सोमवार, मई 16, 2022
सोमवार, मई 16, 2022

होमFact Checkयूपी में बेरोजगारों को सरकार द्वारा नहीं मिल रहा 1500 रुपये प्रति...

यूपी में बेरोजगारों को सरकार द्वारा नहीं मिल रहा 1500 रुपये प्रति माह का बेरोजगारी भत्ता, भ्रामक दावा हुआ वायरल

News18 तथा Patrika ने अपने लेखों में यह दावा किया कि उत्तर प्रदेश की योगी सरकार द्वारा प्रदेश के बेरोजगारों को 1500 रुपये प्रतिमाह का बेरोजगारी भत्ता दिया जा रहा है.

News18 द्वारा प्रकाशित लेख: https://hindi.news18.com/news/jobs/up-berojgari-bhatta-unemployed-in-up-are-getting-1500-rupees-per-month-know-how-to-apply-3859279.html

Patrika द्वारा प्रकाशित लेख: https://www.patrika.com/lucknow-news/up-government-schemes-for-students-and-unemployed-students-7001140/

भारत में चुनावों के पूर्व मुफ्त में लाभ देने की घोषणा एक ऐसी सटीक तकनीक है जो कई दलों की चुनावी नैय्या पार लगा चुकी है. चुनावों के पूर्व, लगभग सभी राजनैतिक दल चुनाव जीतने के बाद जनता को मुफ्त में बिजली, पानी, घर आदि देने के लोक-लुभावने वादे करते रहते हैं.

भारत में बेरोजगारी की समस्या देश के सामने खड़ी प्रमुख चुनौतियों में से एक है. निजी उपक्रमों में योग्यता की अपेक्षाकृत कमी के कारण निराश होकर खाली हाथ लौटने वाले युवक, सरकारी नौकरियों में रिक्तियों में गिरावट तथा बढ़ती प्रतिस्पर्धा की वजह से भी मात खा जाते हैं. भारतीय शिक्षा प्रणाली विशेषकर सरकारी विद्यालयों एवं कॉलेजों का भी इस दुखद परिस्थिति को यथावत बनाये रखने में बहुत बड़ा हाथ है.

इसी क्रम में उत्तर प्रदेश के बेरोजगारों के लिए खुशखबरी (Unemployment Allowance) बताते हुए News18 तथा Patrika ने अपने लेखों में यह दावा किया कि उत्तर प्रदेश की योगी सरकार द्वारा प्रदेश के बेरोजगारों को 1500 रुपये प्रतिमाह का बेरोजगारी भत्ता दिया जा रहा है.

उत्तर प्रदेश में चुनावों के मद्देनजर हालिया दिनों में शेयर की गई कुछ भ्रामक जानकारियों के सच यहां (1, 2, 3, 4) देखे जा सकते हैं.

Fact Check/Verification

उत्तर प्रदेश की योगी सरकार द्वारा प्रदेश के बेरोजगारों को 1500 रुपये प्रतिमाह का बेरोजगारी भत्ता दिए जाने के नाम पर शेयर किये जा रहे इस दावे की पड़ताल के लिए, हमने उत्तर प्रदेश सरकार की सेवायोजन विभाग की आधिकारिक वेबसाइट को खंगाला. सेवायोजन विभाग की वेबसाइट पर हमें विभाग द्वारा संचालित कई योजनाओं का जिक्र मिला. हालांकि, पूरी वेबसाइट पर हमें कहीं भी बेरोजगारों को 1500 रुपये प्रतिमाह का बेरोजगारी भत्ता दिए जाने से संबंधित किसी भी योजना का कोई जिक्र नहीं मिला.

उत्तर प्रदेश की योगी सरकार द्वारा प्रदेश के बेरोजगारों को 1500 रुपये प्रतिमाह का बेरोजगारी भत्ता

बता दें कि उक्त वेबसाइट में कई खामियां हैं, मसलन उत्तर प्रदेश जैसे हिंदी भाषी प्रदेश में युवाओं को रोजगार देने में सहायता के नाम पर संचालित उक्त वेबसाइट को हिंदी में देखने का जो विकल्प वेबसाइट पर मौजूद है, वह कार्यरत नही है. इसके साथ ही आपने यह भी देखा होगा कि कई सरकारी वेबसाइट्स का डाटा समय से अपडेट नही किया जाता है, लेकिन विभिन्न सरकारें सोशल मीडिया विशेषकर ट्विटर के माध्यम से विभिन्न योजनाओं की घोषणायें एवं उनसे जुड़ी उपलब्धियां भी शेयर करती रहती हैं, इसी वजह से हमने सेवायोजन विभाग के आधिकारिक ट्विटर हैंडल्स को भी खंगाला.

