सोमवार, जून 17, 2024
सोमवार, जून 17, 2024

होमFact Checkकेरल के ईसाई समुदाय से जुड़ा झड़प का एक वीडियो भ्रामक दावे...

केरल के ईसाई समुदाय से जुड़ा झड़प का एक वीडियो भ्रामक दावे के साथ वायरल

सोशल मीडिया पर एक वीडियो शेयर कर दावा किया जा रहा है कि केरल की हिंदू लड़कियों ने एक मुस्लिम व्यक्ति को उसके अभद्र व्यवहार के कारण उसपर हमला कर दिया। वीडियो में महिलाओं के एक समूह द्वारा एक व्यक्ति को पीटते हुए देखा जा सकता है। 

Courtesy: Twitter@sanjay16sanjay

(आर्काइव लिंक)

Fact Check/Verification

दावे की सत्यता जानने के लिए हमने Invid टूल की मदद से वायरल वीडियो के कुछ कीफ्रेम बनाए। इसके बाद एक कीफ्रेम को गूगल रिवर्स सर्च किया। हमें 6 जनवरी 2023 को मलयाली भाषा में प्रकाशित एक रिपोर्ट मिली। रिपोर्ट के अनुसार, वीडियो केरल के त्रिशुर जिले का है। जहां इरिंजलकुडा (Irinjalakuda) ध्यान केंद्र के सामने अभद्र व्यवहार करने के कारण 11 महिलाओं को हिरासत में ले लिया गया था।  .

इसकी मदद लेते हुए हमने कुछ कीवर्ड की सहायता से गूगल सर्च किया। हमें ONManorama की वेबसाइट पर 7 जनवरी को प्रकाशित एक रिपोर्ट मिली। रिपोर्ट के मुताबिक, Irinjalakuda पंथ से संबंध तोड़ने के कारण एक व्यक्ति पर 11 महिलाओं ने हमला कर दिया। जिसके बाद इन महिलाओं को गिरफ्तार कर लिया गया।  

Courtesy:ONManorama

रिपोर्ट के अनुसार, केरल के त्रिशूर जिले के इरिंजलकुडा में मौजूद एक ईसाई पंथ गलत वजहों से एक बार फिर चर्चा में है। इस पंथ की अनुयायी 11 महिलाओं को हिरासत में लिया गया है। रिपोर्ट में बताया गया है कि अलूर पुलिस ने इन महिलाओं पर Emperor Emmanuel Church  से नाता तोड़ने वाले एक व्यक्ति की हत्या के प्रयास सहित अन्य मामले दर्ज किए हैं। बतौर रिपोर्ट, महिलाओं ने गिरोह बनाकर शाजी नाम के एक व्यक्ति के साथ मारपीट की थी।

रिपोर्ट के अनुसार, शाजी ने पुलिस को दिए अपने बयान में बताया है कि लगभग 50 लोगों ने उसके साथ मारपीट की। हालांकि, रिपोर्ट की माने तो महिलाओं ने दावा किया कि उस व्यक्ति ने तस्वीरों के साथ छेड़छाड़ कर उसका दुष्प्रचार किया था, जिस कारण उसके साथ मारपीट हुई।  

इसके अलावा हमें AsiaNet News पर प्रकाशित एक वीडियो रिपोर्ट मिली। इस रिपोर्ट में मौजूद वीडियो में वायरल वीडियो का अंश देखा जा सकता है। रिपोर्ट के अनुसार, शाजी अपने बेटे साजन और पत्नी एशलिन सहित अन्य रिश्तेदारों के साथ कार से यात्रा कर रहे थे। इसी बीच मुरियाद के पास इन लोगों पर भीड़ द्वारा हमला किया गया। रिपोर्ट की माने तो शाजी का परिवार गैर धार्मिक है। अपनी कार से यात्रा कर रहे साजन को महिलाओं की एक भीड़ ने एक महिला की नग्न तस्वीर को कथित रूप से प्रसारित करने के आरोप में रोका था। 

Courtesy: AsiaNet News

 Kairali TV के यूट्यूब चैनल पर भी 6 जनवरी को इस घटना से संबंधित ऐसी ही एक रिपोर्ट प्रकाशित की गई है।

पड़ताल के दौरान अलूर पुलिस स्टेशन के एक अधिकारी ने Newschecker को बताया, “हमें तस्वीरों के साथ छेड़छाड़ के संबंध में शिकायत मिली है और हम इस मामले की जांच कर रहे हैं। उन तस्वीरों को विदेशी आईपी पते से अपलोड किया गया है। इस मामले में न तो अपराधियों और न ही हिंसा से पीड़ित व्यक्ति के किसी राजनीतिक पार्टी से संबंध होने की पुष्टि हुई है। जिस व्यक्ति पर हमला किया गया, उसके तस्वीरों से छेड़छाड़ के मामले में शामिल होने के आरोपों पर भी पुलिस जांच कर रही है।”

इसके अलावा Newschecker ने Emperor Emmanuel Church के जनसंपर्क प्रभारी डॉ एडिसन से भी बात की। उन्होंने बताया, “ शाजी और उनके परिवार ने चर्च छोड़ने के बाद अलग-अलग तरीकों से पंथ में विश्वास रखने वालों को बदनाम करने की कोशिश की। शाजी ने इस पंथ की एक सम्मानित महिला की तस्वीरों को एडिट कर उसे शेयर किया। जिस कारण महिलाएं उससे नाराज हो गईं थी। ”

Conclusion

हमारी पड़ताल में स्पष्ट है कि केरल में महिलाओं द्वारा एक व्यक्ति की पिटाई किए जाने का वीडियो भ्रामक दावे के साथ वायरल है। इस मामले में कोई हिंदू-मुस्लिम एंगल नहीं है। 

Result: False

(यह फैक्ट चेक मूलत: Newschecker Malayalam के लिए सैबलू थॉमस द्वारा लिखा गया था)

Sources
OnManorama news report, January 7, 2023
A news report in Asianet news website, January 6, 2023
Conversation with Aloor police station
Conversation with Dr. Edison, Emperor Emmanuel Church

किसी संदिग्ध ख़बर की पड़ताल, संशोधन या अन्य सुझावों के लिए हमें WhatsApp करें: 9999499044  या ई-मेल करें: checkthis@newschecker.in

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें

Most Popular