रविवार, अप्रैल 14, 2024
रविवार, अप्रैल 14, 2024

होमFact Checkराहुल गांधी द्वारा खुद को दर्जी बताने के भ्रामक दावे से वायरल...

राहुल गांधी द्वारा खुद को दर्जी बताने के भ्रामक दावे से वायरल यह वीडियो अधूरा है

Authors

Believing in the notion of 'live and let live’, Preeti feels it's important to counter and check misinformation and prevent people from falling for propaganda, hoaxes, and fake information. She holds a Master’s degree in Mass Communication from Guru Jambeshawar University and has been a journalist & producer for 10 years.

Claim
राहुल गांधी ने खुद को बताया दर्जी.

Fact
नहीं, वायरल वीडियो अधूरा है.

भाषण देते कांग्रेस सांसद राहुल गांधी का एक वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा है. वीडियो को इस दावे से साझा किया जा रहा है कि “राहुल गांधी ने भाषण देते हुए खुद को दर्जी बता दिया”.

हालांकि, हमने अपनी जांच में पाया कि वायरल वीडियो अधूरा है. राहुल गांधी द्वारा दिए गए एक भाषण के अधूरे भाषण को दिखाकर यह दावा किया गया है.

वायरल वीडियो क़रीब 55 सेकेंड का है. इस वीडियो में राहुल गांधी यह कहते हुए सुनाई दे रहे हैं कि “दुनिया मुझे फैशन डिजाइनर कहती है, मगर मैं फैशन डिजाइनर नहीं हूं, मैं एक दर्जी हूं. जब मैं कपड़े को देखता हूं, मुझे आप कोई भी कपड़ा दिखा दो, किसी भी रंग का कपड़ा दिखा दो, जैसे ही मैं कपड़े को देखता हूं, मैं कपड़े को समझ जाता हूं. इसको कैसे काटना है, इसको व्यक्ति के कंधों पर कैसे डालना है, कौन सा रंग कहां जाना चाहिए. यह मेरा हुनर है, यह मेरा काम है, इसको मैं समझता हूं”.

आगे राहुल गांधी कहते हैं कि “मैं आपको कह सकता हूं कि मैं अपने काम को, अपने हुनर को बहुत अच्छी तरह समझता हूं, गहराई से समझता हूं. अब आप अच्छी तरह बात सुनिए. उस कपड़े को एक दर्जी ने बनाया था, वह दर्जी इस व्यक्ति के पिछले कमरे में छिपा हुआ है. उस दर्जी को आप बाहर निकालिए, उसे पेरिस-फ्रांस भेजिए, हम ताली बजाएंगे.”

वीडियो में राहुल गांधी के ऑडियो के अलावा अलग से हंसने का एक ऑडियो भी जोड़ा गया है. इसके अलावा टेक्स्ट में “मैं एक दर्जी हूं” भी लिखा हुआ है. साथ ही इंस्टाग्राम हैंडल TRYFUN11का लोगो भी मौजूद है.

वीडियो को वायरल दावे वाले कैप्शन के साथ फ़ेसबुक पर शेयर किया गया है. 

राहुल गांधी ने खुद को कहा दर्जी
  Courtesy: FB/LaxmanParvatiPatel

इसके अलावा यह वीडियो इसी कैप्शन के साथ X (पूर्व में ट्विटर) पर भी काफ़ी वायरल है.

राहुल गांधी ने खुद को कहा दर्जी
  Courtesy: X/VBanarasa

Fact Check/Verification  

Newschecker ने सबसे पहले वायरल वीडियो के कीफ्रेम की मदद से रिवर्स इमेज सर्च किया तो हमें समान दृश्य वाला दूसरा वीडियो द ट्रिब्यून के यूट्यूब अकाउंट से 11 जून 2018 को अपलोड किया हुआ मिला. 

 Courtesy: YT/The Tribune

हालांकि इस वीडियो में राहुल गांधी उक्त बातें करते नजर नहीं आ रहे थे, जो वायरल वीडियो में मौजूद है. बल्कि राहुल गांधी मंच से यह दावा कर रहे थे कि कोका कोला कंपनी का मालिक पहले शिकंजी बेचता था.  

इसलिए हमने ऊपर मिली जानकारी के आधार पर गूगल सर्च किया तो हमें 11 जून 2018 को दैनिक भास्कर की वेबसाइट पर प्रकाशित रिपोर्ट मिली. इस रिपोर्ट में बताया गया था कि राहुल गांधी ने नई दिल्ली के तालकटोरा स्टेडियम में पार्टी के ओबीसी सम्मलेन के दौरान कोका कोला कंपनी के मालिक द्वारा शिकंजी बेचे जाने का दावा किया था.

 Courtesy: Dainik Bhaskar

इसके बाद हमने तालकटोरा स्टेडियम में कांग्रेस पार्टी द्वारा आयोजित किए गए ओबीसी सम्मलेन का वीडियो खोजा. तो हमें कांग्रेस पार्टी के आधिकारिक यूट्यूब अकाउंट से 11 जून 2018 को लाइव किया गया वीडियो मिला. 