बता दें कि सेवायोजन विभाग की आधिकारिक वेबसाइट पर मौजूद जानकारी के अनुसार, विभाग ट्विटर पर ‘Employment Deptt. UP’ नाम से उपस्थित जरूर है, लेकिन उक्त हैंडल द्वारा आखिरी ट्वीट 13 जून, 2018 को शेयर किया गया है. हालांकि विभाग फेसबुक पर गाहे-बगाहे कुछ अपडेट्स जरूर शेयर करता है. बता दें कि विभाग द्वारा फेसबुक पर शेयर किये गए पोस्ट्स में भी हमें कोई ऐसा पोस्ट प्राप्त नहीं हुआ, जिससे News18 तथा Patrika द्वारा प्रकाशित लेखों में दी गई जानकारी की तस्दीक हो सके. गौरतलब है कि विभाग की वेबसाइट पर शेयर की गई LinkedIn प्रोफाइल अब मौजूद नहीं है तथा इनके आधिकारिक यूट्यूब चैनल पर आखिरी वीडियो 22 सितंबर, 2017 को शेयर किया गया था.

इसके बाद हमने ट्विटर एडवांस्ड सर्च फीचर की सहायता से ‘1,500 भत्ता’, ‘भत्ता’, ‘बेरोजगारों’, ‘बेरोगारी भत्ता’ कीवर्ड्स को उत्तर प्रदेश सरकार, मुख्यमंत्री कार्यालय, मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ एवं उनके निजी कार्यालय के आधिकारिक ट्विटर हैंडल्स द्वारा शेयर किये गए ट्वीट्स में ढूंढा. हालांकि इस प्रक्रिया में भी हमें कोई ऐसी जानकारी प्राप्त नही हुई, जिससे News18 तथा Patrika द्वारा प्रकाशित लेखों में दी गई जानकारी की तस्दीक हो सके.

उक्त हैंडल्स द्वारा ‘1,500 भत्ता’, ‘भत्ता’, ‘बेरोजगारों’, ‘बेरोगारी भत्ता’ कीवर्ड्स को लेकर शेयर किये गए ट्वीट्स नीचे देखे जा सकते हैं:

Yogi Adityanath: 1,500 भत्ता, भत्ता, बेरोजगारों, बेरोगारी भत्ता

Yogi Adityanath Office: 1,500 भत्ता, भत्ता, बेरोजगारों, बेरोगारी भत्ता

Government of UP: 1,500 भत्ता, भत्ता, बेरोजगारों, बेरोगारी भत्ता

CM Office, GoUP: 1,500 भत्ता, भत्ता, बेरोजगारों, बेरोगारी भत्ता

हमने उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के सूचना सलाहकार रहीस सिंह से भी संपर्क किया. उन्होंने हमें यह जानकारी दी कि प्रदेश सरकार ने अभी बेरोजगारी भत्ते की घोषणा नही की है. रहीस सिंह ने हमें यह भी बताया कि प्रदेश सरकार बेरोजगार युवाओं के लिए रोजगार मेला, निजी तथा सरकारी क्षेत्रों में अवसर, रोजगार के लिए ऋण तथा अन्य योजनायें चला रही है.

बता दें कि इस बाबत हमने News18 के रीजनल एडिटर तथा सेवायोजन विभाग के अधिकारियों से भी संपर्क साधने का प्रयास किया, लेकिन संपर्क स्थापित नहीं हो सका. सेवायोजन विभाग या News18 की तरफ से आधिकारिक जवाब आने पर हम अपने लेख में उसे शामिल करेंगे.

Conclusion

इस तरह हमारी पड़ताल में यह बात साफ हो जाती है कि News18 तथा Patrika द्वारा प्रकाशित लेखों में उत्तर प्रदेश की योगी सरकार द्वारा प्रदेश के बेरोजगारों को 1500 रुपये प्रतिमाह का बेरोजगारी भत्ता दिए जाने का यह दावा भ्रामक है.

Result: Misleading

Our Sources:

Official Website of Sewayojan Department, Government of Uttar Pradesh: https://sewayojan.up.nic.in/aboutus.aspx#

Rahees Singh, Media Advisor, UP CM Yogi Adityanath

Twitter Advanced Search

किसी संदिग्ध ख़बर की पड़ताल, संशोधन या अन्य सुझावों के लिए हमें WhatsApp करें: 9999499044 या ई-मेल करें: [email protected]

Saurabh Pandey
Saurabh Pandey
A self-taught social media maverick, Saurabh realised the power of social media early on and began following and analysing false narratives and ‘fake news’ even before he entered the field of fact-checking professionally. He is fascinated with the visual medium, technology and politics, and at Newschecker, where he leads social media strategy, he is a jack of all trades. With a burning desire to uncover the truth behind events that capture people's minds and make sense of the facts in the noisy world of social media, he fact checks misinformation in Hindi and English at Newschecker.
Saurabh Pandey
Saurabh Pandey
A self-taught social media maverick, Saurabh realised the power of social media early on and began following and analysing false narratives and ‘fake news’ even before he entered the field of fact-checking professionally. He is fascinated with the visual medium, technology and politics, and at Newschecker, where he leads social media strategy, he is a jack of all trades. With a burning desire to uncover the truth behind events that capture people's minds and make sense of the facts in the noisy world of social media, he fact checks misinformation in Hindi and English at Newschecker.

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें

Most Popular