने वायरल तस्वीर को Yandex रिवर्स सर्च किया। हमें VTV Gujarati की वेबसाइट पर 14 अक्टूबर 2021 को प्रकाशित एक रिपोर्ट मिली। रिपोर्ट के अनुसार, गुजरात के कृषि मंत्री राघवजी पटेल ने पीएम नरेंद्र मोदी के साथ खास बैठक की थी। इस रिपोर्ट में वायरल तस्वीर मौजूद है। 

Courtesy/VTV Gujarati

प्राप्त रिपोर्ट की मदद से हमने गुजरात के कृषि मंत्री राघवजी पटेल के आधिकारिक फेसबुक अकाउंट को खंगालना शुरू किया। हमें 14 अक्टूबर 2021 को उनके प्रोफाइल पर पीएम मोदी के साथ मुलाकात संबंधित एक पोस्ट मिला, जिसमें कई तस्वीरे हैं। इनमें वायरल तस्वीर भी मौजूद है। 

Courtesy: Facebook/Raghavji Patel

इसके बाद हमने गूगल पर ओधव जी राघवजी पटेल के बारे में सर्च किया। हमें लाइव मिंट द्वारा 19 अक्टूबर 2012 को प्रकाशित एक रिपोर्ट मिली। रिपोर्ट के अनुसार, ओधवजी पटेल का साल 2012 में 87 वर्ष की उम्र में  निधन हो गया था। ‘फादर ऑफ वॉल क्लॉक’ कहे जाने वाले ओधवजी अजंता, ओरपाट और ओरेवा समूह के मालिक थे। उनकी कंपनी वॉल क्लॉक के अलावा, इलेक्ट्रिक बाइक, ट्यूबलाइट, घड़ियां जैसे कई वस्तुएं बनाती थी। इसके अलावा, SugarMint की एक रिपोर्ट में ओधवजी पटेल का जीवन परिचय दिया है। वहां पीएम मोदी के साथ उनकी तस्वीर भी मौजूद है। हमने ओधवजी पटेल और राघवजी पटेल की तस्वीरों का तुलनात्मक विश्लेषण किया। 

पड़ताल के दौरान हमें इंडियन एक्सप्रेस (Indian Express) द्वारा एक नवंबर 2022 को प्रकाशित एक रिपोर्ट मिली। रिपोर्ट के अनुसार, ओधव जी राव जी पटेल के तीन बेटे प्रवीण, अशोक और जयकुश ने शुरुआत में कंपनी को आगे बढ़ाने में मदद की। इसके बाद इन तीनों भाइयों में आपस में तकरार हो गई। प्रवीण ने Orpat समूह का गठन किया, अशोक ने अजंंता ब्रांड को आगे बढ़ाया। वहीं ओधव के तीसरे बेटे जयसुख भाई ने ओरेवा समूह के नाम से कंपनी की स्थापना की। इंडिया टुडे की रिपोर्ट के अनुसार, ओरेवा समूह को ही मोरबी ब्रिज बनाने का जिम्मा सौंपा गया था। कंपनी की वेबसाइट पर दी गई जानकारी के अनुसार, ओरेवा समहू के (Oreva Group) मैनेजिंग डायरेक्टर जयसुख भाई पटेल हैं, वहीं चिंतन पटेल इसके डायरेक्टर हैं।

इसके अलावा, हमने ओरेवा समहू तथा गुजरात के मंत्री राघवजी पटेल से भी बात करने का प्रयास किया है। जवाब आने पर लेख को अपडेट किया जायेगा।

यह भी पढ़ें: क्या ऋषि सुनक ने मनमोहन सिंह की तारीफ करते हुए दिया ये बयान? एडिटेड है वायरल ग्राफिक

Conclusion

कुल मिलाकर निष्कर्ष यह निकलता है कि गुजरात के कृषि मंत्री राघवजी पटेल की तस्वीर को मोरबी पुल हादसे से जोड़कर गलत दावा शेयर किया जा रहा है।

Result: False

किसी संदिग्ध ख़बर की पड़ताल, संशोधन या अन्य सुझावों के लिए हमें WhatsApp करें: 9999499044 या ई-मेल करें: checkthis@newschecker.in

Authors

An enthusiastic journalist, researcher and fact-checker, Shubham believes in maintaining the sanctity of facts and wants to create awareness about misinformation and its perils. Shubham has studied Mathematics at the Banaras Hindu University and holds a diploma in Hindi Journalism from the Indian Institute of Mass Communication. He has worked in The Print, UNI and Inshorts before joining Newschecker.

Shubham Singh
Shubham Singh
An enthusiastic journalist, researcher and fact-checker, Shubham believes in maintaining the sanctity of facts and wants to create awareness about misinformation and its perils. Shubham has studied Mathematics at the Banaras Hindu University and holds a diploma in Hindi Journalism from the Indian Institute of Mass Communication. He has worked in The Print, UNI and Inshorts before joining Newschecker.

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें

Most Popular