Courtesy: YT/INC

क़रीब 3 घंटे लंबे इस वीडियो में हमें 2 घंटे 33 मिनट से राहुल गांधी के भाषण का लंबा वीडियो मिला. राहुल गांधी के भाषण का पूरा वीडियो देखने पर हमने पाया कि उन्होंने ओबीसी सम्मलेन में अपने भाषण की शुरुआत एक कहानी से की थी. यह कहानी भारत से फ़्रांस गए एक फैशन डिजाइनर की थी, जिसका विदेशी फैशन डिज़ाइनरों ने मजाक उड़ाया था. राहुल गांधी को यह बात बुरी लगी. कुछ समय के बाद मजाक उड़ाने वालों में से एक फैशन डिज़ाइनर से जब राहुल गांधी की मुलाक़ात हुई तो उन्होंने इस घटना का ज़िक्र करते हुए कहा कि आप लोगों के सामने भूरे रंग की चमड़ी वाला व्यक्ति खड़ा हुआ इसलिए आप लोगों ने उसका मजाक उड़ाया. 

इसपर डिज़ाइनर ने भी राहुल गांधी के सामने अपना पक्ष रखा. राहुल गांधी डिज़ाइनर द्वारा कही गई उन बातों को ही लोगों को सुना रहे थे. डिज़ाइनर ने राहुल गांधी से कहा था कि “राहुल जी,दुनिया मुझे फैशन डिजाइनर कहती है, मगर मैं फैशन डिजाइनर नहीं हूं, मैं एक दर्जी हूं. जब मैं कपड़े को देखता हूं, मुझे आप कोई भी कपड़ा दिखा दो, किसी भी रंग का कपड़ा दिखा दो, जैसे ही मैं कपड़े को देखता हूं, मैं कपड़े को समझ जाता हूं. इसको कैसे काटना है, इसको व्यक्ति के कंधों पर कैसे डालना है, कौन सा रंग कहां जाना चाहिए. यह मेरा हुनर है, यह मेरा काम है, इसको मैं समझता हूं और मैं आपको कह सकता हूं कि मैं अपने काम को, अपने हुनर को बहुत अच्छी तरह समझता हूं, गहराई से समझता हूं”. 

आगे डिज़ाइनर ने उनसे कहा कि “अब आप अच्छी तरह बात सुनिए, जिस व्यक्ति को आपने हमारे पास भेजा, वह दर्जी नहीं है. जब वो व्यक्ति स्टेज पर आया तो हम दर्जियों को दो मिनट में बात समझ आ गई कि इसको कपड़े के बारें में कुछ नहीं मालूम. जिस प्रकार से ये कपड़े को पकड़ रहा था, हमें मालूम था कि इसको कपड़े के बारे में मालूम नहीं है. मगर जिस कपड़े को वह पकड़ रहा था, वह कपड़ा बहुत सुंदर था. राहुल जी, उस कपड़े को एक दर्जी ने बनाया था, वह दर्जी इस व्यक्ति के पिछले कमरे में छिपा हुआ है. उस दर्जी को आप बाहर निकालिए, पेरिस-फ्रांस भेजिए, हम ताली बजाएंगे. मगर आप हमारे सामने ऐसे व्यक्ति को भेजोगे जो अपना काम नहीं समझता है, तो हम उसका मजाक उड़ायेंगे”.

राहुल गांधी ने आगे इस कहानी का असल अर्थ बताते हुए कहा कि “हिंदुस्तान में जो काम करता है, वह पिछले कमरे में छुपा रहता है. यहां काम कोई करता है और फायदा किसी और को मिलता है”.

जांच में हमने उस इंस्टाग्राम हैंडल को भी खंगाला, जिसका लोगो वायरल वीडियो में मौजूद था. हमने उक्त अकाउंट को खंगालने पर पाया कि यह अकाउंट राहुल गांधी और अन्य कांग्रेस नेताओं के भाषण के छोटे छोटे हिस्से को व्यंग्य के रूप में शेयर करता है.

Courtesy: IG/tryfun11

Conclusion

हमारी जांच में मिले साक्ष्यों से साफ़ है कि वायरल वीडियो अधूरा है. क़रीब पांच साल पहले एक कार्यक्रम में राहुल गांधी द्वारा दिए गए भाषण के अधूरे हिस्से को दिखाकर कहा जा रहा है कि उन्होंने खुद को दर्जी बताया.

Result: Missing Context

Our Sources

Video Published by The Tribune Youtube account on 11th June 2018
Article Published by Dainik Bhaskar on 11th June 2018
Video Streamed by INC Youtube account on 11th June 2018

किसी संदिग्ध ख़बर की पड़ताल, संशोधन या अन्य सुझावों के लिए हमें WhatsApp करें: 9999499044 या ई-मेल करें: checkthis@newschecker.in

फैक्ट-चेक और लेटेस्ट अपडेट्स के लिए हमारा WhatsApp चैनल फॉलो करें: https://whatsapp.com/channel/0029Va23tYwLtOj7zEWzmC1Z

Authors

Believing in the notion of 'live and let live’, Preeti feels it's important to counter and check misinformation and prevent people from falling for propaganda, hoaxes, and fake information. She holds a Master’s degree in Mass Communication from Guru Jambeshawar University and has been a journalist & producer for 10 years.

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें

Most Popular